जानिए..स्कूल टीचर से जिला पंचायत अध्यक्ष तक कैसा रहा …? ‘बब्बू’  का सियासी सफर

बिलासपुर—बचपन में दोस्तों के साथ ही कोटा इलाके के लोग उन्हें आज भी “बब्बू” के नाम से जानते हैं ….जो अब बिलासपुर जिला पंचायत के अध्यक्ष बन गए हैं। अरुण सिंह चौहान को  करीबी लोग इसी नाम से आज भी पुकारते हैं। सीएमडी कालेज में अपनी तालीम हासिल करने वाले अरुण चौहान में अपने कैरियर के शुरुआती दिनों में करीब डेढ़ दशक तक स्कूल टीचर की नौकरी की ।
         
                      फिर जिला पंचायत के सदस्य चुने गए। कांग्रेस में रहकर उन्होंने कई जिम्मेदारियां संभाली और सामाजिक संगठनों से भी जुड़े रहे। ट्रैवल व्यवसाय से जुड़े अरुण चौहान बस यातायात संघ में भी अपनी अहम भूमिका निभाते रहे हैं। स्कूल टीचर से जिला पंचायत अध्यक्ष तक का उनका सियासी सफर काफी दिलचस्प रहा। उम्मीद की जा रही है कि शिक्षा से लेकर आम जनजीवन तक उनके तजुर्बे का फायदा ज़िले को मिलेगा।
 
                 हौले हौले बोलने और चलने वाले अरूण चौहान का चेहरा आम जनता में हमेशा मुस्कुराते हुए दिखाई दिया। जिला पंचायत चुनाव में ऐसा ही कुछ दिखा। उन्होने पहले तो विधानसभा से लोकसभा तक पार्टी संगठन को ठीक ठाक किया। मतलब अपनी जमीन को पुख्ता किया। बाद में सर्वसम्मति कोटा क्षेत्र क्मांक का चुनाव लड़ा। और फिर 14 फरवरी को जिला पंचायत का ताज हासिल किया। मजेदार बात है कि यहां भी चिर परिचित मुस्कुराते हुए अरूण चौहान बोला कम लेकिन 22 में से 17 मत हासिल कर बहुत कुछ कह दिया। 
        
                 चर्चा यह भी रही कि अरूण चौहान को 17 का अँक बहुत सहयोग करता है। उन्होने क्षेत्र क्रमांक 17 से धमाकेदार जीत हासिल की। और फिर 17 मत हासिल कर धमाकेदार तरीके से जिला पंचायत अध्यक्ष का ताज भी हासिल किया। हां संगठन और वरिष्ठ नेताओं का भरपूर साथ भी मिला।
       
           अरूण चौहान का जन्म आज से 58 साल पहले 2 अप्रैल 1962 को करगीखुर्द कोटा जिला बिलासपुर में हुआ। पेशे से किसान और परिवहन का कारोबार करने वाले अरूण चौहान के पिता का नाम स्वर्गीय भगवान सिंह चौहान है। वर्तमान अरूण चौहान 27 खोली में निवास करते हैं। अरूण चौहान की शिक्षा स्नातक तक है। इसके अलावा उन्होंने बीटीआई किया है। यही कारण है कि उन्होने करीब 14 साल 1982 से 1996 तक शिक्षण कार्य किया।
      
              शिक्षण कार्य से राजनीति में सक्रियता के साथ कदम रखने वाले अरूण चौहान खेती किसानी के अलावा संगठन में महत्वपूर्ण पदों तक पहुंचे। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सक्रिय सदस्य बनने के बाद उन्होने कई पदों को हासिल किया। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने उन्हें प्रदेश प्रतिनिधि बनाया। वर्तमान में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव भी हैं। इसके अलावा जिला कार्यकारिणी रेडक्रास सोसायटी के सदस्य भी हैं। अखिल भारतीय क्षत्रीय महासभा प्रदेश उपाध्यक्ष अरूण चौहान बस यातायात संघ बिलासपुर के संरक्षक भी हैं।
 
                                अरूण चौहान इसके पहले भई कोटा क्षेत्र से साल 2000 से 2004 के बीच जिला पंचायत सदस्य की जिम्मेदारी निभा चुके हैं। इस दौरान उन्होने कृषि स्थायी समिति के अध्यक्ष की जिम्मेदारियों को निर्वहन किया। 2016 से 2016 के बीच कोटा विधायक के प्रतिनिधि भी रह चुके हैं। साल 2007 से 2013 के बीच कोटा ब्लाक कार्यकारिणी के प्रमुख रह चुके हैं।
       
            अपनी राजनीति की यात्रा में अरूण चौहान न राजीव गांधी राज संगठन जिला बिलासपुर उपाध्यक्ष, जिला युवा कांग्रेस ग्रामीण के महामंत्री, जिला कांग्रेस कमेटी ग्रामीण के महामंत्री की जिम्मेदारी को निभाया है। इसके अलावा जिला कांग्रेस कमेटी ग्रामीण में विशेष आमंत्रित सदस्य होने के अलावा नेहरू युवा केन्द्र में साल 2000 से 2003 के बीच सदस्य के रूप में अपनी सेवाओं को दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *