क्वारन्टीन सेंटर मे लगातार ड्यूटी कर रहे शिक्षकों को राहत,किन्तु आज जारी संशोधित सूची में महिला शिक्षकों की जवाबदारी तय..दिनेश राजपूत बोले-ड्युटी से इनकार नही, यद्यपि मानवीय दृष्टिकोण का रखें ख्याल

बिलासपुर/तखतपुर-विगत 25 मई 2020 को शालेय शिक्षा कर्मी संघ बिलासपुर के प्रतिनिधि मंडल ने जिला अध्यक्ष दिनेश राजपूत के नेतृत्व में विकासखंड शिक्षा अधिकारी तखतपुर को अनुविभागीय अधिकारी कोटा के नाम ज्ञापन सौपकर मांग किया था कि कॉरेन्टीन सेंटरों में कार्य करने वाले शिक्षको का ड्यूटी निरस्त किया जावे । संगठन के मांग का असर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कोटा ने उक्त सूची को निरस्त करते हुए नया सूची जारी किया है। साथ ही रेल्वे स्टेशन में ड्यूटी एवं अन्य कार्य हेतु संकुल केंद्र सकरी में कंट्रोल रूम बनाया गया था, उसे भी कोरोना महामारी को देखते हुए बंद किया गया है।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप NEWS ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये

दिनेश राजपूत ने बताया कि “‘शिक्षको की ड्यूटी रेल्वे स्टेशन एवं कॉरेन्टीन सेंटर में लगाई गई थी, सभी शिक्षक अपने कर्तव्यों का निर्वहन बखूबी कर रहे है। लेकिन जहां आवश्यकता नही है वहां ड्यूटी लगाना अनुचित है।साथ ही कोविड 19 में काम करने वाले शिक्षको को बीमा राशि एवं अन्य सम्पूर्ण सुविधा उपलब्ध कराया जाय।””

साथ ही उन्होंने बतलाया कि अधिकारियों द्वारा आज दिनांक 30 मई को कॉरेन्टीन सेंटरों हेतु डयूटी की नई सूची जारी की गई है, उसे तत्काल निरस्त किया जावे क्योकि जारी सूची में अधिकतर महिला शिक्षको की ड्यूटी लगाई गई है। महिला शिक्षको को कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा… वर्तमान में बस ऑटो का संचालन नही किया जा रहा है जिसके चलते महिला शिक्षको को आवागमन में दिक्कत होगी। सभी कॉरेन्टीन सेंटरों में शिक्षको की ड्यूटी की आवश्यकता ही नही है क्योंकि अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कोटा के द्वारा पहले से ही सरपंच /सचिव को सेंटर का नोडल एवं रोजगार सहायक,पटवारी,मितानिनों,आंगन बाड़ी कार्यकर्तओं को पाली वार ड्यूटी लगाई गई है। इस कारण आज कॉरेन्टीन सेंटर हेतु जारी की गई सूची का औचित्य ही नही है।

साथ ही सभी शिक्षक वर्तमान में पढ़ाई तुंहर द्वार के अंतर्गत बच्चो को ऑनलाइन पढ़ाई करा रहे है शिक्षक प्रगति पत्रक भरने सहित अन्य विद्यालयीन कार्य कर रहे है। अतएव उक्त समस्याओं एवं आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुवे तत्काल सूची निरस्त किया जावे,, साथ ही कोरोना ड्यूटी में संलग्न शिक्षको का 50 लाख बीमा व अन्य सुविधा मुहैया कराया जावे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *