कांग्रेस नेताओं ने कहा..दम हो तो रमन और धरम लौटाएं अन्तरराशि..15 साल किसानों को छला..अब कर रहे नौटंकी.. लागू कराएं स्वामिनाथन सिफारिश

बिलासपुर—– जिला कांग्रेस शहर और ग्रामीण अध्यक्षों ने प्रेसवार्ता कर राजीव गांधी किसान न्याय योजना की  तारीफ की। दोनों नेताओं ने बताया कि कांग्रेस ने जो कहा सो किया। लेकिन किसान विरोधी भाजपा नेताओं  को किसानों की खुशी देखी नहीं जा रही है।

                  जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी, प्रमोद नायक और प्रदेश कांग्रेस महामंत्री अर्जुन तिवारी ने किसान न्याय योजना को लेकर प्रेसवार्ता में भाजपा नेताओं  पर जमकर निशाना साधा। विजय और प्रमोद नायक ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने किसानों को धान की अन्तर राशि देकर वादा को पूरा किया है। किसानों का लगभग 11000 करोड़ रूपये का कर्ज भी माफ किया है।

              कांग्रेस नेताओं ने बताया कि धान की अन्तर राशि मिलने से कोरोना काल में किसानों की खुशी देखते ही बन रही है। लेकिन भाजपा नेताओं के चेहरे उतरे हुए हैं।  भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक समेत अन्य भाजपा नेताओं ने हमेशा किसानों को छला है। यदि दम है तो स्वामिनाथन कमेटी की सिफारिश को लागू  करवाएं।

            विजय ,प्रमोद और अर्जुन तिवारी ने निशाना साधते हुए कहा कि जुमलेबाज मोदी सरकार बताएं कि 2022 तक कैसे किसानों की आय दोगुनी कैसे होगी ? जबकि रमन सिंह के कार्यकाल में वादाखिलाफी को किसान अभी भूला नहीं है। क्योंकि भाजपा सरकार ने 15 साल तक किसान और आम जनता के साथ केवल और केवल छला है। 

            यदि भाजपा नेताओं में दम है तो केन्द्र सरकार से कोरोना महामारी काल में स्पेशल पैकेज की मांग कर किसानों का बकाया 2 साल की बोनस राशि दिलाएं । मोदी सरकार को किसान सम्मान निधि की राशि 6000 से बढ़ाकर 12000 एकमुश्त जमा करने को कहें। छत्तीसगढ़ के लाखों किसानों को अभी तक सम्मान निधि नही मिली है। केन्द्र सरकार को कहें कि  किसानों को सस्ते दरों में डीजल रासायनिक खाद उपलब्ध कराएं।

              कांग्रेस नेताओं ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने  जन कल्याणकारी कार्यों से किसानों युवाओं मजदूरों महिलाओं के हित में क्रांतिकारी फैसले लिए हैं। मात्र 18 महीने में प्रदेश की जनता के चहरे खिल गए है। बावजूद इसके किसान हितैषी सरकार पर भाजपा नेता लगातार तथ्यहीन मनगढ़ंत आरोप लगाए जा रहे हैं। लेकिन प्रदेश का किसान भाजपा के चाल-चरित्र-चेहरा के जाल में अब फंसने वाले नहीं है।

                  कांग्रेस नेताओं ने बताया कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना शुरू होने से किसानों के खिलाफ षड्यंत्र कर रहे भाजपा नेताओं का असली चेहरा उजागर हो चुका है।  भाजपा नेताओ को छत्तीसगढ़ के किसानों के विषय में बोलने का कोई अधिकार नहीं है। जब भी किसानों की हित की बात आती है भाजपा नेता विरोध में नजर आती है।

                 उदाहरण पेश करते हुए अर्जुन तिवारी ने कहा कि मोदी सरकार ने केंद्रीय शक्तियों का दुरुपयोग कर छत्तीसगढ़ सरकार पर धान खरीदी को लेकर नियम शर्त थोप दिया। लेकिन प्रदेश के भाजपा नेताओं ने किसानों के खिलाफ हो रहे अन्याय को लेकर मुंह तक नहीं खोला। 

           एक सवाल के जवाब में कांग्रेस नेताओं  ने इंकार किया कि  किसानों की उधारी को लौटाया है। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि किसानों से उधारी लिया ही नहीं गया। .फिर लौटाने का सवाल ही नहीं उठता है। किसानों से धान 2500 रूपए प्रति क्विटंल के हिसाब से खरीदने का वादा किया गया था। लेकिन केन्द्र सरकार ने समर्थन मूल्य देने से इंकार कर दिया। लेकिन मुख्यमंत्री भूपेश ने वादा निभाया। 1835 समर्थन मूल्य किसानों को देने के बाद किसान न्याय योजना के माध्यम से 21 मई को सभी किसानों के खाते में अन्तर राशि को जमा किया है। 

                 सवाल जवाब के दौरान कांग्रेसियों ने बताया कि भूपेश ने अब सरकार धान मक्का और गन्ना के 19 लाख किसानों को लाभ देने का वादा किया है। 355 रूपए समर्थन मूल्य से 250 करोड़ रूपए की गन्ना खरीदी हुई है। हमने जो किया सो किया है। किसान न्याय योजना के माध्यम से बता भी दिया है।

        कांग्रेसियों ने कहा कि  भारतीय जनता पार्टी और नेता किसानों के प्रति बहुत ज्यादा नफरत है।  डॉ रमन सिंह ने 15 साल तक किसानों से किए गए किसी भी वादे को पूरा नहीं किया। चाहे मामला भू अधिग्रहण का हो बोनस का । लेकिन अब दिखावे का विरोध कर रहे है। खाते में आए रूपए को जाहिर नहीं कर रहे हैं। किसानों को गुमराह करने का नाटक कर रहे हैं। यदि भाजपा नेताओं में थोड़ी भी नैतिकता बाकी हो तो  योजना का विरोध करते हुए  राज्य शासन से मिली अन्तर  राशि को वापस कर दें। 

               एक सवाल के जवाब में कांग्रेसियों ने कहा कि राजीव गांधी पंचायती राज्य व्यवस्था के पुरोधा है। उनके ही प्रयास से गांव और किसानों का समग्र विकास की बुनियाद रखी गयी। इसलिए हमने योजना का नाम राजीव गांधी किसान न्याय योजना दिया है। 

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...