मेरा बिलासपुर

हवाई सेवा आंदोलनः समिति ने कहा अब दिल्ली सरकार की बारी..27 करोड़ देकर राज्य शासन ने निभाया वादा

बिलासपुर—हवाई सुविधा जन आंदोलन अखंड धरना के 74 वें दिन वार्ड क्रमांक 22 के नागरिक मंच और पूज्य सिंधी पंचायत चांटीडीह के प्रतिनिधियों ने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। इस दौरान संगठन के वक्ताओं ने सभा को संबोधित किया। साथ ही एअरपोर्ट उन्नयन के लिए जारी 27 करोड़ राशि को लेकर मुख्यमंत्री और राज्य शासन के प्रति  आभार भी जाहिर किया। 
 
               हवाई सुविधा जन संघर्ष समिति का अखंड धरना आंदोलन के 74वें दिन भी जारी रहा। वार्ड 22 नागरिक मंच और पूज्य सिंधी पंचायत चांटीडीह पदाधिकारियों ने धरना स्थल पहुंचकर आंदोलनकारियों के हौसले को बाढ़ाया।
 
          धरना प्रदर्शन के दौरान सभा  को समिति ने बताया कि छत्तीसगढ सरकार की ओर से 27 करोड की प्रशासकीय स्वीकृति 3 जनवरी को मुख्यमंत्री के वित्त विभाग से प्राप्त हो गयी थी।  6 जनवरी को विमानन विभाग के सचिव टामन सिंह सोनवानी ने कलेक्टर बिलासपुर को इस आशक की जानकारी पत्र के माध्यम से दी।
 
          एक दिन पहले पत्र की कापी विमानन विभाग की तरफ से समिति को भी उपलब्ध करायी
गयी थी। राशि जारी होने के बाद कलेक्टर बिलासपुर ने  जल्द से जल्द निविदा आमंत्रित कर कार्य कराने का आश्वासन दिया है। कलेक्टर से जानकारी मिलने के बाद समिति की मांग है कि कि 3सी केटेगरी के लिए आवश्यक कार्य पहले कराये जाये। समिति ने छत्तीसगढ सरकार को राशि  स्वीकृति के लिए आभार भी जाहिर किया है। समिति के सदस्यों ने बताया कि अब केन्द्र सरकार से उम्मीद है कि बिलासपुर से हवाई सुविधा प्रारंभ करने की बाकी औपचारिकताएं तत्काल पूरी करे।
 
               सभा को वार्ड क्रमांक 22 के राजकुमार तिवारी ने संबोदित किया। उन्होने कहा कि बिलासपुर एयरपोर्ट की मांग पूरे क्षेत्र की है। खेद का विषय है कि हजारों करोड राजस्व देने वाले बिलासपुर अंचल को आंदोलन के लिय बाध्य होना पड रहा है। पूज्य सिंधी पंचायत चांटीडीह के राधाकिशन नागदेव और प्रकाश धरमपाल ने कहा कि छत्तीसगढ राज्य बनने के बाद उम्मीद थी कि बिलासपुर का तेजी से विकास होगा। लेकिन सभी सरकारों ने केवल रायपुर को छत्तीसगढ़ मानकर विकास किया है।
 
                सभा को वार्ड क्रमांक 22 के संजय पिल्ले और इकबाल खान ने कहा कि चकरभाठा एयरपोर्ट न केवल बिलासपुर जिला बल्कि मुंगेली-जांजगीर-चांपा-बलौदा बाजार और बेमेतरा जिले के केन्द्र में स्थित है। यहां से हवाई सुविधा होने पर यह जल्द रायपुर एयरपोर्ट का मुकाबला करेगा। बिलासपुर से सीधी हवाई सुविधा होने पर पूरे क्षेत्र को लाभ होगा। संभाग का व्यापार व्यवसाय भी बढेगा।
 
                 पूज्य सिंधी पंचायत के राज बतरा और महेश नारवानी ने कहा कि आज मध्यम वर्गीय लोगों के लिये भी हवाई सुविधा आवश्यकता की चीज बन गयी है। विभिन्न जगहों पर आने-जाने के लिए और पर्यटन के लिए बिलासपुर एयरपोर्ट अनिवार्य है। ऐसा होने पर अमरकंटक और अचानकमार में पर्यटन को बढावा लेगा।  समिति की ओर से आज सभा का संचालन अभिशेक सिंह राजा ने किया और आभार प्रदर्शन अभय नारायण राय ने किया।
 
                   धरना आंदोलन में पूज्य सिंधी पंचायत के जितेन्द्र थावरानी, धनराज बतरा, दिनेश चंदानी, मनोज नारवानी, तारकेश बतरा, जयराम बतरा, अषोक पात्यानी, दीपक नारवानी, मिलन राय बतरा षामिल थे। वार्ड नं-22 के प्रमुख रूप से पप्पू तिवारी, षाकिर अली, मोहसिन अली, बाला भईया, अनुराग पिल्ले, बबलू खान, हरीष भागे, राजा खान, सिद्धार्थ यादव, कित्तू ठाकुर, संदीप भोसलें, सैफ अली, कासिफ अली, धर्मेष षर्मा, राकेष षर्मा आदि षामिल हुये। समिति की ओर से आज बद्री यादव, देवेन्द्र सिंह-बाटू, सुषांत षुक्ला, कमल सिंह ठाकुर, अषोक भण्डारी, महेष दुबे, पवन पाण्डेय, यतीस गोयल, राघवेन्द्र सिंह, पप्पू तिवारी, समीर अहमद, भुट्टोराज, धर्मेन्द्र चंदा्रकर, गोपाल दुबे, शेख अल्फाज, केषव गोरख, उमेष सिंह, शहबाज अली समेत सुदीप श्रीवास्तव उपस्थित थे।

धान खरीदी की बदइंतज़ामी पर बोले डॉ.बांधी-कांग्रेस सरकार की नित नई योजना और नियम से किसान परेशान
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS