Fastag System-आज से देशभर के नेशनल हाइवे NH पर फास्टैग सिस्टम लागू, टोला प्लाजा पर नहीं पड़ेगा रुकना, जानें क्या करना पड़ेगा

नई दिल्ली. Fastag System Implemented On National Highway: देशभर के नेशनल हाइवे के टोल प्लाजा पर फास्टैग सिस्टम लागू हो गया है. फास्टैग सिस्टम इलेक्ट्रानिक पेमेंट से टोल टैक्स वसूलने का एक माध्यम है. हालांकि केंद्र सरकार ने अभी 30 दिनों तक इस नियम में थोड़ी ढील दी है. टोल प्लाजा पर होने वाली भीड़ को देखते हुए फास्टैग की अधिक्तम 25 फीसदी लेन को हाइब्रिड रखा जाएगा. हाइब्रिड लेन में 15 जनवरी तक फास्टैग के साथ-साथ कैश के माध्यम से भी टोल टैक्स का भुगतान किया जा सकेगा. पहले टोल प्लाजा पर सिर्फ एक कैश लेन रखने और उस पर गुजरने में डबल टैक्स लेने की बात थी. अब बिना टैग वाली गाड़ी अगर फास्टैग लेन में आती है तो डबल चार्ज लगेगा.  सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

बता दें कि केंद्रीय सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया को शनिवार को दिए आदेश में अगलs 30 दिन तक यह व्यवस्था बनाए रखने के लिए कहा है. इससे पहले जुलाई में सड़क परिवहन मंत्रालय ने एनएचएआई को पत्र लिखकर 1 दिसंबर तक फास्टैग लागू करने के लिए कहा था. फिर 29 नवंबर को मंत्रालय ने इस व्यवस्था में 2 हफ्ते की और राहत देते हुए यह व्यवस्था 15 दिसंबर से लागू करने के लिए कहा था. पहले तय किया गया था कि टोल प्लाजा पर एक लेन को टोल मुक्त वाहनों और ओवरसाइज वाहनों की आवाजाही के लिए हाइब्रिड लेन के तौर पर रखा जाएगा.

हालांकि मंत्रालय जारी नए आदेश में कहा गया है कि ज्यादा वाहनों की आवाजाही वाले टोल प्लाजा पर कुल टोल लेने के 25 फीसदी को हाइब्रिड मोड में उपयोग किया जा सकता है. ये नियम प्राइवेट और कमर्शियल सभी वाहनों के लिए है. ऐसे में अगर आपके पास फास्टैग नहीं है, तो जल्द ही इसे लेकर परेशानियों से मुक्ति पाएं. दरअसल फास्टैग लगी गाड़ी जैसे टोल प्लाजा से गुजरेगी आपके बैंक अकाउंट/प्रीपेड वॉलेट से टोल टैक्स अपने आप कट जाएगा. मालूम हो कि फास्टैग 22 रजिस्टर्ड बैंकों द्वारा विभिन्न चैनलों जैसे नेशनल हाइवे टोल प्लाजा के पॉइंट ऑफ सेल के जरिए और चुनिंदा बैंकों की शाखाओं द्वारा जारी किया जाता है.

फास्टैग ऐमजॉन जैसे ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म पर भी मौजूद है.फास्टैग बैंक न्यूट्रल होते हैं जिसका मतलब यह है कि इसे आप जहां से खरीदते हैं, वो इसे एक्टिवेट करके नहीं बेचते हैं. ऑनलाइन फास्टैग कॉन्सेप्ट पर आधारित होता है, जहां आप माय फास्टैग मोबाइल ऐप में वीइकल डिटेल डालकर इसे सेल्फ ऐक्टिवेट कर सकते हैं.

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...