मेरा बिलासपुर

सीवीआरयू में होगी अनुकृति की उच्च शिक्षा

namkarad karikaram (3)बिलासपुर—रेलवे परिक्षेत्र के बंगला यार्ड में 15 दिवस पूर्व एक मासूम बच्ची लावारिस हालत में पड़ी थी। जिसे देखकर एक राहगीर ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने तत्परता से कार्यवाही करते हुए  मासूम बच्ची को स्वयंसेवी संस्था मातृछाया को सौंपी दी। आज स्थानीय देवकीनंदन सभागृह में  बच्ची का नामकरण संस्कार किया गया। नाम लाटरी सिस्टम से किया गया। लोग अब बच्ची को अनुकृति नाम से जानेंगे। उपस्थित लोगों ने भी नाम को खुले दिल स्वीकार किया है।

                    नामकरण संस्कार कार्यक्रम को संबोधित करते हुए महापौर किशोर राय ने कहा कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ आंदोलन को जन-जन तक पहुंचाने की आवश्यकता है।  इसे जन आंदोलन के रूप में लेना होगा। बनाएं। बेटा-बेटी में भेदभाव न हो। बेटी घर की लक्ष्मी होती है। एक लड़की पढ़ती है, तो दो परिवारों को शिक्षित करती है। भ्रूण हत्या एक सामाजिक कलंक है। उन्होंने कहा कि स्थानीय संचार माध्यम  , जिला प्रशासन और शहरवासियों की भावनात्मक पहल से आज अनुकृति का नामकरण किया गया। समाज के लिए एक अच्छा संदेश है।

               महापौर ने कहा कि हमेशा से ही महिला घर की केन्द्र बिन्दु रही है। अपना पूरा जीवन परिवार के देख-रेख में खर्च कर देती है। उन्होंने ऐसे बच्चियों को हर संभव मदद करने की बात कही। कलेक्टर अन्बलगन पी. ने कहा कि इस अनुकरणीय कार्यक्रम में शामिल होकर अपने आप पर फक्र महसूस कर रहा हूं। जिसमें पारिवारिक माहौल में लोगों की सहभागिता है। यह सबकी बेटी है। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रम हमेशा होते रहना चाहिए।

बिल्डर के खिलाफ चक्काजाम की चेतावनी

                    कलेक्टर ने कहा कि बच्ची के नाम से एक बैंक एकाउण्ट खोला जाएगा। उसके भविष्य के लिए जो भी राशि मिलेगी, उसके खाते में जमा की जायेगी। कार्यक्रम को डॉ.सी.वी.रमन यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार  शैलेष पाण्डेय ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि बच्ची बढ़ेगी तो विकास ही गढ़ेगी।  पाण्डेय ने कहा कि उनकी संस्था  बच्ची की ना केवल शिक्षा और दीक्षा बल्कि हर मोड़ और आवाज पर उसके साथ रहेगी। वह जो बनना चाहेगी उसके सपनों को रमन विश्वविद्यालय पूरा करने का प्रयास करेगा।

                   कार्यक्रम में विधिविधान के साथ बच्ची का नामकरण किया गया। बच्ची का प्रारंभिक से हाईस्कूल तक की शिक्षा आधार शिला विद्या मंदिर और उच्च शिक्षा रमन विश्वविद्यालय  में होगी।  इस मौके पर मातृछाया के अध्यक्ष श्री सुरेन्द्र गुम्बर ने संस्था के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।

         कार्यक्रम में सीईओ जिला पंचायत सवेश्वर नरेन्द्र भूरे समेत समाज सेवी संस्था के पदाधिकारी, नगर के गणमान्य नागरिक और महिलाएं बड़ी संख्या में उपस्थित थी।

 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS