मेरा बिलासपुर

हम खतरों से नहीं डरते..मंडल

30 july 15बिलासपुर—-हरियर महोत्सव धूमधाम के साथ मनाया जाएगा। प्रदेश में 10 करोड़ से अधिक पौधे लगाए जाएंगे। इस बार हम पेड़ों और पौधों की सुरक्षा पर ज्यादा ध्यान देंगे। हम खतरे से नहीं डरते। जो खतरा लेता है वही सफल होता है। खतरा उठाने वालों की ही जीत होती है। हम मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के सपनों को पूरा करेंगे। ना केवल पौधरोपण करेंगे बल्कि उसकी रक्षा भी करेंगे। हम पर्यावरण संरक्षण के प्रति बेहद गंभीर हैं। कल क्या हुआ हम नहीं जानते अब क्या होगा हम उसपर केन्द्रित हैं। ये बातें मंथन सभागार में बैठक के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए ग्रामीण एवं विकास अभिकरण के मुख्य सचिव आर.पी.मंडल ने कही।

मंडल ने बताया कि प्रदेश की आबादी ढाई करोड़ है। हम इसके चार गुना पौधा लगाएंगे। नया रायपुर में हमने साढ़े चार सौ हेक्टेयर जमीन वन विभाग को प्लांटेशन के लिए सौंप दिया है। दो लाख पौधे हमने पहले से ही संरक्षित कर रखा है। जमीन पर 10 लाख से अधिक पौधे लगाए जाएंगे। पत्रकारों से उन्होंने कहा आप सादर आंमत्रित हैं। इस अभियान में हम मिलजुलकर काम करेंगे और सफल भई बनाएंगे।

मंडल ने बताया कि बैठक में वन संरक्षण और हरियर महोत्सव को लेकर गंभीर चर्चा हुई है। इसकी गंभीरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि आज बैठक में पांचो जिलों के डीएफओ और अन्य आलाधिकारी शामिल हुए हैं। इसके पहले भी संभागायुक्त सोनमणि वोरा ने पांचो जिलों के कलेक्टर और वनमण्डल के अधिकारियों की बैठक हुई थी। उसमें भी प्लांटेशन को लेकर गंभीर चर्चा हुई।

7th Pay Commision:शिक्षक नेता ने कहा-राज्य कर्मचारियों को भी मिले 21% महंगाई भत्ता,केन्द्र से राज्य कर्मचारी 9 प्रतिशत पीछे

मंडल ने बताया कि पौधा कहां से आएगा इसकी चिंता मत करें। हम दस करोड़ पौधा लगाएंगे। यह कागज पर नहीं जमीन पर होगा। मंडल ने बताया कि लगाए जाने वाले पौधे स्वस्थ्य और चार फिट से कम नहीं होंगे। बिलासपुर में मनरेगा को छोड़कर 9 वन वृत में साढ़े तीन करोड़ पौधे हमारे पास अभी ही उपलब्ध हैं। हम अपना काम सकारात्मक रवैया अपनाते हुए कर रहे हैं। अधिकारियों को भी कहा गया है कि आलोचना से ना डरते हुए अपना काम करें। आने वाले समय में हमारे अभियान को आलोचना करने वाले ही सराहेंगे। मुख्य सचिव ने बताया कि इस बार पौधों की सुरक्षा ही हमारा उद्देश्य है।

पीसीसीएफ बोआज ने कहा कि पौधरोपण के साथ हमने सुरक्षा को भी अपनी रणनीति में शामिल किया है। वन विभाग में सात हजार से अधिक समितियां काम कर रही हैं। इन समितियों में सवा करोड़ लोग सीधे जुडे हुए हैं। समिति के सदस्य पौधों को बच्चो,महिलाओं और रिश्तेदारों के नाम पर गोद लेंगे। उसकी सुरक्षा करेंगे। बोआज ने बताया कि हम प्रत्येक शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में जन चेतना के लिए चार- चार कार्यक्रम कर रहे हैं। कार्यक्रम के माध्यम से लोगों को पौधों की सुरक्षा को लेकर जागरूक भी कर रहे हैं। शहर में ज्यादा से ज्यादा लोग सामने आए हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में भी इसे लेकर खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। बोआज ने बताया कि ना केवल पूर्व के पौधों बल्कि प्लाटेंशन किये जाने वाले पौधों का जीपीएस के माध्यम से रीडिंग किया जाएगा। सेटेलाइट के जरिए क्षेत्रों में पौधो की मानिटरिंग की जाएगी। स्थिति के अनुसार प्रशासन युद्धस्तर पर काम करेगा।

CG-शिक्षा विभाग में बड़े पैमाने पर TRANSFER,देखें सूची

इस दौरान मंडल पर्यावरण के अलावा अन्य प्रश्नों से बचते नजर आए और कहा कि इस अभियान की सफलता को लेकर यदि प्रश्न किया जाएगा तो मुझे खुशी होगी। बैठक में  निगम आयुक्त रानू साहू, वन मण्डलाधिकारी सत्यप्रकाश मसीह समेत जिले के अन्य आधाधिकारी भी विशेष रूप से उपस्थित थे।

 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS