डीएमई डॉ.आदिले पर लटकी गिरफ्तारी की तलवार .ओपी शर्मा का दावा..कभी भी जा सकता है जेल..स्वास्थ्य मंत्री का आश्वासन

बिलासपुर– छत्तीसगढ़ प्रदेश कर्मचारी संघ ने संविदा संचालक चिकित्सा स्वास्थ्य शिक्षा डॉ.एस.एल.आदिले को पद से तत्काल हटाए जाने की मांग है। स्वास्थ्य मंत्री और सचिव को लिखित दस्तावेज पेश कर आदिले पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए सख्त कार्रवाई करने को कहा है। छत्तीसगढ़  स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के नेताओं ने बताया कि आदिले के खिलाफ सारी जांच पड़ताल और रिपोर्ट देखने के बाद मंत्रालय ने अभियोजन स्वीकृति पत्र विधि विभाग को भेजा है। किसी भी समय डीएमई आदिले की गिरफ्तारी हो सकती है।
 
                        छत्तीसगढ़ प्रदेश कर्मचारी संघ  प्रांताध्यक्ष ओपी शर्मा के हवाले से मिली खबर के अनुसार स्वादथ्य मंत्री से मिलकर भ्र्ष्टाचार में आकंठ डूबे डॉ आदिले को तत्काल हटाए जाने की मांग की है। स्वास्थ्य मंत्री को बताया गयी कि आजिले ने अपने सेवाकाल के दौरान जमकर भ्रष्टाचार किया है। मामले में विभाग से लेकर पीएससी और सचिव स्तर के रिपोर्ट में आदिले को भ्रष्टाचार का दोषी पाया गया है। बावजूद इसके डॉ.आदिले अभी तक खुलेआम ना केवल घूम  रहा है। बल्कि संविदा में काम करते हुए भ्रष्टाचार को बढ़ावा भी दे रहा है।
 
            ओपी ने बताया कि बाचतीत के दौरान स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को जानकारी दी  कि डॉ.आदिले ने अपनी सेवा काल के दौरान जगदलपुर मेडिकल कालेज, रायरपुर मेडिकल कालेज अस्पताल और डेन्डल कालेज में दवाई उपकरण और मशीन खरीदी में भारी भ्रष्टाचार किया है। जांच के दौरान सभी मामले में डॉ.आदिले को दोषी पाया गया है। डॉ.आदिले ने  मेडिकल कालेज भ्रर्ती में कोटा का सीट बेचा है। करोड़ों रूपए कमाए हैं। नियुक्तियों में जमकर भ्रष्टाचार किया है। गलत नियुक्तियों में कई लोग जेल की सजा भी काट रहे हैं। लेकिन मुख्य दोषी अब भी जेल के बाहर ऐश कर रहा है। 
 
                    जबकि आदिले ने स्थानांतरण नीति के खिलाफ पद नहीं होते हुए भी दबाव डालकर ज्वाइनिंग कराया। लगभग 400 से अधिक नर्सों की नियुक्ति में जमकर भ्रष्टाचार किया। नर्स नियुक्ति की सच्चाई आने के बाद शासन ने फिर नए सिरे से भर्ती के लिए आदेश जारी किया था। 
  
             स्वास्थ्य मंत्री को प्रतिनिधिमंडल ने जानकारी दी कि विधि एवं विधायी कार्य विभाग ने एक्शन लेते हुई 11 मई को  पत्र भी जारी किया है। वावजूद इसके अभी तक आदिले के खिलाफ किसी प्रकार कार्रवाई नहीं हुई है। 
  
            ओपी शर्मा ने मीडिया को बताया कि स्वास्थ्य मंत्री को अंधेरे में रखकर चहेतों ने आदिले को संविदा पद पर भर्ती किया है। लेकिन अब सच्चाई सामने आ चुकी है। जल्द ही डा.आदिले की गिरफ्तारी होगी। हमने जांच रिपोर्ट के साथ लिखित दस्तावेज स्वास्थ्य मंत्री को दिए हैं। उन्हें बताया गया कि डॉ.आदिले के कार्यकाल में कृष्णकांत साहू ने नियुक्ति घोटाले में 2 करोड़ कमाए। जांच में दोषी पाए जाने के बाद जेल की सजा काट रहा है। स्वास्थ्य मंत्री ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जल्द कड़ी कार्यवाही का आश्वासन दिया है ।
 
 कार्रवाई के लिए दिल्ली भेजा गया पत्र
      
           स्वास्थ्य कर्मचारी नेता के अनुसार विधि विभाग छत्तीसगढ शासन ने थाने में आदिले के खिलाफ आपराधिक प्रकरण के आधार पर कार्रवाई के लिए दिल्ली पत्र भेजा गया है। सचिव स्वास्थ्य विभाग ने अभिमत विधि विधायी विभाग को दे दिया है। कभी भी डॉ.आदिले की गिरफ्तारी हो सकती है। आगे भी अन्य भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ दस्तावेज के आधार पर सख्त कार्रवाई की मांग करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *