जब अकेले दिया करोड़ों की चोरी की वारदात को अंजाम..फैल गयी सनसनी .आरोपी रैन बसेरा में कर रहा था आराम

बिलासपुर—- दुर्ग पुलिस कप्तान अजय यादव ने एक प्रेस वार्ता में 36 घंटे के अन्दर आकाश गंगा सुपेला स्थित पारख ज्वेलर्स में हुए करोडो की चोरी का खुलासा किया। अजय यादव ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी कवर्धा का कुख्यात बदमाश है। उस पर जिला बदर की कार्रवाई भी हो चुकी है। जिले में करीब 13 से अधिक आपराधिक मामले दर्ज है।

             जानकारी हो कि 12 परवरी को सुपेला स्थित पारेख ज्वैलर्स दुकान के दीवार को तोड़कर करोड़ों रूपयों की जेवरात को पार किया था। घटना के बाद जिला समेत प्रदेश में सनसनी फैल गयी। लेकिन पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी को धर दबोचा। घटना की गंभीरता को इस बात से समझा जा सकता है कि खबर मिलते ही रेंज के महानिरीक्षक विवेकानन्द सिन्हा और पुलिस कप्तान अजय यादव समेत पुलिस की सभी विन्ग मौके पर पहुंच गयी। इसके बाद विशेष रणनीति तैयार कर मात्र 36 घंटे के अन्दर आरोपी को धर दबोचा गया।

दुर्ग में करोड़ों की चोरी

                      पत्रकारों को पुलिस कप्तान अजय यादव ने बताया कि 12 फरवरी की रात्रि में आकाशगंगा सुपेला स्थित पारेख ज्वैलर्स करीब 3 करोड़ कीमती सोने के जेवरात को चोर ने पार किया। इसके अलावा आरोपी ने  एक लाख पचास हजार रूपयों पर भी हाथ साफ किया। 

        बताते चलेें कि पारख ज्वेलर्स के संचालक को चोरी की जानकारी सुबह शोरूम खोलने के बाद हुई। उन्होने देखा कि लाॅकर खुला हुआ है। इसके बाद तत्काल पुलिस को जानकारी दी। दुर्ग जिले के व्यवसायिक स्थल में बड़ी चोरी की सूचना मिलते ही दुर्ग रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विवेकानंद सिन्हा, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक  अजय कुमार यादव, अति.पुलिस अधीक्षक  शहर रोहित कुमार झा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण) लखन पटले, उप पुलिस अधीक्षक क्राईम प्रवीर चन्द्र तिवारी, नगर पुलिस अधीक्षक भिलाई नगर अजीत यादव, नगर पुलिस अधीक्षक छावनी विश्वास चंद्राकर, नगर पुलिस अधीक्षक दुर्ग विवेक शुक्ला और एफ.एस.एल.प्रभारी डाॅ.अनुपमा मेश्राम के अलावा  राकेश नरवरे, निरीक्षक रेंज फिंगर प्रिण्ट एक्सपर्ट दुर्ग समेत आला अधिकारी घटना स्थल पर पहुंच गए। घटना स्थल निरीक्षण और कैम्प कर घटना की गंभीरता को देखते हुए तत्काल एक मजबूत रणनीति तैयार कर आरोपी की पतासाजी करने की कार्रवाई शुरू हुई। 

अधिकारियों को अलग अलग जिम्मेदारी

                            पत्रकारों को वरिष्ठ पुलिस कप्तान दुर्ग अजय कुमार यादव ने बताया कि अधिकारियों को अलग अलग जिम्मेदारी दी गयी। इसके अलावा राज्य के बाहर की जरूरी कार्रवाई को लेकर अलग से अधिकारी को तैयार किया गया। अलग-अलग 6 टीमो का गठन करते हुए तत्काल कार्यवाही का निर्देश दिया गया।

सघन पूछताछ

        अजय यादव ने जानकारी दी कि मामले में घटना से संबंधित करीबन 125 लोगो से पूछताछ हुई। सभी रास्तो के सीसीटीवी कैमेरो को खंगाला गया। उन्होने बताया कि पारेख शो रूम में करीबन 90 कैमरे लगे हुए थे। लेकिन अज्ञात चोर ने घटना को अंजाम देने से पहले सभी कैमरों को बंद कर दिया था। जिसके चलते टीम को कोई विशेष जानकारी नहीं मिल पायी । इसके अलावा पुलिस अधिकारियों ने संपत्ती संबंधी अपराधियों की सूची को भी तैयार कर पूछताछ की ।

ब्ले़ड और राड से खुली पोल

              पुलिस कप्तान ने सवाल जवाब के दौरान बताया कि घटना स्थल के निरीक्षण के दौरान लाॅकर के पास एक लोहे काटने का ब्लेड बरामद किया गया था। जिसके सहारे चोर ने करो़ड़ों की चोरी की घटना को अंजाम दिया था। विवेचना के समय जानकारी मिली कि एक साल पहले थाना छावनी के ए.वी.एन.बजाज शो रूम में भी लोहे की लाॅकर काट कर 09 लाख रूपये चोरी की घटना हुई थी। घटना के लिए जिम्मेदार लोकेश श्रीवास उर्फ गोलू को गिरफ्तार किया गया था ।

रैन बसेरा में कर था समय का इंतजार

            इस बात को ध्यान में रखते हुए लोकेश श्रीवास ऊर्फ गोलू को गिरफ्तार किया गया। गोलू अभी पिछले नवम्बर 2019 में जेल से छूटकर बाहर आया था। जांच पड़ताल में जानकारी मिली कि गोलू दुर्ग जिले में आता जाता रहता है। कुछ लोगो के द्वारा सुपेला क्षेत्र में भी घूमते हुए देखा गया था। इसके बाद पुलिस टीम ने संदेही लोकेश श्रीवास उर्फ गोलू को दुर्ग बस स्टैण्ड रैन बसेरा डाॅरमेट्री से हिरासत में लिया गया।

 सुनियोजित तरीके से दिया घटना को अंजाम

                 पुलिस पूछताछ में लोकेश श्रीवास उर्फ गोलू ने अपराध कबूल किया। पूछताछ के दौरान गोलू ने बताया कि वह जेल से छूटने के बाद किसी बड़ी चोरी करने की फिराक में घूम रहा था। चूंकि वह ब्यूटी पार्लर का कोर्स किया है। और काम भी कर चुका है। इसलिए वह चोरी के बाद हासिल रूपयों से बड़ा ब्यूटी पार्लर खोलना चाहता था। इसके लिए उससने करीब 20 दिन पहले सुपेला आकाश गंगा स्थित पारख ज्वेलर्स को सोची समझी रणनीति के तहत निशाना बनाया।

पहले रेकी फिर चोरी

                         अजय यादव ने बताया कि आरोपी आकाश गंगा में कपड़े खरीदने के बहाने पारेख ज्वेलर्स की रेकी किया। चूंकि पारेख ज्वैलर्स मंगलवार को बन्द रहता है इसलिए उसने घटना को अजां देने मंगलवार के दिन को ही चुना । पारख ज्वेलर्स के बगल में निर्माणाधीन इमारत में बांस की चहली के सहारे 11 फरवरी को .2020 को दोपहर सुपेला पहुंच कर नवनिर्मित इमारत की चहली के सहारे चढ गया। लोहे की राॅड से दीवाल फोड़कर लिफ्ट के रास्ते अन्दर पहुंचा। ग्राईन्डर मशीन से लाॅकर का राॅड काटा। सोने के जेवरात लेकर छत के रास्ते बाहर आया।

              पूछताछ में गोलू ने पुलिस को बताया कि चोरी दबाव के कारण शहर से बाहर नहीं भाग सका। इसलिए दुर्ग बस स्टैण्ड स्थित रैन बसेरा में पनाह लिया। लेकिन पकडा गया। अजय यादव ने जानकारी दी कि आरोपी के कब्जे से 3 करोड़ कीमती सोने के जेवरात और एक लाख पचास हजार रूपये नगद को जब्त किया गया है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...