नए साल में 10 फरवरी 2020 से अस्तित्व में आएगा गौरेला-पेण्ड्रा – मरवाही जिला,राजपत्र में अधिसूचना जारी

अतिक्रमित भूमि, व्यवस्थापन, शासकीय भूमि , आबंटन , डायवर्सन प्रक्रिया, सरलीकरण ,संबध, शासन ,जारी,दिशा-निर्देश,रायपुर,निरस्त,मंत्रालय,नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग,मनोनयन ,नगरीय निकायों,नामांकित पार्षदों,

रायपुर।बिलासपुर जिले का विभाजन कर बनाया गया नया जिला गौरेला पेंड्रा मरवाही 10 फरवरी 2020 से अस्तित्व में आ जाएगा ।इस संबंध में राजपत्र में अधिसूचना जारी कर दी गई है ।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस साल नए जिले की घोषणा की थी ।जिससे इस इलाके के लोगों की वर्षों पुरानी मांग पूरी हुई।छत्तीसगढ़ शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग ने छत्तीसगढ़ राजपत्र में 30 दिसंबर की तारीख पर यह अधिसूचना प्रकाशित की है।सीजीवालडॉटकॉम न्यूज़ के व्हाट्सएप् से जुडने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये

जिसमें कहा गया है कि गौरेला- पेंड्रा – मरवाही नए जिले का सृजन20 10 फरवरी 2020 से किया जा रहा है। अधिसूचना में नए जिले की सीमाओं का भी प्रकाशन किया गया है ।जिसके मुताबिक जिला बिलासपुर की संपूर्ण तहसील पेण्ड्रारोड, पेंड्रा और मरवाही को समाविष्ट करते हुए नए जिले का सृजन किया जा रहा है।

नए जिले गौरेला- पेंड्रा -मरवाही की सीमाएं भी अधिसूचना में शामिल की गई है। जिसके मुताबिक नए जिले के उत्तर में तहसील मनेंद्रगढ़ जिला कोरिया छत्तीसगढ़, दक्षिण में तहसील कोटा जिला बिलासपुर और तहसील लोरमी जिला मुंगेली ,पूर्व में तहसील कटघोरा जिला कोरबा छत्तीसगढ़ और पश्चिम में तहसील सुहागपुर और पुष्पराजगढ़ जिला अनूपपुर मध्य प्रदेश की सीमाएं रहेंगी। इस अधिसूचना से यह स्पष्ट हो गया है कि नया जिला 10 फरवरी 2020 से अस्तित्व में आ जाएगा ।इसके साथ ही गौरेला ,पेंड्रा ,मरवाही इलाके की वर्षों पुरानी मांग पूरी हो गई है ।इसे लेकर इलाके के लोगों में काफी प्रसन्नता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *