मुंगेली कलेक्टोट्रेट के सामने हंगामा.. किशोर राय ने लगाया चुनाव में धांधली का आरोप..कहा उड़ाई नियमों की धज्जियां

बिलासपुर—मुंगेली जिला पंयाचत अध्यक्ष चुनाव हाईवोल्टेज ड्रामा के बीच हुआ।  भाजपा  नेताओं ने चुनाव के दौरान जिला प्रशासन पर धांधली करने का आरोप लगाया। साथ ही चुनाव को निरस्त किए जाने की मांग की। बावजूद इसके अध्यक्ष का ताज कांग्रेस नेत्री के सिर पर सजा।

                    जिला पंचायत मुंगेली अध्यक्ष पद चुनाव को लेकर जमकर हंगामा हुआ। चुनाव परिणाम को लेकर कलेक्टर कार्यालय के सामने कांग्रेसियों ने जमकर हंगामा मचाया। भाजपा पर्यवेक्षक किशोर राय समेत सभी भाजपाइयों ने जिला प्रशासन पर सत्ता पक्ष के प्रत्याशी को जिताने का आरोप लगाया। मामले में सभी भाजपाई किशोर राय की अगुवाई में कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर शिकायत की। 

               जानकारी हो कि 14 फरवरी को जिला पंचायत मुंगेली में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद का चुनाव हुआ। 12 सदस्यीय जिला पंचायत सदस्यों में से 8 सदस्यों ने कांग्रेस नेत्री लेखनी सोनू चन्द्राकार को वोट दिया। जबकि 4 सदस्यों ने भाजपा की शीलू साहू के पक्ष में मतदान किया। पीठासीन अधिकारी ने परिणाम का एलान किया। शीलू साहू के मुकाबले लेखनी सोनू चन्द्राकर जीत हुई।

              परिणाम निकलने के बाद भाजपा जिला पंचायत सदस्यों ने चुनाव प्रक्रिया को लेकर जमकर नाराजगी जाहिर की। भाजपा के सभी जिला पंचायत सदस्य और संगठन के नेता जिला कार्यालय पहुंचकर कलेक्टर डॉ.सर्वेश नरेन्द्र भूरे के सामने प्रशासन पर पक्षधरता का आरोप लगाया। साथ ही चुनाव निरस्त किए जाने की मांग की।

क्षेत्र क्रमांक लिखे जाने का पुरजोर विरोध

                    मुंगेली जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव पर्यवेक्षक किशोर राय ने बताया कि जिला प्रशासन ने सत्ता पक्ष प्रत्याशी का समर्थन किया है। राय ने कलेक्टर से लिखित शिकायत के पहले जिला कार्यालय के सामने नेताओं के साथ जमकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान नेताओं ने जमकर नारेबाजी भी की। जिला प्रशासन से मुलाकात के बाद किशोर राय ने पत्रकारों को बताया कि अब से पहले इस प्रकार की धांधली देखने को नहीं मिली है।

                कांग्रेस नेताओं के इशारे पर मतपत्र के पीछे क्षेत्र क्रमांक लिखा गया। इसके बाद मत पत्रों को सदस्यों के बीच बांटा गया। इससे जाहिर होता है कि कांग्रेस नेताओं ने जानबूझकर सदस्यों की रेकी की है। मत पत्रों के पीछे लिखे क्षेत्र क्रमांक और पक्ष में डाले गए वोट के आधार पर सदस्यों को ट्रैप करने की साजिश हुई है। 

            किशोर राय ने जानकारी दी कि चूंकि मतदान गुप्त प्रक्रिया है। लेकिन क्षेत्र क्मांक लिखकर गोपनीयता का उल्लंघन किया गया है। ऐसा करना संवैधानिक अपराध है। हमने कलेक्टर से इसका विरोध किया है। कलेक्टर ने मामले में पता लगाने की बात कही है

उपाध्यक्ष चुनाव का वहिष्कार

               हंगामा के बाद भाजपा नेताओं ने जिला प्रशासन से दुबारा वोटिंग कराए जाने की मांग की। मांग पूरी नहीं होने पर उपाध्यक्ष चुनाव का बहिष्कार किया। मामले में किशोर राय ने कहा कि हम मामले को ऊपर तक ले जाएँगे। आज की घटना क्रम से स्पष्ट हो गया है कि जिला प्रशासन ने कांग्रेस प्रत्याशी को जिताने के लिए ही घटिया रणनीति को तैयार किया है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...