जस्टिस दिवाकर ने किया नेशनल लोक अदालत का मौका-मुआयना

lokadalat

बिलासपुर ।   छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण बिलासपुर के कार्यपालक अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री प्रीतिंकर दिवाकर द्वारा आज जिला न्यायालय बिलासपुर का भ्रमण कर नेशनल लोक अदालत की कार्यवाही का अवलोकन किया गया। इस दौरान उन्होने पक्षकारों से चर्चा कर उनकी समस्याएं सुनी तथा उन्हें लोक अदालत का लाभ उठाते हुये आपसी सुलह समझौता के माध्यम से प्रकरण निराकरण कराने की समझाईश दी।
न्यायमूर्ति श्री दिवाकर द्वारा नेशनल लोक अदालत की कार्यवाही में उपस्थित होकर बैंक अधिकारियों से चर्चा कर छत्तीसगढ़ राज्य में सूखा आपदा को ध्यान में रखते हुये ऋण ग्रहिताओं को अधिक से अधिक छूट प्रदान करते हुये लोक अदालत का लाभ आम जनता तक पहुंचाने और सहयोग करने के लिये कहा गया। इसी तरह विद्युत विभाग के अधिकारियों से चर्चा कर सरचार्ज की छूट का लाभ अधिक से अधिक लोगों को देते हुये आम जनता को राहत देने के लिये कहा गया। उनके द्वारा कुटुम्ब न्यायालय की खण्डपीठ का भ्रमण किया गया।

खण्डपीठ में लिंगियाडीह निवासी श्रीमती रजनी यादव द्वारा अपने पति हीरालाल के द्वारा मारपीट तथा प्रताडि़त कर घर से निकाल दिये जाने के संबंध में मामला प्रस्तुत किया गया था। जो कि राष्ट्रीय लोक अदालत में निराकरण हेतु रखा गया था।  कार्यपालक अध्यक्ष  द्वारा उभयपक्ष की बातों को सुनकर उनसे बातचीत की गयी तथा दाम्पत्य जीवन के सफल निर्वहन के लिये एक दूसरे की भावनाओं का सम्मान करने तथा परिवार के वरिष्ठजनों से आदरपूर्वक व्यवहार करने की समझाइस दी गयी। उभयपक्ष को उनकी समझाइस पर खुशी-खुशी एक साथ दाम्पत्य जीवन व्यतीत करने के लिये प्रोत्साहित हुये। जिसके बाद परिवार न्यायालय की खण्डपीठ के द्वारा आवेदिका श्रीमती सरोजनी यादव एवं उनकी माता श्रीमती शकुनबाई यादव एवं अनावेदक हीरालाल यादव तथा उनके पिता अरूण यादव के मध्य समझौता कार्यवाही सम्पन्न किया गया। वे अपने-अपने घर चले गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *