मेरा बिलासपुर

सियाराम और गुटीय राजनीति का शिकार हुआ राजेन्द्र…धरम

dharam kausikबिलासपुर—प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने राजेन्द्र तिवारी आत्मदाह मामले में बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक को जिम्मेदार बताया हैं। पत्रकारों से चर्चा करते हुए धरमलाल कौशिक ने कहा कि राजेन्द्र तिवारी की मौत कांग्रेस की अंतर्कलह और बिल्हा विधायक की ओछी राजनीति के कारण हुई है।

             प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने राजेन्द्र तिवारी की मौत के लिए कांग्रेस नेता बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक को जिम्मेदार ठहराया है। पत्रकारों बातचीत करते हुए धरमलाल ने कहा कि किसके कहने पर थाने में राजेन्द्र तिवारी के खिलाफ रिपोर्ट लिखा गया । मारपीट किसने किया था। प्रतिनिधि को बचाने के लिए कौन सामने आया। धरमलाल ने कहा कि सियाराम पहले अपना दामन देखें। इसके बाद कीचड़ उछाले। धरम ने बताया कि आत्मदाह से लेकर राजेन्द्र की मौत तक यदि कोई जिम्मेदार है तो वह है बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक ।

             भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि राजेन्द्र तिवारी कांग्रेस पार्टी की अन्तर्कलह,गुटबाजी और सियाराम कौशिक की कुटिल राजनीति का शिकार हो गया है। अब सब कुछ सामने आने लगा है तो बिल्हा विधायक राजनैतिक प्रतिद्वन्दता का नाम देकर अपना दोष दूसरों के सिर मढ़ना शुरू कर दिया है। धरमलाल कौशिक ने कहा कि जांच हो रही है जो दोषी होगा उसका नाम सामने आ जाएगा।

               मालूम हो कि 31 अक्टूबर को मरवाही सदन में सियाराम कौशिक ने एक पत्र वार्ता में राजेन्द्र तिवारी के आत्मदाह से लेकर मौत तक की घटना का जिम्मेदार धरमलाल कौशिक को बताया था। पत्र वार्ता में उन्होंने सीजी वाल के सवाल पर बताया कि अर्जुन सिसोदिया के कंधे का इस्तेमाल कर धरमलाल कौशिक राजेन्द्र तिवारी को परेशान कर रहे थे। सिसोदिया की प्रताड़ना से तंग आकर राजेन्द्र तिवारी ने आत्मदाह कर लिया। सियाराम ने बताया था कि धरमलाल के इशारे पर अर्जुन सिसोदिया काम करता है। जो कुछ भी हुआ उसके लिए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष जिम्मेदार हैं। सियाराम ने बताया था कि अर्जुन सिसोदिया को भाजपा नेता का संरक्षण हासिल है।

कांग्रेस ने की जांच की मांग

           आज अपनी प्रतिक्रिया में धरम लाल कौशिक ने कहा कि सच्चाई यह है कि राजेन्द्र तिवारी कांग्रेस की गुटीय राजनीति और सियाराम के राजनीतिक षड़यंत्र का शिकार हो गया है। जैसे जैसे जांच की कार्रवाई प्रगति कर रही है सियाराम की बेचैनी बढ़ती जा रही है। जल्द ही सब कुछ सबके सामने आ जाएगा। उन्होने कहा कि राजेन्द्र तिवारी से ना मेरा मतलब है और ना ही उसे जानता ही हूं

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS