दमकल के पहुंचने से पहले बैंक जलकर खाक..मुख्य प्रबंधक हेमन्त शर्मा ने बताया..चेस्ट रूम का लाकर सुरक्षित

बिलासपुर— शनिवार और रविवार की दरमियानी रात कोटा स्थित सेन्ट्रल बैंक शाखा में आग लग गयी। देखते ही देखते बैंक जलकर खाक हो गया। हालांकि सेन्ट्र्ल बैक के मुख्य प्रबंधक हेमन्त शर्मा का दावा है कि चेस्ट रूम में रखे कैश लाकर को बचा लिया गया है।

                      बीती  रात कोटा स्थित सेन्ट्रल बैंक शाखा में आग लग गयी। इसके पहले बैंक को आग से सुरक्षित बचाने का प्रयास किया जाता..बैंक पूरी तरह जलकर खाक हो गया। पुलिस सूचना के बाद बिलासपुर से दो दमकल की गाड़ियां पहुंची…सुबह तक आग पर काबू पा लिया गया। 

             मामले स्थानीय थानेदार राजकुमार सोरी ने बताया कि बैंक किराए के मकान से संचीलित किया जा रहा है। करीब 1 बजकर 30 मिनट पर पेट्रोलिंग पार्टी ने जानकारी दी कि बैंक के अन्दर से धुआं और आग की लपटें निकल रही है। इसके बाद मौके पर खुद पहुंचा। तत्काल दमकल की टीम को बुलाया गया। करीब 45 मिनिट बाद दमकल की टीम बिलासपुर से कोटा पहुंंची। इस बीच बैंक जलकर खाक हो चुका था। 

        इस बीच स्थानीय लोगों ने  अपने प्रयास से आग बुझाने की कोशिश की। लेकिन आग की लपटें बहुत तेज थी। जिसके चलते आग को काबू करना काफी मुश्किल साबित हुआ। 

              थानेदार राजकुमार सोरी ने बताय कि मामले की जानकारी बैंक कर्मचारियों को फोन पर दी गयी। इस दौरान कोटा नगर पंचायत को भी आग की जानकारी दी गयी। साथ ही दमकल गाड़ी भेजने को कहा गया। लेकिन गाड़ी बिगड़ने की जानकारी के बाद दमकल टीम  को बिलासपुर से बुलाया गया।

फर्नीचर,एसी और कम्प्यूटर जलकर खाक

               मामले में जानकारी देते हुए सेन्ट्रल बैंक मुख्य प्रबंधक हेमन्त शर्मा ने बताया कि रूपए सुरक्षित हैं। जैसा की प्रारम्भिक जानकारी मिली है कि बैंक में आग लगने का प्रमुख कारण शार्ट सर्किट है। आगजनी में सभी बैंक कागजों के अलावा 5-6  कम्प्यूटर, एक दर्जन से अधिक फर्नीचर और दो संख्या में एसी खाक हो चुका है। लेकिन चेस्ट रूम में रखे लाकर को किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचा है। इसके अलावा आगजन से बैंक का सारा सामान जल चुका है। 

फिलहाल बताना मुश्किल

               हेमन्त शर्मा ने बताया कि फिलहाल आगजनी से कितना नुकसान हुआ है बताना मुश्किल है। अब मामले में आकलन किया जाएगा। रिपोर्ट प्रबंधन के साथ ही पुलिस को भी देंगे।

loading...
loading...

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...