पाइप लाइन विस्तार,टंकी निर्माण पर खर्च होगा 90 लाख.. सभापति गौरहा ने किया भूमिपूजन..बताया..जल है.तो कल है..

बिलासपुर– जल ही जीवन है…कहने को तो पृथ्वी के दो तिहाई भाग पर जल है। लेकिन पीने योग्य जल सिर्फ दो प्रतिशत ही है। इसका संरक्षण और संवर्धन हमारी जिम्मेदारी है।यदि हमने अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन ठीक से नहीं किया तो आने वाली पीढियां हमें माफ नहीं करेंगी। क्योंकि मौसम वैज्ञानिकों का मानना है कि आने वाले समय में यदि कभी युद्ध की स्थिति बनती है तो इसकी वजह पानी ही होगा। इसलिए हमें आज ही नहीं अभी से ही जल को संरक्षित करने का उपाय शुरू कर देना चाहिए। यह बातें जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा ने बोर उत्खनन और जल जीवन जीव मिशन के तहत टंकी के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम के दौरान कही। 
 
                पिछले दिनों जिला पंचायत सभापति अंकित गौरहा ने दो अलग कार्यक्रम में शिरकत किया। बैमा और खैरा (ल) में बोर उत्खनन के पहले भूमि पूजन आयोजन में शिरकत किया। उन्होने कहा कि बोर होने के बाद ग्रामीण जन जीवन को पानी की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। ना केवल परेशानियों से छुटकारा मिलेगा। बल्कि समय की भी बचत होगी। गौरहा ने बताया कि दोनो बोर पर कुल चार लाख खर्च आएगा।
 
    जिला पंचायत सभापति ने ग्राम पंचायत बसिया में जल जीवन मिशन के लिए टंकी टंकी निर्माण और  पाइप लाइन विस्तार  भूमिपूजन कार्यक्रम में भी शिरकत किया। गौरहा ने बताया कि  90 लाख रुपए की लागत से पानी टंकी निर्माण और पाइप लाईन बिछाने का काम किया जाएगा। काम पूरा होने के बाद लोगों को  पानी के लिए दर दर नहीं भटकना होगा। 
 
                     दोनों कार्यक्रम में शिरकत के दौरान स्थानीय लोगों ने सभापति का फूल माला से स्वागत किया। उपस्थित लोगों को अंकित गौरहा ने संबोधित भी किया। गौरहा ने बताया कि दुनिया के पृथ्वी के 72 प्रतिशत भाग पर जल है। लेकिन पीने लायक पानी केवल 2 प्रतिशत ही है। पिछले दो दशक से बुद्धिमान लोग लगातार चेतावनी दे रहे हैं कि पानी का संरक्षण करें। क्योंकि आने वाले समय पर कभी युद्ध की स्थिति बनती है तो उसकी वजह पानी ही होगा। हमें आज और अभी से पानी को संरक्षित करने की जरूरत है।
 
                      अंकित ने बताया कि पानी पर सार्वभौमिक अधिकार है। हमें पानी का उपयोग करना है ना कि दुरपयोग। सरकार का भी प्रयास है कि जनता जनार्दन को साफ सुथरा पानी मिले। इसलिए हमारी जिम्मेदारी भी बनती है कि पानी का सदुपयोग करें। साथ ही नुकसान को भी रोंके। जनजागरण अभियान चलाकर पानी की उपयोगिता पर प्रकाश डालें। क्योंकि यदि जल है तो कल है।
 
                           अलग अलग गांव में आयोजित कार्यक्रम के दौरान बैमा सरपंच प्रतिनिधि दीपक नायक, उपसरपंच संजय पाण्डेय, धर्मेंद्र शास्त्री,सचिन धीवर, खैरा (ल) सरपंच लक्ष्मी कोहली, जनपद सदस्य प्रतिनिधी रामप्रसाद पटेल, गौरीशंकर यादव ,बसिया सरपंच उषा यादव, उकेश वर्मा ,संजय पाण्डेय,  सचिन धीवर ,अर्जुन यादव,चमन यादव ,कृष्ण कुमार यादव,समसूद यादव ,विरेंद यादव , बिहारी लाल दुबे ,,वेदांत शुक्ला ,मुकेश दुबे ,सुमित महाजन और स्थानीय गणमान्य लोग मौजूद थे।
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *