अटल ने कहा..डॉ.रमन ने किया कोरोना वारियर्स का अपमान..माफी मांगे..और बताएं..किसने दी मजदूरों को जिल्लत की जिन्दगी..कितना मांगा पैकेज..?

बिलासपुर—-पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के बयान को प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने कर्मचारियों और कोरोना वारियर्स का अपमान बताया है। अटल ने कहा कि कम से कम पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह से ऐसे गैर जिम्मेदार बयान की उम्मीद नहीं थी। जो कर्मचारी और अधिकारी कोरोना वारियर्स बनकर कोविड-19 के मरीजों की सेवा कर रहे हैं। कम से कम उन्हें राजनीति में घसीटना ठीक नहीं। इसके लिए डॉ रमन सिंह को कोरोना वारियर्स से माफी मांगनी चाहिए।
 
                 प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्त ने कहा डॉ रमन सिंह के बयान से जाहिर हो गया है कि भाजपा अपने अस्तित्व से संघर्ष कर रही है। यही कारण है कि अब कोरोना वारियर्स का अपमान कर भूपेश  सरकार को बदनाम करने की साजिश होने लगी है। अटल ने कहा कि छत्तीसगढ़ समेत पूरे देश में आपाधापी,मारामारी,की स्थिति है। इसके लिएकेवल और केवल केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार है। केन्द्र की अदूरदर्शिता पर भी रमन सिंह को कुछ बोलना चाहिए। लेकिन नहीं बोलेंगे।
 
           अटल ने कहा कि 40 दिन तक श्रमिक जिल्लत की जिंदगी जीने के लिए मजबूर हुए। भूखे प्यासे,गर्भवती महिलाएं,वृद्ध ,छोटे छोटे बच्चे,बीमार श्रमिक हजारो हजारो किलो मीटर पैदल चल पड़े। कुछ श्रमिकों ने रास्ते मे दम तोड़ दिया। कुछ दुर्घटना और बीमारी के शिकार हुए। इन 40 दिनों ने जो मंजर सामने आया। उसे देखकर पत्थर कलेजा भी पिघल जाए। यह सब केन्द्र सरकार की असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा है। अटल ने कटाक्ष करते हुए कहा कि शायद इसी मॉडल को ड़ॉ.रमन सिंह प्रदेश में लागू करना चाहते हैं। ऐसी सोच को धिक्कार है।
 
        अटल श्रीवास्तव ने कहा पूरे देश में सर्वाधिक मनरेगा मजदूर छत्तीसगढ़ में काम कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने मजदूरी 500 रुपये देने का एलान किया है। लेकिन रमन सिंह बोल रहे हैं कि राज्य सरकार 1000 रुपये मजदूरी दे। अटल श्रीवास्तव ने कहा  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल संवेदनशील,है।  सरकार गरीबो के साथ खड़ी है। सब तरह की मदद दी जा रही है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस बात को लेकर राज्य सरकार और मुख्यमंत्री भूपेश की जमकर प्रसंशा हो रही है।
 
                        अटल ने कटाक्ष किया कि रमन सिंह कोल ब्लॉक के लेवी की राशि 4140 करोड़ रुपये केन्द्र से दिलवाए। अभी तक केंद्र सरकार ने कोरोना संकट में कोई सार्थक सहयोग नही किया है। रमन सिंह ,भाजपा और उनके सांसदों बताएं कि अभी तक छत्तीसगढ़ की जनता के लिए कितनी राशि दी है? सीएसआर का पैसा केंद्र सरकार दबाव बनाकर क्यों हड़प रही है। जबकि सीएसआर मद को उसी राज्य में ही खर्च करना होता है । जिस राज्य में कल-कारखाना,फैक्ट्री लगी होती है। वाबजूद इसके रमन सिंह और प्रदेश के भाजपा नेता चुप है। यह चुप्पी भाजपा में गड़बड़ी की संकेत देती है।
 
                अटल श्रीवास्तव ने बताया कि रमन सिंह ने सत्ता में रहते हुए किसानों के साथ छल किया। समर्थन मूल्य की बात भूल गए। वही भूपेश सरकार पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी शहादत दिवस 21 मई को समर्थन मूल्य की अंतर राशि किसानों को  देने का एलान किया है। ऐसे में रमन सिंह का बेतुका बयान यह जाहिर करता है कि वह किसानों के विरोधी हैं। 
 
             मीडिया के माध्यम से अटल ने रमन सिंह से जवाब मांगा कि प्रदेश की जनता को रमन सिंह बताएं कि 60 दिनों में छत्तीसगढ़ की जनता के लिए केंद्र सरकार से कितना का पैकेज मांगा ? प्रवासी मजदूरों के लिए आश्रित प्रान्त के कितने मुख्यमंत्रियों से बात कर राहत देने की बात की?
 
loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...