SUV का झांसा देकर साढ़े 14 लाख की ठगी..बिहार में पकड़ाए दोनों आरोपी.. भारी मात्रा में ठगी का सामान बरामद.. IG और SP ने किया इनाम का एलान

बिलासपुर— सेवानिवृत डीआरडीओ वैज्ञानिक को लकी ड्रा में महिन्द्रा एसयूव्ही का झांसा देकर साढ़े 14 लाख की ठगी के आरोपियों को पुलिस ने बिहार से धर दबोचा है। पकड़े गए जालसालों के पास अच्छी खासी संख्या में मोबाइल सिम कार्ड,लैपटाप और एटीएम बरामद किया गया है। आरोपियों के पास से पांच लाख से अधिक रूपये भी बरामद किए गए हैं।

                  बुधवार को मामले का खुलासा कर एडिश्ननल एसपी ने सिलसिलेवार जानकारी दी। उस्लापुर गैलैक्सी अपार्टमेन्ट निवासी डीआरडीओ के वरिष्ठ वैज्ञानिक सीएल पटेल को अज्ञात कालर ने 27 जुलाई को फोन किया। उसने बताया कि लकी ड्रा में उन्हें प्रथम पुरस्कार मिला है। यदि वह चाहें तो साढ़े 14 लाख की महेन्द्रा एसयूव्ही लें..या फिर साढ़े लाख लाख रूपए नगद हासिल कर सकते हैं।

                    कालर को सीएल पटेल ने रूपए लेने की बात कही। इसके बाद कालर के बताए अनुसार पटेल ने अपने अकाउन्ट से आनलाइन रजिस्ट्रेशन शुल्क का भुगतान किया। और उसने पटेल के खाते से 1450994 रूपए का आहरण कर लिया। मामले की जानकारी के बाद पटेल ने सकरी थाना में जालसाजी कर ठगी का शिकार होने की  जानकारी दी।

                  अपनी शिकायत में प्रार्थी पटेल ने बताया कि आरोपियों ने खाते से अलग अलग किश्तों में रकम निकाला है। सम्पर्क करने पर कालर ने बार बार भूलवश रकम ट्रांसफर होने की जानकारी दी। साथ ही वापस लौटाने की बात कही। इस दौरान आरोपियों ने पांच अलग अलग मोबाइल नम्बर से ठगी की है।

                सकरी थाने मे रिपोर्ट दर्ज होने के बाद मामले की जानकारी पुलिस कप्तान को दी गयी। पुलिस कप्तान ने अतिरिक्त पुलिस कप्तान ओमप्रकाश शर्मा नगर पुलिस अधीक्षक आरएन यादव और निमेष बरैया को सायबर सेल के सहयोग से मामले की तह जाने को कहा ।

                             ओपी शर्मा ने बताया कि पटेल ने रजिस्ट्रेशन के लिए अपनी मोबाइल से 3500 रूपए रजिस्ट्रेशन फीस आनलाइन भुगतान किया। इसके बाद आरोपियों ने जालसाजी कर यूजरआईडी और पासवर्ड हासिल कर बैंक खाता मोबाइल नम्बर को बदलवा दिया। इसके बाद अलग अलग खातों में पेटीएम वालेट से से राशि को निकाला गया।

मोबाइल लोकेशन की जानकारी

                  सायबर सेल ने छानबीन के दौरान बताया कि मोबाइल नम्बर कोलकाता और पश्चिमबंगाल क्षेत्र से है। मोबाइल लोकेशन जिला नवा़डा के वारिसअली गंज थाना क्षेत्र बलवापर और कान्हा का है। पूरी जानकारी के बाद बिलासपुर की पुलिस टीम ने  नवाडा पुलिस को विस्तार से जानकारी दी। इसके बाद बिलासपुर की पुलिस टीम नवादा  रवाना हुई। स्थानीय  पुलिस के सहयोग से आरोपियों के बलवापार चकराता स्थित ठिकानों पर धावा बोला गया। गौतम और नीरज नाम के आरोपियों को पकड़ा गया। कड़ाई से पूछताछ के बाद दोनों ने जुर्म स्वीकार किया।

साइट से मिला पता ठिकाना

               पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि स्नैपडील, अमेजन, शापक्लूज, बिगबाजार आनलाइन शापिंग साइट से नाम और पता मोबाइल नम्बर रजिस्ट्रेशन की जानकारी करते हैं। इसके बाद लकी ड्रा पुरस्कार का झांसा देकर आनलाइन ठगी को अंजाम देते हैं।  

           आनलाइन ठगी के खुलासे में सिटी कोतवाली थाना प्रभारी कलीम खान,  सकरी थाना प्रभारी रविन्द्र कुमार यादव, साइबर सेल प्रभारी प्रभाकर तिवारी, उप निरीक्षक मनोज नायक,उपनिरीक्षक सागर पाठक, सहायक उप निरीक्षक हेमन्त आदित्य, अशोक चौरसिया, विरेन्द्र साहू, सुनील पटेल,बलबीर सिंह, अविनाश पाण्डेय, संतोष यादव का महत्वपूर्ण भूमिका रही।

                      बड़ी कामयाबी पर आईजी दीपांशु काबरा, और पुलिस कप्तान प्रशांत अग्रवाल ने टीम को पुरस्कृत करने का एलान किया है।

आरोपियों से बरामद सामाग्री

                    आरोपियों के पास से पुलिस को 2 नग लैपटाप, 21 मोबाइल, 8 पासबुक, 6 डेविड कार्ड, एक नग चेकबुक, 4 आधार कार्ड, तीन मतदाता परिचय पत्र, एक रिस्ट वाच, 2 नग मेमोरी कार्ड, एक पेन ड्राइव, 536405 रूपए बरामद किया गया है। 

गिरफ्तार आरोपियों के नाम और पता ठिकाना

                      गिरफ्तार किए गए आरोपियों के नाम गौतम कुमार पिता संजय प्रसाद उम्र 22 साल निवासी बलवापार चकवाई थाना वारिसअली गंज जिला नवादा। जबकि दूसरे आरोपी का नाम नीरज कुमार पिता गणेश कुमार उम्र 18 साल निवासी मीरदीघा चकवाई थाना वारिसअलीगं ज जिला नवाडा है।

loading...
loading...

Tags:, ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...