आईजी दीपांशु काबरा बोले – डिजिटल युग समाज में साईबर जागरूकता जरूरी, डी.पी. विप्र कॉलेज में वृहद वेबीनार

बिलासपुर । स्थानीय डी.पी.विप्र महाविद्यालय में गुरूवार को जिला पुलिस बल एवं डी.पी.विप्र महाविद्यालय बिलासपुर के एन.सी.सी. एवं एन.एस.एस तथा रेडक्रास सोसायटी के संयुक्त तत्वाधान में साइबर मितान अभियान पर वेबीनार का आयोजन रखा गया था। यह अभियान जिला पुलिस बल की ओर से एक सितंबर से 8 सितंबर तक चलाया ज़ा रहा है।

 कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में आई.जी. दीपांशु काबरा ने साइबर क्राईम को रोकने के लिए इस अभियान को आम जनता के लिए महत्वपूर्ण बताया ।  उन्होने कहा कि वर्तमान समय में डिजिटल युग समाज में साईबर जागरूकता जरूरी है। विशिष्ट अतिथि के रूप में डी.पी. विप्र महाविद्यालय के प्रशासन समिति के अध्यक्ष अनुराग शुक्ला ने कहा कि साईबर क्राईम के प्रति जागरूकता जैसे कार्यक्रम समाज के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा । जी.बी. मेंबर राजकुमार अग्रवाल ने कहा कि डी.पी. विप्र महाविद्यालय केवल एक संस्था नहीं है  । बल्कि यह एक विशाल एनजीओ की तरह समाज सेवा के क्षेत्र में एक समर्पित संस्था है ।  समाज के लिए हर क्षेत्र में एन.सी.सी. एवं एन.एस.एस. के छात्र जागरूकता लाने का प्रयास करते हैं। साईबर क्राईम के प्रति जागरूकता भी उसी दिशा में प्रयास है।

एन.सी.सी. के कर्नल रजनीश मेंहता कमान अधिकारी ने साईबर क्राईम मुक्त समाज की स्थापना करने की बात कही। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक उमेश कुमार कश्यप ने साईबर क्राईम करने वाले अपराध के संबंध में जानकारी दी। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. श्रीमती अंजू शुक्ला ने समाज में फैले हुए साईबर क्राईम  को  इलेक्ट्रानिक्स मटेरियल के माध्यम से वीडियो बनाकर जागरूक करने का संदेश राष्ट्रीय सेवा योजना एवं एन.सी.सी. के छात्र-छात्राओं को दिये जाने की बात कही। मुख्य प्रशिक्षक सत्येन्द्र पाण्डेय उपपुलिस अधीक्षक यातायात ने ए.टी.एम., डेबिट कार्ड तथा क्रेडिट कार्ड के माध्यम से होने वाले अपराध को रोकने के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारियॉ दीं।  साथ ही साथ आपने यह कहा कि बीमा फाईनेंस, नौकरी, लकी ड्रा के नाम से किसी भी व्यक्ति के द्वारा प्रदत्त बैंक खाता में पैसा जमा न करें। प्रशिक्षक के रूप में मो. कलीम खान पुलिस निरीक्षक सिटी कोतवाली ने साईबर क्राईम के प्रशिक्षण देते हुए लोंगो को कम्प्यूटर नेटवर्क प्रयोग की जानकारी के रूप में जागरूक करने की बात कही  । उन्होंने कम्प्यूटर या मोबाईल पर बैंक अथवा वाट्सेप एवं फेसबुक की जानकारी को सोच समझकर साझा करने की बात कही। ए.टी.एम. उपयोग करते समय अत्यंत ही बारीकी से सावधानी रखने की बात कही।

 संजय ध्रुव अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ने  ग्रामीण क्षेत्रों में साईबर मितान जागरूकता अभियान को नयी दिशा देते हुए फोन पर कभी भी अपने बैंक और ए.टी.एम. संबंधी जानकारी शेयर न करने की सलाह दी। कार्यक्रम का संचालन एन.सी.सी. अधिकारी ले.डॉ. आशीष शर्मा ने किया तथा आभार प्रदर्शन एन.एस.एस. प्रभारी डॉ. एम.एस. तम्बोली ने किया  ।

 इस वेबीनार को सफल बनाने के लिए कम्प्यूटर विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. विश्वास विक्टर, प्रो. ऋचा हाण्डा, एन.एस.एस. अधिकारी प्रो. रीना ताम्रकार, प्रो. यूपेश कुमार, रेडक्रास सोसायटी के अधिकारी डॉ. मनीष तिवारी, डॉ. विवेक अम्बलकर, डॉ. एम.एल. जायसवाल,  डॉ. आभा तिवारी, प्रो. किरण दुबे, प्रो. प्रदीप जायसवाल, प्रो. अनुपमा पाण्डेय , श्रीमती ऋचा शुक्ला, श्रीमती हर्षा तिवारी एन.सी.सी./एन.एस.एस. के छात्र-छात्रा विवेक वर्मा, रविशंकर श्रीवास, नीलिमा कैवर्त्य, लता श्रीवास का विशेष योगदान रहा।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...