स्वाध्यायी छात्रों को भी चाहिए जनरल प्रमोशन..तनमीत ने बताया..अभी आधी जीत..पूरी जीत का इंतजार

बिलासपुर—देश भर में कोरोना वायरस के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है। लॉक डाउन के चलते सभी शिक्षण संस्थान बंद हैं। ऐसे में प्रथम व द्वितीय वर्ष के रेगुलर छात्रों को जनरल प्रमोशन देने के बाद अब प्राइवेट छात्रों के मन में भी परीक्षा और पढ़ाई को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया के डिस्ट्रिक्ट प्रेसिडेंट तनमीत छाबड़ा की अगुवाई में जिले के सभी पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने विश्वविद्यालय प्रशासन, राज्य शासन को मेल के माध्यम से ज्ञापन दिया है। प्राइवेट छात्रों को भी जनरल प्रमोशन का लाभ दिए जाने की मांग की है। 
 
           एनएसयूआई जिला अध्यक्ष तनमीत छावड़ा की अगुवाई में छात्र नेताओं ने प्रायवेट परीक्षार्थियों के लिए भी जनरल प्रमोशन की मांग की है। तनमीत ने बताया कि वर्तमान में अटल विश्वविद्यालय के अंतर्गत लगभग 60  से  80 हजार प्राइवेट छात्र पंजीबद्ध है। प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में स्वाध्यायी छात्रों की संख्या करीब 5 लाख के आसपास है।  छत्तीसगढ़ में कोविड -19 से प्रभावित मरीजों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है।  विशेषज्ञों पर विश्वास करें तो आगामी तीन से चार महीनों तक किसी बड़ी परीक्षा का आयोजन संभव नहीं है।
     
             एनएसयूआई जिला अध्यक्ष ने बताया कि शैक्षणिक सत्र आगामी पखवाड़े में शुरू होने जा रहा है। ऐसे में 3 से 4 महीने बाद परीक्षा आयोजन होने की आशंका से छात्रों को पूरा साल बर्बाद होना निश्चित है। स्वाध्यायी छात्रों में साल बरबाद होने को लेकर डर है।
 
            तनमीत छाबड़ा ने  कहा कि सामान्यतः प्राइवेट पद्धति से से परीक्षा देने वाले ज्यादातर छात्र ग्रामीण क्षेत्र से हैं। अधिकांश छात्र पढ़ाई के साथ साथ छोटा-मोटा रोजगार करते हैं। इसके चलते परिवार का भरण पोषण होता  है। लॉक डाउन के दौरान यदि परीक्षा का आयोजन किया जाता है तो इन गरीब छात्रों को समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. 
 
                    तनमीत ने बताया कि हमने पहले भी छात्रों को जनरल प्रमोशन देने की मांग की थी।  राज्य शासन ने नियमित छात्रों को जनरल प्रमोशन देकर हमारी आधी मांग पूरी किया है। विश्वविद्यालय प्रशासन और राज्य शासन को मेल के माध्यम से ज्ञापन दिया है। हमने मांग की है कि स्वाध्यायी छात्रों को भी जनरल प्रमोशन का लाभ दिया जाए।
 
जनरल प्रमोशन की सबसे पहले मांग
 
            तनमीत छावड़ा ने बताया कि एनएसयूआई बिलासपुर ने सबसे पहले जनरल प्रमोशन की मांग को उठाया था। एनएसयूआई ने 6 मई को अटल विश्वविद्यालय के कुलपति जी. डी. शर्मा को ज्ञापन दिया था। उच्च शिक्षा मंत्री से भी चर्चा की थी। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा ने बिलासपुर एनएसयूआई की मांगों को समर्थन करते हुए छात्र को जनरल प्रमोशन दिए जाने को लेकर सीएम से भी चर्चा की थी।
 
            लगातार प्रयास के बाद कुलपतियों की बैठक में मुद्दे को प्रमुखता से रखा गया। राज्य शासन ने छात्रों के हित में निर्णय लेते हुए अटल विश्वविद्यालय समेत प्रदेश भर के 6 लाख से ज्यादा छात्रों को जनरल प्रमोशन का लाभ दिया। एनएसयूआई जिलाध्यक्ष तनमीत छाबड़ा ने छात्रों के जनरल प्रमोशन की मांग पूरी होने पर खशी जाहिर करते हुए कहा कि यह छात्रों की जीत है।

loading...
loading...

Comments

  1. By Mk markam

    Reply

  2. By Archana Bajpeyee

    Reply

  3. By Pradeep sahu

    Reply

  4. By Nitin soni

    Reply

  5. Reply

  6. By RAVI KUMAR

    Reply

  7. By Kanwal Preet Kaur

    Reply

  8. By Karan Nathani

    Reply

  9. Reply

  10. By Krishna Sahu

    Reply

  11. By Krishna Sahu

    Reply

  12. By RAVI KUMAR

    Reply

  13. By RAVI KUMAR

    Reply

  14. By Shivangi

    Reply

  15. By Aayush soni

    Reply

  16. By Shiv

    Reply

  17. By vijay soni

    Reply

  18. By mukesh kumar

    Reply

  19. By Pragya Awasthi

    Reply

  20. Reply

  21. By Chandrahas dubey

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...