कलेक्टर और पुलिस कप्तान ने संभाला मोर्चा..कहा-जनसहयोग से बना ग्रीन जोन..कुछ खट्टे,कुछ मीठे आए सवाल,दिया आनलाइन जवाब

बिलासपुर/दुर्ग— दुर्ग जिले को ग्रीन जोन घोषिन होने पर कलेक्टर अंकित आनन्द और पुलिस कप्तान अजय यादव ने आनलाइन होकर जनता, वालेंटियर की खासकर तारीफ की है। कलेक्टर और एसपी ने आनलाइन रूबरू होकर कहा कि यह सच है कि हम बहुत बड़ी लड़ाई लड़ रहे हैं। लेकिन इसकी सफलता का पूरा श्रेय जनता के योगदान को जाता है। हम आज ग्रीन जोन में है तो इसका श्रेय पुलिस, प्रशासन से हटकर आमजनता को ज्यादा जाता है।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप NEWS ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये

                 फेसबुक आनलाइव में एक साथ कलेक्टर अंकित आनन्द और पुलिस कप्तान अजय यादव जनता से रूबरू हुए। कलेक्टर ने इस दौरान लाकडाउन के उद्देश्यों के अलावा उसके परिणाम को रखा। पुलिस कप्तान ने बताया कि 27 मार्च से दुर्ग पुलिस फेसबुक आनलाइन के माध्यम से जनता को कोरोना से जुड़ी जानकारियों को साझा कर रहा है। साथ ही इस प्रकोप से बचने के उपाय को लेकर भी जानकारी दे रहा है। इस दौरान जनता का पुलिस प्रशासन का भरपूर समर्थन मिला। यही कारण है कि दुर्ग जिला को ग्रीन जोन में शामिल किया गया है।

          अजय यादव ने बताया कि अभी हम ग्रीन जोन में शामिल है। इसका अर्थ यह कतई नहीं कि खतरे से बाहर है। हमें लाकडाउन के दिशा निर्देशों का पालन करना है। अजय यादव ने फेसबुक से आनलाइन जुड़े लोगों को जानकारी देते हुए कहा  कि बहरहाल खुद को भीड से अलग रखना. सेनेटाइजर का लगातार प्रयोग करना, सोशल डिस्टेंसिग और मास्क ही कोरोना से बचने का एकमात्र उपाय है। जैसा की अभी तक हम करते आए हैं। आगे भी इस प्रक्रिया को जारी रखना है।

                 फेसबुक लाइव कार्यक्रम के दौरान जनता ने कलेक्टर और पुलिस कप्तान से कुछ रोचक तो कुछ कड़वे सवाल भी पूछे गए। पुलिस कप्तान यादव ने सभी के सवालों का जवाब दिया। उन्होने कहा कि हमें भयभीत या पैनिक नहीं होना है। कोरोना की हार निश्चित है। बस जैसा अभी तक दिशा निर्देशों का पालन किया गया..वैसे भी आगे जारी रखना है।

           आनलाइन कार्यक्रम को करीब एक हजार से अधिक लोगों ने देखा। इस दौरान तीन सौ अधिक सवाल टिप्णियों के साथ लोगों ने सुझाव देने के साथ सवाल किए। सभी का पुलिस कप्तान ने बारी बारी से जवाब दिया। साथ ही लोगों को भयमुक्त होकर अच्छे स्वास्थ्य की शुभकामनाएं भी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *