अब शुरू हुआ सेनेटाइजिंग का गोरख धंधा..सर्विस सेन्टर में सुरक्षा के नाम पर लूट..रोज कट रही ग्राहकों की जेब

बिलासपुर—- पिछले 6 महीनों में कोरोना ने सबका हाल बेहाल कर दिया है। बावजूद इसके शहर के नामचीन हीरो होन्डा सर्विसिंग सेन्टर प्रबंधन ग्राहकों की जेब काटने बाज नहीं आ रहा है। सर्विसिंग कराने वालों से सेनेटाइजिंग के नाम पर 35 रूपए लिया जा रहा है। महीने में कम्पनी को सीधे सीधे दस लाख रूपए का मुनाफा होना बताया जा रहा है। बावजूद इसके ग्राहक मौन है। यही कारण है कि सर्विस सेन्टर प्रबन्धन के हौसले बुलन्द हैं। 
 
                            मामला शहर के एक नामचीन होन्डा सर्विस सेन्टर की है। यहां गाड़ी सर्विसिंग कराने वालों से सेनेटाइजिंग चार्ज लिया जा रहा है। एजेन्सी की तरफ से प्रत्येक ग्राहक से सेनेटाइजिंग के नाम पर 35 रूपए की दर से बलात वसूली हो रही है। मजेदार बात है कि  होन्डा सर्विस सेन्टर में कोरोना को ब्लीचिंग पाउडर से सेनेटाइज किया जाता है।
 
          शहर के एक प्रतिष्ठित होंडा सर्विस सेंटर में गाड़ी सर्विंसिंग कराने वाले ग्राहकों से सेनीटाइजिंग के नाम पर 35 रूपए की वसूली हो रही है। यह जानते हुए भी कि सेनेटाइजिंग जिम्मेदारी एजेंसी की होती है। बावजूद इसके भुगतान ग्राहकों से लिया जा रहा है।
 
          गाड़ी सर्विसिंग कराने के बाद एक ग्राहक ने बताया कि पहली बार पता चला कि सर्विस सेन्टर को कोरोना से सुरक्षा ग्राहक की जिम्मेदारी है। इसके लिए होन्डा एजेन्सी प्रबंधक सेनेटाइजिंग और सुरक्षा के नाम पर ग्राहकों की जेब काट रहे है। यह जानते हुए भी कि  दुकान, सर्विस सेंटर या फिर शोरूम ही क्यों ना हो….संचालक को अपने व्यय से संस्थान को सेनेटाइज कराना होता है। लेकिन यहां सेनेटाइज का जुर्माना ग्राहकों से लिया जा रहा है।
 
        ग्राहक ने बताया कि  होन्डा सर्विस सेन्टर में गाड़ी सर्विसिंग कराने गया था। सर्विंग के बाद प्रबंधन ने सर्विस और लेबर चार्ज के अलावा सेनेटाइजिंग चार्ज भी जोडकर लिया है। इससे यह जाहिर होता है कि कोरोना काल में होन्डा एजेन्सी ने सेनेटाइजिंग को भी व्यवसाय बना लिया है। इसका सीधा अर्थ यह है कि यदि  कोई टीवी फ्रिज कूलर खरीदने एजेन्सी गया तो तो उसे सामान के साथ सैनिटाइजिंग चार्ज देना होगा। 
 
        ग्राहक ने बताया कि होंडा सर्विस सेन्टर की शिकायत उपभोक्ता फोरम में करेंगे। क्योंकि सर्विस सेंटर में सेनेटाइजिंग के नाम पर ग्राहकों की जेब से हर महीने लाखों रूपए लूटा जा रहा है। यदि  राहक को इसी तरह सब जगह सेनेटाइजिंग चार्ज देना होगा तो जीना मुश्किल हो जाएगा। 
 
          दुर्भाग्य है कि लोग सब कुछ सहने को मजबूर हैं। शायद यही कारण है कि प्रशासन मौन है। जिसके चलते होन्डा सर्विस सेन्टर प्रबंधन के हौसले बुलन्द हैं। दोनो हाथ से ग्राहकों को लूटा जा रहा है। ग्राहक ने यह भी  बताया कि होन्डा एजेन्सी आने के बाद जानकारी हुई कि ब्लीचिंग पाउडर से सैनिटाइज होने पर कोरोना का प्रकोप खत्म हो जाता है। 
 
 रोजाना करीब 100 गाड़ी सर्विसिंग
 
            ग्राहक ने बताया कि एजेन्सी में रोजाना 100 गाड़ियों की सर्विसिंग होती है। इस तरह एजेन्सी में सेनेेटाइजिंग के नाम पर रोजाना 3500 रूपए का चपत ग्राहकों पर लगता है। यह आकंडा एक महीने में करीब दस लाख से अधिक होता है। मजेदार बात है कि यह गोरखधंधा पिछले तीन महीनों से चल रहा है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...