मेरा बिलासपुर

स्मार्ट सिटी पर खर्च हो गए 80 करोड़?– हिसाब बताने से बच रहा स्मार्ट सिटी प्रशासन..खंजांची कुम्हार ने कहा मामला टेक्निकल..फिर बताएंगे

बिलासपुर—स्मार्ट सिंटी में अब तक 80 करोड़ रूपए खर्च हो चुके हैं। काम हुआ या नहीं फिलहाल खबर यही है कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट पर अब तक 80 करोड़ रूपए खर्च हो चुके हैं। मामले में स्मार्ट सिटी प्रशासन भी जानकारी देने से बचता नजर आ रहा है। अधिकारी जानबूझकर जानकारी देने से बचने के लिए एक दूसरे का नाम ले रहे हैं।

                     बताते चलें कि बिलासपुर शहर देश के 100 स्मार्ट शहरों में शामिल है। सूत्र की माने तो स्मार्ट सिटी प्रशासन…नगर विकास पर अब तक 80 करोड रूपए खर्च कर चुका है। जानकारी मांगने पर स्मार्ट सिटी प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी खंचाजी कुम्हार गोलमोल बातें कर जवुाब देने से बच रहे हैं। जबकि स्मार्ट सिटी वित्तीय प्रबंधन का रिकार्ड खुद संभाल रहे हैं।

                                 जानकारी मांगने पर खचांजी कुम्हार ने बताया कि स्मार्ट सिटी का काम तेजी से हो रहा है। बातचीत के दौरान कुम्हार ने कहा कि हिसाब किताब देखे बिना कितना खर्च हुआ फिलहाल बताना मुश्किल है। मामले में बेहतर जानकारी जीएम टेक्निकल पीएन साहू ही दे सकेंगे। उन्हें ही पता है कि किस प्रोजेक्ट पर अब तक कितने रूपए खर्च हुए हैं।

                            हमेशा की तरह अपनी कार्यप्रणाली को लेकर सुर्खियों में रहने वाला निगम प्रशासन खर्च बताने से उस समय बचता नजर आया। जब टेक्निकल जीएम पीएन साहू ने कहा कि निर्माण कार्य में कितने रूपये खर्च हो चुके हैं। इस बात की जानकारी वित्तीय प्रबंधन को देख रहे उपायुक्त खंजांची कुम्हार ही दे पाएंगे।

                          टेक्निकल जीएम साहू ने बताया कि फिलहाल शहर में स्मार्ट सिटी का काम व्यापार विहार सड़क,प्लेनेटोरियम की सामने वाली सड़क, अरपा प्रोजेक्ट सड़क में हो रहा है। यद्यपि गौरव पथ स्मार्ट सिटी का हिस्सा नहीं है। बावजूद इससे कुछ छोटे मोटे काम समेत कुछ  पेन्टिंग वर्क किया जा रहा है।

शिक्षाकर्मियों की ओर से तेज हुआ -सोशल मीडिया वार.....बीजेपी नेताओँ- मंत्रियों के 15 साल पुराने पत्र फिर हो रहे वायरल

                    दुबारा जानकारी मांगे जाने पर खंजांची कुम्हार.. पहले तो सवालों से बचते नजर आए। जोर देने पर उन्होने बताया कि फिलहाल तत्काल जानकारी दे पाना मुश्किल है। क्योंकि मामला टेक्निकल है। रिकार्ड देखकर ही बताया जा सकता है कि कितना रूपए कहां और किस काम पर खर्च हुआ है। सवालों का जवाब और हिसाब किताब देने से बचते हुए खंचाजी कुम्हार अपने कार्यालय से बाहर चले गए।

                               जानकारी देते चलें कि निगम की तरह ही स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन में जमकर भर्राशाही की शिकायत सामने आ रही है। अधिकारी कुछ भी बताने से ना केवल बच रहे हैं। बल्कि हर बात की जानकारी के लिए एक दूसरे अधिकारी को जिम्मेदार होने की बात कह रहे हैं।

हम जानकारी लेकर बताएंगे

           मामले में बिलासपुर स्मार्ट सिटी के अधिकारी खंचाची कुम्हार ने पहले तो जानकारी देने से बचने का हर संभव प्रयास किया। सवालो को टालते हुए उन्होने कहा कि जानकारी मिलने के बाद जल्द ही बताएंगे कि कहां कितनी राशि खर्च हुई है। इस दौरान उन्होने यह भी बताना मुनासिब नहीं समझा कि 80 करोड़ रूपए खर्च होने में कितनी सच्चाई है। 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS