600 से अधिक लिपिक कर्मचारी गिरफ्तार..CM कार्यक्रम में कर रहे थे नारेबाजी..लिपिकों ने लगाया दमन का आरोप

भानुप्रतापपुर— भानुप्रतापपुर में मुख्यमंत्री और सरकार के खिलाफ नारेबाजी करना लिपिको को भारी पड़ा है। पुलिस ने लिपिक नेता चन्द्रिका सिंह, रोहित तिवारी समेत 600 लोगों को गिरफ्तार किया है। लिपिकों ने मुख्यमंत्री और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए दमन का आरोप लगाया है।
                  मालूम हो कि छत्तीसगढ़ शासकीय तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के नेता 7 सितम्बर से दो सूत्रीय मांग को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। अटल विकास यात्रा में भानुप्रतापपुर पहुंचे मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रदर्शन करना लिपिकों को भारी पड़ा है। प्रांताध्यक्ष चन्द्रिका सिंह, प्रांताध्यक्ष रोहित तिवारी समेत 600 से अधिक लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।
                 जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंंह अटल विकास यात्रा अभियान में भानुप्रतापपुर पहुंचे। इस दौरान लिपिकों ने वेतन विसंगति करने को लेकर धरना प्रदर्शन किया। जमकर नारेबाजी भी की। इसके पहले लिपिक नेताओं ने सांसद विक्रम उसेंडी के माध्यम से मांगो को लेकर बातचीत की। सांसद उसेंडी ने आश्वासन दिया कि मामले में मुख्यमंत्री से कार्यक्रम के दौरान चर्चा करेंगे। कार्यक्रम में शामिल होने से पहले मुख्यमंत्री स्थानीय सर्किट हाउस में लोगों से संवाद कर रहे थे। इस दौरान सर्किट हाउस के पास हड़ताल कर रहे लिपिक नारेबाजी भी कर रहे थे। पुलिस प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए 600 से अधिक लिपिकों को गिरफ्तार कर भानुप्रतापपुर थाने में बंद कर दिया। बाद में लिपिक नेताओं को जेल भेज दिया गया।
                   लिपिक कर्मचारी नेता रोहित ने बताया कि मुख्यमंत्री ने लिपिकों की जायज मांग पर गौर नहीं किया। उल्टा गिरफ्तार कर थाने में बंद करवा दिया। जबकि लिपिक शांति पूर्ण ढंग से आंदोलन कर रहे थे। बावजूद इसके शासन के आदेश पर दमनात्मक कार्यवाही की गयी। प्रदेश के लिपिक दमनकारी नीति से आक्रोशित है। लिपिकों ने फैसला किया है कि अनिश्चित कालीन आंदोलन को और तेज किया जाएगा। मांग जब तक पूरी नहीं होती है आंदोलन को वापस नहीं लिया जाएगा।
                 गिरफ्तार किए गए लिपिक नेताओं में प्रमुख रूप से संघ के प्रदेश अध्यक्ष चन्द्रिका सिंह, प्रदेश महामंत्री रोहित तिवारी ,प्रांतीय प्रवक्ता जाहिद उस्मान अली,प्रदेश अध्यक्ष वन वीरेंद्र नाग,प्रांतीय सचिव तरुण देवदास,प्रंतीय सचिव निखिल मसीह, प्रांतीय संरक्षक महिला वंदना त्रिपाठी, जिला अध्यक्ष कांकेर सुरेंद्र ठाकुर,जिला सचिव कांकेर मनोज वैष्णव, तहसील अध्यक्ष- कांकेर,नरहरपुर,अंतागढ़, पखांजुर, दुर्गुकोंदल, भानुप्रतापपुर, चारामा,क्रमशः राजू यादव, सुमन लकरा, विष्णु नेताम, मृदुल अधिकारी,अजय श्रीवास्तव, योगेंद्र चनापे शामिल हैं। इसके अलावा  गिरफ्तारी देने वालों कांकेर जिले के सभी महिला पुरुष समेत 600 से अधिक लिपिक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *