कांग्रेसियों को बनाया जा रहा निशाना…

IMG-20151027-WA0004बिलासपुर— जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला की अगुवाई में आज किसान अधिकार न्याय पदयात्रा रिसदा से शुरू होकर मस्तूरी में आमसभा के साथ खत्म हुई। आमसभा को स्थानीय विधायक दिलीप लहरिया,राजेन्द्र शुक्ला, ब्लाक अध्यक्ष विरेन्द्र शर्मा और कई वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं ने संबोधित किया। इस मौके पर राजेन्द्र शुक्ला ने युवा कांग्रेस नेता राजेन्द्र तिवारी के निधन पर गहरी संवेदना जाहिर करते हुए जिला प्रशासन और भाजपा सरकार पर निशाना साधा।

                          कांग्रेस की किसान अधिकार न्याय पदयात्रा… प्रभारी पिनाल उपवेजा के देखरेख में रिजदा से मस्तूरी पहुंची। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला ने प्रशासन और भाजपा सरकार पर निशाना साधा। इस मौके पर किसानों और आम जनता को संबोधित करते हुए कहा कि जब तक धान खरीदी की तारीख 1 नवम्बर नहीं किया जाता है तब तक किसानों के लिए कांग्रेस लड़ती रहेगी। उन्होंने बताया कि किसान बेहाल है और सरकार चैन की बांसूरी बजा रहा है। शुक्ला ने इस मौके पर बिजली की आंख मिचौली का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि बिजली नहीं आने से आम जनता के साथ ही किसानों के सामने भारी संकट है। जहां सिंचाई के साधन है वहां बिजली के नहीं होने से फसल बरबाद हो रही है। राजेन्द्र ने किसानों और आम जन जिवन से कहा कि किसी को संपत्ति कर पटाने की जरूरत नहीं है। कांग्रेस उनके साथ है।

                                     कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राजेन्द्र शुक्ला ने कहा कि जब तक राजेन्द्र तिवारी को न्याय नहीं मिलेगी कांग्रेस चुप नहीं बैठने वाली है। उन्होंने कहा एक अधिकारी गलती पर गलती करता जा रहा है। उसकी प्रताड़ना से दो लोगों ने मौत को गले लगा लिया है। अभी तक एफआईआर दर्ज नहीं किया गया। इसमें समझने और बूझने की कोई जरूरत नहीं है। कांग्रेस नेताओं को चुन चुन कर निशाना बनाया जा रहा है। शुक्ला ने कहा कि जब तक राजेन्द्र तिवारी के परिवार को न्याय नहीं मिलता..सिसोदिया की गिरफ्तारी नहीं होती। कांग्रेस चैन से नहीं बैठेगी।

                            आम सभा को संबोधित करते हुए विधायक दिलिप लहरिया ने कहा कि मस्तुरी विधानसभा अकाल की चपेट में है। लोग पानी की बूंद-बूंद के लिए तरस रहे हैं। लेकिन शासन कांग्रेसी विधानसभा के साथ दोयम व्यवहार कर रहा है। स्थानीय बेरोजगारों के मुंह से आउटसोर्सिंग के जरिए हक छीन रहा है। किसानों को अभी तक तीन सौ रूपए बोनस और धान समर्थन मूल्य नहीं दिया गया है। इससे जाहिर होता है कि प्रदेश सरकार कितनी संवेदनहीन हो चुकी है।

                        कार्यक्रम को विरेन्द्र शर्मा और पिनाल उपवेजा ने भी संबोधित किया। इस मौके पर सैकंडों की संख्या में किसान और आम आदमी उपस्थित थे। किसान न्याय पदयात्रा आज रिजदा से शुरू होकर पेन्ड्री,खोसरी,मुड़ापार,वेदपरसदा होते हुए मस्तुरी में खत्म हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *