मेरे खिलाफ सियाराम की साजिश–अर्जुन

बिलासपुर— बिल्हा से कुछ दिन पहले रिटायर्ड हुए तात्कालीन एसडीएम ने आज एक प्रेस वार्ता कर बताया कि उनके खिलाफ साजिश हुई है। कमोबेश अब भी साजिश का काम जोरों से चल रहा है। उन्हें कुछ लोगों ने टारगेट किया है। बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक भी उनमें से एक हैं। मै लालू ऊर्फ राजेन्द्र तिवारी से चुनाव के बाद मिला ही नहीं। उसे जानता हूं लेकिन उसके साथ मेरा कोई व्यक्तिगत तनाव जैसा कोई मामला नहीं था। वह क्यों आत्महत्या किया इसकी जानकारी मुझे नहीं है। यह बातें आज प्रेस वार्ता में अर्जुन सिंह सिसोदिया ने कही ।

                                पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए अर्जुन सिंसोदिया ने बताया कि उन पर लगाए गए सभी आरोप निराधार हैं। मैं अक्टूबर 14 में लालू से मिला था। उसके बाद उससे मुलाकात नहीं हुई है। अर्जुन सिसोदिया ने बताया कि राजेन्द्र तिवारी के साथ दो अन्य लोगों के खिलाफ भी मामला बना था। लेकिन उन लोगों ने मेरी कोई शिकायत नहीं की। ना मैने उनसे बातचीत ही की। फिर लालू ही क्यों इस प्रकार का आत्महत्या जैसा कदम उठाया।

               सिसोदिया ने बताया कि जांच का विषय है कि लालू पहले मिट्टी तेल मांगा उसे पेट्रोल किसने दिया। जब वह ऐसा किया तो मै कलेक्टर के साथ साथ था। उस समय कार्यालय में मेरे उपस्थित होने का सवाल ही नहीं था। अर्जुन सिसोदिया ने चर्चा के दौरान कहा कि कुछ लोग मेरे खिलाफ साजिश रच रहे हैं। साजिशकर्ताओं में बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक भी हो सकते हैं। उनकी ही लालू से नहीं बनती थी। उन्होंने लालू की शिकायत भी  थाने की थी।

                       सिसोदिया के अनुसार लालू पर पुलिस ने कार्रवाई की है उससे उनका कोई लेना देना नहीं है। इस मामले में उनकी मुलाकात लालू से नहीं हुई थी। किसी भी मामले में प्रकरण बन जाने के बाद समझौता होने का सवाल ही नहीं उठता। समझौता या फिर किसी प्रकार की कार्रवाई और निर्णय न्यायालय में ही होता है।

          एक सवाल के जवाब में अर्जुन सिसोदिया ने बताया कि जीवन लाल मनहर के खिलाफ पूरा गांव था। उसे प्रक्रिया के तहत सजा मिली। जेल में कियों और किन कारणों से मौत हुई मैं नहीं जानता। लेकिन राजेन्द्र तिवारी के खिलाफ गांव में किसी की शिकायत नहीं थी। मै भला उस पर क्यों कार्रवाई करता। इतना ही नहीं उसके साथ चुनाव के दौरान जिन लोगों के बीच में विवाद था। उन पर भी राजेन्द्र तिवारी की तरह पुलिस में मामला दर्ज था। उससे मेरा क्या लेना देना।

         अर्जुन ने बताया कि जांच के बाद सब कुछ सामने आ जाएगा कि राजेन्द्र तिवारी आत्महत्या काण्ड में कौन कितना भागीदार है। लेकिन मै दावे के साथ कहता हूं कि इस पूरे प्रकरण में उनकी भूमिका कहीं नहीं है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...