हर जिले में खुलेगा बल मित्र थाना

bal mitra रायपुर ।   प्रदेश के सभी 27 जिले के मुख्यालय मेें बाल मित्र थाना बनाया जाएगा और इससे समाज सेवियों को जोड़ा जाएगा, जिससे बाल हितों का संरक्षण हो सके। मुख्य सचिव  विवेक ढांड की अध्यक्षता में आयोजित शुक्रवार को  यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में बाल संरक्षण संबंधी कार्यो की निगरानी और अनुश्रवण के लिए विभागों की समन्वय बैठक में यह निर्देश संबंधितों को दिए गए। छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के तत्वाधान में आयोजित इस बैठक में बाल संप्रेषण गृह और आश्रय गृहों में इन्हें कौशल विकास का प्रशिक्षण सहित खेल, कम्प्यूटर, नृत्य और संगीत का भी प्रशिक्षण दिलाये जाने के भी सुझाव दिए गए।
मुख्य सचिव श्री ढांड ने कहा कि किशोर न्यास बोर्ड के माध्यम से किशोर/किशोरियों को उन्मुखीकरण के माध्यम से कानून के तहत संरक्षण की जानकारी दी जानी चाहिए। उन्होंने रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर के बाल संरक्षण गृहों में कलेक्टर के माध्यम से अतिरिक्त कक्ष का निर्माण कराने सचिव महिला एवं बाल विकास को निर्देश दिए। श्री ढांड ने कहा कि जिला स्तर पर बाल कल्याण समिति गठित की जा चुकी है, जिसकी नियमित बैठक कराना सुनिश्चित करें, ताकि बाल संरक्षण अधिनियम की विस्तृत जानकारी सदस्यों को देकर सुझाव दिया जा सके।

बैठक में अध्यक्ष छत्तीसगढ़ बाल संरक्षण के आयोग  शताब्दी पाण्डे, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग  एम.के. राउत, प्रमुख सचिव गृह ॉ बी.व्ही. आर. सुब्रमण्यम, प्रमुख सचिव वन  आर.पी.मण्डल, प्रमुख सचिव कौशल विकास श्रीमती रेणु जी. पिल्ले, प्रमुख सचिव स्वास्थ  सुब्रत साहू, विशेष सचिव नगरीय प्रशासन एवं विकास डॉ. रोहित यादव, सचिव महिला एवं बाल विकास डॉ. एम.गीता, सचिव शिक्षा  विकासशील, सचिव समाज कल्याण  संजय अलंग, सचिव वित्त  अमित अग्रवाल, सचिव अनुसूचित जाति जनजाति  आशीष भट्ट सहित संबंधित विभाग के अधिकारीगण और छत्तीसगढ़ बाल संरक्षण के आयोग सदस्यगण उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *