DPI का अल्टीमेटम,तीन दिन के भीतर बनाये किचन गार्डन,नही तो प्रभारी समेत शिक्षकों पर भी होगी कार्रवाई

रायपुर।स्कूलों में बच्चों को दिए जाने वाले मध्यान्ह भोजन में उच्च क्वालिटी की सामग्री के उपयोग और ताजी हरी सब्जियां को शामिल करने के निर्देश दिए हैं। संचालक लोक शिक्षण एस. प्रकाश ने आज दुर्ग और राजनांदगांव जिले के आधा दर्जन स्कूलों के औचक निरीक्षण के दौरान सभी स्कूलों में किचन गार्डन विकसित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि मध्यान्ह भोजन में हरी सब्जियां शामिल होने से मध्यान्ह भोजन की पौष्टिकता बढ़ेगी इससे बच्चों का शारीरिक और मानसिक विकास अच्छी तरह से होगा। 
संचालक लोक शिक्षण एस. प्रकाश ने आज स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करने एवं शासन द्वारा दिये गए निर्देशों का जमीनी स्तर पर जायजा लेने दुर्ग व राजनांदगांव जिले के आधा दर्जन स्कूलों का जायजा लिया।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

उन्होंने प्रायमरी, मीडिल, हाई व हायर सेकेण्डरी स्कूल सहित ई साक्षरता केंद्र का भी आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उनके साथ लोक शिक्षण के असिस्टेंट डायरेक्टर महेश नायक व राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण के असिस्टेंट डायरेक्टर प्रशांत कुमार पाण्डेय भी थे।

संचालक लोक शिक्षण श्री एस प्रकाश ने प्रातः 10 बजे दुर्ग जिले के धमधा विकासखंड मुरमुण्डा, सोनहार, धमधा, बरहापुर के प्रायमरी व मीडिल स्कूल का आकस्मिक निरीक्षण किया। यहाँ राज्य स्तरीय आँकलन का परीक्षण कर उन्होंने यह निर्देश दिया कि बच्चों के आँकलन के पश्चात् उनके नंबर व उनकी स्थिति के सम्बन्ध में बच्चों व उनके पालकों को अवगत कराया जाए। राज्य स्तरीय आँकलन संबंधी गतिविधि चार्ट स्कूलों में अनिवार्य रूप से प्रदर्शित किये जाए।

उन्होंने कहा कि शिक्षा का वातावरण शिक्षा से बनता है अतः स्कूल साफ-सुथरे आकर्षक बनायें जाए। स्कूलों में उपलब्ध राशि का उपयोग कर उसका रंग रोगन कराया जायें। फूल एवं आकर्षक पौधे लगाएं। उन्होंने बच्चों से विभिन्न विषयों के पाठ पढ़वाये, पढ़ने वाले बच्चों को चॉकलेट देकर पुरस्कृत किया और कमजोर बच्चों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया। एस प्रकाश ने कहा कि 3 दिन के भीतर सभी स्कूलों में किचन गार्डन अनिवार्य रूप से बनाया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने सख्त लहजे में कहा जिन स्कूलों में किचन गार्डन नहीं बनेंगे वहाँ के प्रभारी के साथ शिक्षकों पर भी कार्यवाही होगी। उन्होंने लर्निंग आउटकम स्थिति संबंधी चार्ट सभी स्कूलों में लगाने भी कहा।

डायरेक्टर एस. प्रकाश ने राजनांदगाँव जिले के खैरागढ़ मुख्यालय स्थित पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी स्कूल का आकस्मिक निरीक्षण किया । यहाँ उन्होंने 11वीं व 12वीं की बोर्ड की अर्धवार्षिक परीक्षा का अवलोकन किया। उन्होंने इस ऐतिहासिक स्कूल की व्यवस्था सुधारने तथा साफ-सफाई कर इसे आकर्षक बनाने हेतु निर्देशित किया। यह उल्लेखनीय है कि 125 वर्ष से अधिक पुराने इस स्कूल में अविभाजित मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री पण्डित रविशंकर शुक्ल प्रधान अध्यापक के रूप में व साहित्यकार पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी भी कार्य कर चुके है।

इस ऐतिहासिक स्कूल को साफ-सुथरा रखकर साईकिल स्टैंड इत्यादि व्यवस्थित कर इसे और आकर्षक बनाया जा सकता है। उन्होंने बढ़ईटोला के हायर सेकेण्डरी स्कूल का अवलोकन कर वहाँ उक्त परिसर में बनाये गए गार्डन की तारीफ करते हुए कहा यह एक संयोग है कि यहाँ प्रायमरी, मीडिल, हाई व हायर सेकेण्डरी स्कूल एक साथ लगते हैं।

अतः सभी स्कूल के प्रभारी शिक्षकों व बच्चों के साथ गार्डन का विस्तार करें व उपयुक्त स्थल का चयन कर किचन गार्डन बनायें। एस. प्रकाश ने शाम 6 बजे राजनांदगाँव के नंदाई चौक में मुख्यमंत्री शहरी साक्षरता कार्यक्रम के अंतर्गत  ई-साक्षरता केंद्र का अवलोकन किया। यहाँ उन्होंने ई-साक्षरता केंद्र का बड़ा साइन बोर्ड मुख्य द्वार पर लगाकर केंद्र को आकर्षित बनाने शिक्षार्थियांे की संख्या में वृद्धि कर पर्याप्त संख्या में कम्प्यूटर इत्यादि की व्यवस्था करने के निर्देश दिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *