मेरा बिलासपुर

हवाई सेवा आंदोलनः वक्ताओं ने कहा.. हालात रेल जोन आंदोलन जैसी..तब भी जनप्रतिनिधियों का नहीं मिला साथ.. आज भी नहीं दे रहे साथ..मतलब उग्र आंदोलन

बिलासपुर—– हवाई सेवा संघर्ष के 68 वें दिन वोहारा समाज और रेलवे परिक्षेत्र युवा संघ ने समर्थन दिया। इस दौरान वक्ताओं ने केन्द्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा। वक्ताओं ने कहा कि शर्म की बात है नए वर्ष का स्वागत जब दुनिया हाथ पसार कर रही है। ऐसे समय में बिलासपुर की जनता सड़क पर आंदोलन के लिए मजबूर है। इससे जाहिर होता है कि बिलासपुर के प्रति किस तरह अन्याय किया जा रहा है।

दाउदी वोहरा समाज के वक्ता अली असगर और अशफाक ने कहा कि बिलासपुर को बिना संघर्ष के आज तक कुछ भी हासिल नहीं हुआ है। इससे जाहिर होता है कि हमारे जनप्रतिनिधियों ने बिलासपुर के विकास को कभी भी गंभीरता से नहीं लिया है।

रेलवे परिक्षेत्र युवा संघ के नेता राकेश सिंह ने बताया कि वैसे तो बिलासपुर बहुत शांत शहर है। लेकिन जब जब धैर्य की परीक्षा हुई है…बिलासपुर की जनता ने उसका जवाब दिया है। और सरकार को मांग भी पूरी करनी पड़ी है। वोहरा समाज के जिम्मेदार व्यक्ति युसुफ भाई ने बताया कि यदि अन्य क्षेत्रों को छोड़ भी दिया जाए…फिर भी स्वास्थ्य सेवाओं के लिए हवाई सेवा का होना बहुत जरूरी है। यहां अपोलो जैसा बड़ा संस्थान है। मरीजों की हालत बिगड़ने पर अच्छी सुविधा के लिए दिल्ली और मुम्बई में इलाज करने की जब तब कमी महसूस होती है। यदि हवाई सेवा हो जाए तो इस कमी को आसानी से दूर किया जा सकता है।

कार्यक्रम में मौजूद युवा कांग्रेस नेता और पार्षद सांई भास्कर ने कहा कि बिलासपुर जिले से सर्वाधिक कोयला और बिजली उत्पादन होता है। इससे यहां के लोंगो को प्रदूषण का सामना करना पड़ता है। जबकि विकास का पूरा लाभ रायपुर और दिल्ली को मिलता है। यह जानते हुए भी कि केवल 150 करोड़ के खर्च पर बिलासपुर को 4 सी कैटेगरी वाली हवाई सुविधा मिल सकती है। बावजूद इसके केन्द्र सरकार को मंजूर नहीं है। ताज्जुब की बात है कि जैसी आज हवाई सेवा सुविधा को लेकर बिलासपुर के जनप्रतिनिधियों की स्थिति है। कमोबेश यही स्थिति रेल जोन आंदोलन के समय थी। जाहिर सी बात है कि समय आ गया है कि आंदोलन को तीब्र और उग्र किया जाए।

सुरक्षा और संरक्षा को लेकर एरोड्रम कमेटी की बैठक..कलेक्टर ने दिया जरूरी दिशा निर्देश..आलाधिकारी भी हुए शामिल

दाउदी वोहरा समाज के कुतुब्बुद्दीन कपासी अब्बास भाई और हुसैनी भाई ने कहा कि आंदोलन के पूरे दो महीने हो चुके हैं। केन्द्र सरकार ने अभी किसी प्रकार की पहल नहीं की है। लोग बिलासपुर से देश के महानगरों के लिए हवाई सेवा की मांग कर रहे हैं। ऐसा लगता है कि केन्द्र सरकार उग्र आंदोलन का इंतजार कर रही है। उपस्थित लोगों को मनोज श्रीवास, हंसराज सिंह ने भी संबोधित किया।

केक काटकर लिया गया संकल्प

68 वें दिन के आंदोलन के अंत में हवाई सुविधा लेकर रहेंगे लिखा केक काटा गया। लोगों ने हाथ में केक लेकर हवाई सुविधा लेने का संकल्प लिया। आंदोलन में दाउदी वोहरा जमात से हुसैफा अनी कापसी, अख्तर हुसैन, मोहसिन भाई, मुज़र हुसैन, हकीमुद्दीन भारमल,हाकिम कपासी, अहमद हुसैन, हुजैफा पेटीवाला, मैज भाई, इदरीश, मंसूर,मुस्तफा हुसैन, आरिफ भारमल, शब्बीर बादशाह, अकीन पटेल,हातिम अली शामिल हुए। इसके अलावा रेलवे परिक्षेत्र युवा संघ की तरफ से निरूपम चक्रवर्ती, संजू समुद्रे, धानक राम, पवन पाण्डेय, राजेश भट्टर, जावेद खान ने आंदोलन में हिस्सा लिया।

दाऊदी वोहरा समाज के वक्ता अली असगर और अशफाक ने अपने संबोधन में कहा कि

दाउदी वोहरा समाज के

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS