शिक्षाकर्मियों को प्रथम नियुक्ति तिथि से वरिष्ठता देने की मांग, सभी 27 जिलों में राज्यपाल मंत्रियों व सचिव को सौंपा ज्ञापन

क्रमोन्नति ,खुशखबरी,LB,शिक्षकों,क्रमोन्नति-समयमान,लाभ ,निर्देश,जारी,DEO,BEO,पात्र LB शिक्षकों,लिस्ट, प्रस्ताव,आदेश,संवेदना अभियान,chhattisgarh,शासन, आर्थिक सहयोग,शिक्षाकर्मी,संविलियन,शिक्षाकर्मियों,chhattisgarh,pran,cps,ddoधमतरी।वरिष्ठता स्थानांतरित संगठन के बैनर तले प्रांतीय निर्णय अनुसार छत्तीसगढ़ के सभी 27 जिले से राज्यपाल ,मुख्यमंत्री ,शिक्षामंत्री मुख्य सचिव , शिक्षा सचिव  को जिला व जनपद अधिकारी के माध्यम से छः जुलाई से 15 जुलाई तक ज्ञापन सौपने की प्रकिया के तहत नई पद्धति से ज्ञापन सौपा गया।जिन मांगो को पूरा करने ज्ञापन सौपा गया वह मांग है –सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

1. प्रमुखता से स्थानांतरण से वरिष्ठता प्रभावित न हो जब वरिष्ठता राज्य स्तर पर निर्धारण किया जा रहा हो समस्त वर्ग के शिक्षक प /एल बी संवर्ग E,T के लिए जो गैर वित्तीय मामले है प्रथम नियुक्ति तिथि से वरिष्ठता का प्रावधान करने राजपत्र पर संसोधन करने व दिशा निर्देश जारी करने के पश्चात ही प्राचार्य व प्रधानपाठक के पदों पर शीघ्र पदोन्नति करने ।
अन्य मांगो में

2 .वर्ग-03(सहायक शिक्षक प/एल बी)जो प्राथमिक स्कूल में शिक्षा का नीव रखते है वेतन विसंगति दूर कर जो घोषणा पत्र में शामिल है उन्हें पूर्ण सम्मान देते हुवे मांग को पूरा करने !

3. लंबे समय से जो लगभग 20 वर्ष से पदोन्नति से वंचित है सहायक.शिक्षक /शिक्षक/व्याख्याता एल बी का क्रमोन्नत वेतनमांन का लाभ देने !

4. संविलयन से वंचित समस्त शिक्षाकर्मियों का 8 वर्ष से कम वालो का भी शीघ्र संविलयन आदेश जारी करने

5.स्थानांतरण मामले में वर्ष 2008 में खुली स्थानांतरण नीति लागू की गई थी जिसे एक बार पुनः सभी पर लागू कर एल बी संवर्ग के साथ 8 वर्ष से कम सभी शिक्षाकर्मियों को स्थानांतरण का अवसर देने व स्थानांतरण से रिक्त व स्वीकृत पदों पर शीघ्र बेरोजगारों की भर्ती करने !

6.स्वयं के व्यय से प्रशिक्षण बी.एड ,डी. एड किये शिक्षको को 2 वेतन वृद्धि का लाभ देने ।

7. दिवंगत शिक्षाकर्मी के परिवार के सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति करने के मामले जिसमे बी एड ,डी एड ,डी एल एड की अनिवार्यता को समाप्त करते हुवे परिवार के सदस्य को शासकीय पदों पर भर्ती करने ।

8. इसके साथ ही हाई स्कूल विषय सेटप में आंशिक संसोधन कर भौतिक और रसायन का भी पद सृजित कर नियुक्ति व पदोन्नति करने की मांग की गई है क्योंकि हाई स्कूल विषय -विज्ञान व गणित(9वी 10वी) में क्रमशःसिर्फ बायो व सिर्फ गणित और हायर सेकेंडरी (11वी 12) बायो व गणित में भी सिर्फ बायो व सिर्फ गणित वालो को नियुक्ति।

पदोन्नति का दोहरा लाभ शासन दे रही है जबकि भौतिक व रसायन वाले कई संस्थाओ में हाई स्कूल विषय (9वी 10वी) का अध्यापन कार्य कर रहे है जिस विषय विज्ञान व गणित में स्थानांतरण नियुक्ति ,पदोन्नति शासन द्वारा करते ही नही है जो संवैधानिक नियमो के विपरीत है। इसलिये सेटप मे आंशिक संसोधन कर भौतिक और रसायन विषय वालो को भी हाई स्कूल में नियुक्ति व पदोन्नति के लिए शिक्षण संचालनालय व सभी जिले के मुख्य कार्यपालन अधिकारी और जिला शिक्षा अधिकारी के लिए सीघ्र आदेश जारी करने व सभी जिले के जिला मुख्यालय के कॉलेज में अनिवार्य रूप से भौतिक रसायन PG क्लास शुरू कर नियुक्ति करने की मांग ।

अन्य मांग जैसे वेतन विसंगति , सभी का संविलयन, क्रमोन्नति इत्यादि को रख सके लेकिन अधिकांश जिलो में सिर्फ प्रमुख मांग प्रथम नियुक्ति से वरिष्ठता हेतु ज्ञापन सौपा गया प्रांतीय निर्णय अनुसार ज्ञापन सौपने का कार्यक्रम सफल रहा जिस पर ज्ञापन सौपने वाले प्रतिनिधियों व सक्रिय साथियो का वरिष्ठता स्थानांतरण के प्रांतीय संचालक  लालबहादुर साहू  भुवनेश्वर प्रताप , महिला प्रांतीय संचालक शशि सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया है ।

पहली कार्य योजना के अनुसार-
सभी जिले के जिला मुख्यालय से राज्यपाल व मुख्यमंत्री को ज्ञापन देने के बाद सभी प्रभावित को अपने अपने जिले /छेत्र से अध्यक्ष , अन्य प्रतिनिधि , सांसद और विधायक महोदय को ज्ञापन सौपने व उनके माध्यम से मुख्यमंत्री को पत्र लिखने समय देकर प्रक्रिया जारी रखने , सभी को सहभागिता प्रदान करने व प्रांतीय कार्यकारणी द्वारा स्थानांतरित शि प/एल बी का प्रथम नियुक्ति से वरिष्ठता निर्धारण नही करने इस मामले को लेकर पुनः ही आपत्ति दर्ज कराने , सहायक शिक्षक,शिक्षक ,व्याख्याता एल. बी. से प्राचार्य/प्रधानपाठक में पदोन्नति हेतु प्रथम नियुक्ति तिथि से ही वरिष्ठता सूची बनाने मांग हेतु मंत्रियो व मुख्य अधिकारियों से जल्द ही मुलाकात करने का प्रयाश करेंगे और ज्ञापन सौंपेंगे ।

दूसरी योजना व कार्य के अनुसार
स्थानांतरित शि प /एल बी का नियम में प्रथम नियुक्ति से ही वरिष्ठता लाभ देने पूरे 27 जिले से कोर्ट में होगी याचिका दायर जो शासन के फैसले के बाद होगा ,कुछ जिले में हमारे बीच के प्रांतीय संचालक ने कोर्ट याचिका दायर किया था प्राप्त जानकारी के अनुसार फैसला भी हमारे पक्ष में है। लेकिन शासन इसका क्या अर्थ स्पष्ट करता है क्योंकि शासन अपना तर्क व व्याख्या अलग करता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *