Bilaspur हवाई सेवा आंदोलनः छात्र संगठन भी कूदा..सतनामी और गुप्ता समाज ने कहा…अधिकार मिलने तक लड़ेंगे

बिलासपुर—हवाई सुविधा जन आंदोलन अखंड धरना के 47वें दिन प्रतिभा पैनल परिवार और  सतनामी समाज ने समर्थन किया। छत्तीसगढ कसौधन वैश्य गुप्ता समाज के पदाधिकारियों ने धऱना स्थल पहुंचकर आंदोलन को सही बताया।

छात्र संगठनः अधिकार हासिल होने तक लड़ेंगे

                         हवाई सुविधा जन संघर्ष  समिति का अखंड धरना आंदोलन 47वें दिन भी जारी रहा। धरना स्थल पहुंचकर डी.पी.विप्र महाविद्यालय की प्रतिभा पैनल परिवार , सतनामी समाज और  छत्तीसगढ कसौधन वैश्य गुप्ता समाज के पदाधिकारियों ने समर्थन किया। 

                                                डी.पी.विप्र काॅलेज की तरफ से प्रतिभा पैनल ने धरना आंदोलन में छात्रों के साथ बढ़ चढकर भाग लिया। पैनल के गोपाल दुबे और क्षितिज बैरागी ने कहा कि बिलासपुर का विकास एयरपोर्ट के बिना अधूरा है। पर्याप्त पूंजी निवेश नही होने के कारण युवाओं को नये रोजगार नहीं मिल पा रहे है। एयरपोर्ट बनने से क्षेत्र के युवाओं को रोजगार का बेहतर अवसर मिलेगा। छात्र जगत ने फैसला किया है कि आंदोलन का कंधे से कंधा मिलाकर साथ दिया जाएगा। पैनल के ही निखिल जायसवाल ने बताया कि बिलासपुर के छात्र और युवा पहले भी रेलवे जोन और हाईकोर्ट को संघर्ष के बाद हासिल किया है। अब हवाई सुविधा के लिये संघर्ष का समय है। हम छात्र आंदोलन के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने को तैयार हैं। निखिल ने बताया कि  आजकल कई इन्टरव्यू महानगरों में होते है। वहां अंतिम समय पर सूचना के साथ पहुंचने के लिये हवाई सुविधा का होना बहुत जरूरी है।

            मांग का समर्थन करने वाले छात्र शुभम शुभम सिंह, क्षितिज बैरागी, विकास राजपूत, जयेश केशरी, निखिल जायसवाल, प्रशांत मरावी, पुनिस भारद्वाज, आषीश साहू, सत्येन्द्र गुलेरी, गोपाल दुबे ने अपनी बातों को बारी बारी से रखा।

सतनामी समाजःलक्ष्य तक चलेंगे कदम से कदम मिलाकर

                  सतनामी समाज ने धरना आंदोलन स्थल पहुंचकर एक बार फिर अपनी उपस्थिति को दर्ज कराया समाज के नेता डाॅं. बसंत अंचल, सी.एल.कुर्रे ने बताया कि विगत कई वर्शो से बिलासपुर एयरपोर्ट के लिये पत्राचार कर रहे है। एक बार फिर आंदोलन के माध्यम से लक्ष्य हासिल होने तक समाज का एक एक व्यक्ति कदम से कदम मिलाकर चलने को तैयार है। दिनेश लहरे और फूलचंद लहरे ने कहा कि आज मध्यम वर्ग भी हवाई सुविधा की आवश्यकता को महसूस करता है। हवाई सुविधा होने से ना केवल बिलासपुर का बल्कि उत्तर छत्तीसगढ़ में पर्यटन की असीम संभानाए है। अमरकंटक, अचानकमार में पर्यटन को बढावा मिलेगा।

                                      इस दौरान राजेश डहरिया, ललित कुर्रे, विक्की भारद्वाज, विशाल बंजारे, जी.पी.भास्कर, दीपक सोनवानी, अश्वनी कुमार बघेल,राजेन्द्र कुमार पात्रे, एम.पी.कुर्रे, आर.एस.खाण्डे, डी.पी.जांगडे, नीरज भास्कर, राहुल कुर्रे ने भी अपनी बातों को रखा।

वैश्य समाज का दावा..आंदोलन की दिशा सही

एयरपोर्ट आंदोलन का छत्तीसगढ कसौधन वैश्य गुप्ता समाज ने पुरजोर समर्थन किया। समाज के
बसंत गुप्ता ने आक्रोश जाहिर करते हुए कहा कि हर सरकार रायपुर को ही पूरा छत्तीसगढ मानकर काम करती है। हम लगातार विकास की दौड में पिछडते जा रहे है। समर्थन में किशोरी गुप्ता और दीपक गुप्ता ने समिति के प्रयासों की सराहना करते हुए बिलासपुर से दिल्ली तक हर जगह आंदोलन की सहायता सहयोग का वचन दिया। कसौधन वैष्य समाज के आशीष गुप्ता ने कहा कि 150-200 करोड़ रूपये की लागत के बिलासपुर एयरपोर्ट प्रोजेक्ट को ठण्डे बस्ते में डालना सुनियोजित साजिश है। हम सभी को साजिश का अंत करना होगा।

                        बसंत गुप्ता, विष्णु गुप्ता, रेवती रमण गुप्ता, जगन्नाथ गुप्ता, बालाजी गुप्ता, परमेश्वर आशीष, किशोरी  राजेश,  दीपक गुप्ता, कमल गुप्ता मनोहर लाल गुप्ता, दिनेश कुमार गुप्ता, रामकिशोर गुप्ता, रामेश्वर गुप्ता, बद्री प्रसाद गुप्ता, महेन्द्र गुप्ता, रामायण प्रसाद गुप्ता, पवन कुमार गुप्ता, संतोष गुप्ता, प्रहलाद गुप्ता समेत वैश्य समाज के सभी लोगों ने आंदोलन को सही रास्ते पर चलने वाला बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *