मेरा बिलासपुर

सियाराम ने मांगा मुआवजा…

IMG_20150701_183903बिलासपुर—आज मंथन सभागार में कलेक्टर की अगुवाई में किसानों के हितों के मद्देनजर जल उपयोगिता समिति की बैठक हुई। बैठक में जिला कलेक्टर समेत आलाधिकारियों के अलावा मरवाही,बिल्हा और मस्तूरी के विधायक भी शामिल हुए। इस दौरान मानसून के मद्देनजर किसानों के हितों को लेकर घंटो चर्चा हुई। उपस्थित सभी विधायकों ने क्षेत्र की समस्याओं को कलेक्टर के सामने रखा।

               मंथन सभागार में आज जल उपयोगिता समिति की बैठक हुई। बैठक में मरवाही विधायक अमित जोगी और मस्तूरी विधायक दिलिप लहरिया के अलावा बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक ने किसानों के हितों को लेकर आवाज बुलंद किया। कलेक्टर की अध्यक्षता में आयोजित जल उपयोगिता समिति की बैठक में मरवाही और मस्तूरी विधायक कुछ चुप नजर आए लेकिन बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक ने प्रशासन पर जमकर प्रश्नों और समस्याओं की झड़ी लगाई।

                          बैठक के बाद सियाराम कौशिक ने बताया कि जिला प्रशासन अपने विवेक से कम सरकार के इशारे पर कुछ ज्यादा ही काम कर रहा है। जल उपयोगिता बैठक में किसानों के हितों को लेकर ऊंची ऊंची बात की गयी लेकिन उनकी समस्याओं को लेकर जिला प्रशासन गंभीर नज़र नहीं आया। कौशिक ने बताया कि आज से चालिस साल पहले किसानों की जिस जमीन को पोंडी जलाशय के लिए सरकार ने अधिगृहित किया था आज तक उसका मुआवजा नहीं मिला है। बैठक में इस प्रश्न का उत्तर भी प्रशासन ने नहीं दिया।

                    सियाराम कौशिक ने बताया कि हर बार बैठक ऐसे ही होता है। समस्याओं का निदान कभी नहीं होता। पोंसरी जलाशय के पानी ने सैकड़ों किसानों को मुसीबत की भठ्ठी में झोंक दिया है। चार पांच दिन की बारिश से जलाशय का पानी ओव्हर फ्लों होकर किसानों की जमीन को चपेट में ले लिया है।  आस पास के खेत डूब गए हैं। हमेशा से यही होता आ रहा है। बार बार ध्यान दिलाने के बाद भी जिला प्रशासन चुप है। कौशिक ने बताया कि हमने प्रभावित किसानों के लिए मुआवजा की मांग की है। साथ ही जानना चाहा कि क्या इन किसानों की जमीन को डूब क्षेत्र शामिल किया जाएगा। इसका भी उत्तर हमें नहीं मिला है।

पूर्व मंत्री ने न्यायधानी को बताया भू-माफियों की राजधानी..राजस्व मंत्री को ठहराया जिम्मेदार..कहा ..यहां तो जमीन उड़ती है..खतरे में SBR कालेज की जमीन..अपोलो की जमीन को सरकारी पर बैठाया

                सियाराम कौशिक ने बैठक के दौरान सरकार की जैविक खाद योजना और बीज वितरण में भारी भ्रष्टाचार और लापरवाही का आरोप लगाते हुए जानना चाहा कि जिला प्रशासन ने अब तक शासन ने कितने किसानों को कम्पोस्ट खाद निर्माण के लिए योजना से जोड़ा है। उन्होंने पदेन अध्यक्ष से पूछा कि अब तक कम्पोस्ट खाद निर्माण के लिए कितने टैंक बनाए गये हैं। बीज वितरण को लेकर भी कौशिक ने जिला प्रशासन की कार्यशैली पर नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने कलेक्टर से बताया कि योजनाओं की मानिटरिंग ठीक से नहीं हो रही है। यदि होती तो किसानों को बीज समस्या का सामना नहीं करना पड़ता । उन्होंने कहा कि बिल्हा विधआनसभा में अभी तक बीज वितरण को लेकर कोई ठोस पहल नहीं हुई है जिसके चलते किसान परेशान हैं। यदि जैविक खाद निर्माण के लिए टैंक बनता तो कलेक्टर के अलावा मुझे भी जानकारी होती।

                 पत्रकारों से चर्चा करते हुए सियाराम कौशिक ने बताया कि कागजों पर जिला प्रशासन का काम ठीक ठाक चल रहा है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS