मेरा बिलासपुर

सूखा क्षेत्र में राहत कार्य तत्काल शुरू करें…राउत

shri raut dwara baithak (1)बिलासपुर–अपर मुख्य सचिव एवं जिले के प्रभारी सचिव एम.के.राउत ने मंथन सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर विभागीय कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने सूखाग्रस्त गांवों में मनरेगा के तहत् संचालित कार्यों के लिए आवश्यक दिशा निर्देश भी दिया। उन्होंने कहा कि जिन गांवों में अब तक रोजगारमूलक कार्य शुरू नहीं हुए हैं, वहां तत्काल कार्य चालू करें।

           मंथन सभाकक्ष में आयोजित बैठक में श्राउत ने जिले के सूखा प्रभावित तहसीलों में विभिन्न विभागों के तहत् चल रहे कार्यों की जानकारी ली। कलेक्टर  अन्बलगन पी. ने बताया कि जिले में कोटा एवं तखतपुर को छोड़कर शेष सभी 6 तहसीलों को सूखा घोषित किया गया है। राउत ने फसलों की कटाई के आधार पर सूखे का आकलन करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि सूखा प्रभावित गांवों में नरेगा के तहत् 150 की जगह 200 दिनों का काम देने के लिए शासन स्तर पर कार्यवाही की जायेगी। सूखा प्रभावित मरवाही, गौरेला, पेण्ड्रा तहसील में मनरेगा के तहत् मजदूरी भुगतान तत्काल सुनिश्चित करने के निर्देश भी कलेक्टर को दिये।

                        उन्होंने सूखा प्रभावित गांवों में वन, सिंचाई, पी.डब्ल्यू.डी., कृषि, पीएचई, उद्यानिकी आदि विभागों के कार्यों की जानकारी भी ली। मनरेगा के तहत् नये तालाब, पुराने तालाबों का गहरीकरण, कुआं निर्माण आदि के कार्य जिले में किये जा रहे हैं। राउत ने कुआं निर्माण कार्य अधिक से अधिक कराने पर बल दिया।

                  प्रभारी सचिव ने अधिकारियों से कहा कि कोई भी नलजल बिजली बिल नहीं पटाने के कारण बंद न रहे।स्वास्थ्य विभाग के तहत् डाक्टर, नर्स एवं दवाओं की जानकारी ली। उन्होंने विभिन्न सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में ब्लड स्टोरेज यूनिट को चालू करने के निर्देश दिए। नगर निगम बिलासपुर में सिवरेज सालिड वेस्ट मैनजमेंट और नगर में सफाई व्यवस्था की जानकारी ली।

चैयरमैन नायक ने कहा- भुगतान की लिमिट बढाएंगे..भूपेश सरकार ने बनाया रिकार्ड...किसानों की आर्थिक स्थिति ऐसे बदली

नया बनेगा प्रशिक्षण केन्द्र

nirikchad shri raut dwara (5) जिले के प्रभारी और पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के सचिव एम.के.राउत ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास प्रशिक्षण केन्द्र सरकण्डा का निरीक्षण कर आवश्यक निर्देश दिया। राउत ने साल 1961 में बनाये गये प्रशिक्षण भवन को तोड़कर नये भवन बनाने के लिए प्रस्ताव तैयार करने को कहा है। नये भवन में प्रशिक्षण के साथ-साथ प्रशिक्षार्थियों के लिए हॉस्टल का भी निर्माण किया जाएगा।

                             प्रशिक्षण केन्द्र में महिला एवं पुरूष छात्रावास, प्राचार्य और स्टॉफ के लिए आवास 02 करोड़ 37 लाख रूपये स्वीकृत हुए है। राउत ने प्रस्तावित निर्माण स्थल का जायजा लिया। उन्होंने प्रशिक्षण केन्द्र में संचालित छात्रावास, कम्प्यूटर कक्ष, मेस का निरीक्षण किया। मनरेगा के तहत् नवनियुक्त तकनीकी सहायकों के प्रशिक्षण में पहुंचकर प्रशिक्षार्थियों से बातचीत कर आवश्यक टिप्स भी दिये।

                                             निरीक्षण के दौरान जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे उपस्थित थे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS