मेरा बिलासपुर

सीवीआरयू को बी.वोक के साथ एम.वोक की मान्यता

cvru new

बिलासपुर । वि.वि. अनुदान आयोग ने डाॅ.सी.वी.रामन् वि.वि. को बी.वोक.के साथ एम.वोक की मान्यता प्रदान की है। अब सीवीआरयू  में स्थापित दीनदयान कौशल केंद्र में बी वोक इन टेली कम्युनिकेशन, बी.वोक इन रिटेल मेनेजमेंट इन आईटी और बी.वोक इन मैन्युफैक्चरिंग पढ़ाई होगी साथ ही इन्हीं तीन विषयों में एम.वोक की पढ़ाई भी कराई जाएगी। इसके साथ इन विषयों से संबंधित शोधकार्य को भी जोड़े जाने की अनुमति दी गई है।
इस संबंध में जानकारी देते हुए सीवीआरयू  के कुलसचिव शैलेष पाण्डेय ने बताया कि केंद्र सरकार की मंशा के अनुरूप  मानव संसाधन मंत्रालय और यूजीसी ने सेंटर फाॅर नाॅलेज एक्यूविजिशन एंड अपग्रेटेशन और स्कीड ह्यूमन एबिलिट्सि एंड लाइवली वुड स्थापित करने के लिए प्रस्ताव मांगे थे। वि.वि. अनुदान आयोग ने छत्तीसगढ़ के सिर्फ एक डाॅ.सी.वी.रामन् वि.वि. को सेंटर फाॅर नाॅलेज एक्यूविजिशन एंड अपग्रेटेशन और स्कीड ह्यूमन एबिलिट्सि एंड लाइवली वुड स्थापित करने की अनुमति दी है। इसके माध्यम से मेन पावर तैयार किया जाना है। इन सेंटरों के माध्यम से डिप्लोमा, एडवांस डिप्लोमा, बैचलर आॅफ वोकेशनल एजुकेशन, मास्टर व रिसर्च स्तर तक षिक्षा का प्रावाधान किया गया है। कौशल केंद्र स्थापित करने की अनुमति मिलने के बाद वि.वि. में तैयारी की जा रही थी।

इस दौरान यूजीसी ने वि.वि. को बैचलर कोर्स के साथ मास्टर कोर्स पढ़ाने के अनुमति दी है। साथ ही इन कोर्स को शोधकार्य से जोड़ा जाएगा इस आशय का पत्र भी यूजीसी से आया है। श्री पाण्डेय ने बताया कि बी.वोक में तीन विषयों में स्नातक की पढ़ाई होगी इसमें इन टेली कम्युनिकेशन, बी.वोक इन रिटेल मेनेजमेंट इन आईटी और बी.वोक इन मैन्युफैक्चरिंग शामिल है। इसी तरह स्नातकोत्तर कोर्स भी इसमें बी.वोक इन टेली कम्युनिकेशन, बी.वोक इन रिटेल मेनेजमेंट इन आईटी और बी.वोक इन मैन्युफैक्चरिंग विषय पढ़ाए जाएंगे। श्री पाण्डेय ने बताया कि 12वी योजना के तहत देश भर में 100 दीनदयाल कौशल केंद्र स्थापित किये जाने का लक्ष्य रखा गया है। इसकी प्रक्रिया में यूजीसी ने प्रस्ताव मंगाया गया था, जिसमें देश भर के 708 वि.वि. व काॅलेजों ने प्रस्ताव दिया था। हर प्रदेश व वि.वि. के लिए गौरव की बात है कि प्रदेश में एक डाॅ.सी.वी.रामन् वि.वि. को चयन किया गया। श्री पाण्डेय ने कहा कि हम सरकार व यूजीसी की कल्पना को साकार रूप देंगे और युवाओं के लिए बेहतर से बेहतर काम करेंगे।

अलग अलग थानों में चोरी...लाखों रूपयों के साथ सोना चांदी पार

cvru pandey
बड़े उद्योगों में जाने का रास्ता खुला-कुलसचिव
श्री पाण्डेय का कहना है कि छत्तीसगढ़ औद्योगिक हब के रूप में देश के नक्शे में उभर रहा हैं। इस बात को देखते हुए ही सीवीआरयू को बी.वोक और एम वोक की मान्यता दी गई है। इससे उद्योग जगत को लाभ मिलेगा और प्रदेश का सपना साकार होगा। कोर्स के बाद यहां के विद्यार्थी,टाटा, महेंद्रा,सूजुकी,होंडा और देश के मैकेनिकल क्षेत्र के बड़े उद्योगों में जा सकेंगे। यह अवसर भी प्रदेश के विद्यार्थियों के लिए बड़ा अवसर है,जिससे उन्हें अच्छा प्लेटफार्म मिल रहा है। श्री पाण्डेय ने बताया कि खासबात यह भी है कि हम इन विषयों के रिसर्च को शामिल कर सकेंगे।
उद्योगों की आवश्यकता के अनुरूप-डाॅ.दुबे
सीवीआरयू के प्रभारी कुलपति डाॅ.आर.पी.दुबे ने बताया कि टेली कम्युनिकेशन, बी.वोक इन रिटेल मेनेजमेंट इन आईटी और बी.वोक इन मैन्युफैक्चरिंग एैसे सेक्टर हैं,जिनके माध्यम से उद्योगों के जरूरत के अनुसार दक्ष युवा कार्य सीखकर निकलेंगे। इसमें मुख्य रूप से मैन्युफेक्चरिंग में वेल्डिंग, सीएमसी,शीट मेटल वर्क, ड्राफ्टिंग आदि कार्य के लिए स्नातक स्तर पर कुशल मैनपावर की डिमांड पूरी हो जाएगी। इसी तरह टेली कम्युनिकेशन फाईबर आप्ट्रिकल केबल टेक्नीशियन, नेटवर्क इंजीनियर,ब्रांड बैड इस्टालर,पावर सिस्टम इंजीनियरिंग में रोजगार मिल सकेगा।

 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS