कोरोना संक्रमित शव समेत अधिकारियों का घेराव..उग्र भीड़ को मनाने पहुंची पुलिस..कांग्रेस नेता ने कराया शांत..फिर लोगों ने उतारा निगम पर गुस्सा

बिलासपुर—-बीते कुछ दिनों से बिलासपुर में कोविड-19 से संक्रमित मरीजों की मृत्यु के बाद अंतिम संस्कार लिंगियाडीह स्थित श्मशान घाट में किया जा रहा है। कोरोना संक्रमित मृतकों का लगातार लिंगियाडाही श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किए जाने को लेकर स्थानीय लोगों का आक्रोश आज ज्वालामुखी बन गया। नाराज लोगों ने शव लेकर निकलने वाली गाड़ी का चक्काजाम कर दिया। स्थानीय पार्षद और जिला कांग्रेस अध्यक्ष की समझाइश पर लोगों का गुस्सा किसी तरह शांत हुआ। लेकिन तीन कोरोना संक्रमित शव का ही अंतिम संस्कार करने दिया।
 
                    लिंगियाडीह के लोगों ने आज यकायक कोरोना संक्रमित शव को लेकर श्मशान जा रही गाडी का घेराव कर दिया। इसके चलते प्रशासन में हलचल मच गयी। स्थानीय लोगों ने बताया कि श्मशान घाट में रोजाना कम से कम पांच संक्रमित शव का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। लागातार शिकायत के बाद भी प्रशासन ने ध्यान नहीं दिया। जबकि लोगों में कोरोना को लेकर भंयकर दहशत है। 
 
                           चक्काजाम के दौरान स्थानीय लोगों ने राजस्व अधिकारियों को भी घेर लिया। साथ ही मांग करने लगे कि संक्रमित शव का अंतिम संस्कार वही किया जाए। जहां का मरीज रहने वाला था। देखते ही देखते माहौल काफी तनावपूर्ण हो गया।  जानकारी मिलते ही जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी भी मौक पर पहुंच गए। उन्होंने पहले ग्रामीणों से और फिर शव लेकर पहुंचे प्रशासन के अधिकारियों से बात की। ग्रामीणों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से एक के बाद एक लगातार कोरोना संक्रमितों का अंतिम संस्कार स्थानीय श्मशान घाट में किया जा रहा है। इससे पूरे क्षेत्र में संक्रमण फैलने का खतरा है। हम किसी भी सूरत में तीनों शव क दाह संस्कार नहीं करने देंगे।
 
                  स्थानीय लोगों ने आक्रोश जाहिर करते हुए कहा कि प्रशासन ने लिंगियाडीह श्मशान घाट को कोविड संक्रमित लाशों के दाह संस्कार का केंद्र  बना दिया है। जिसके चलते श्मशान घाट के आसपास की झोपड़पट्टी में सैकड़ों गरीबों के बच्चे और परिवार पर संक्रमण का खतरा है। 
 
केशरवानी के प्रयास से लाशों का दाह संस्कार
 
             स्थानीय पार्षद और कांग्रेस जिला अध्यक्ष विजय केशरवानी ने बातचीत कर किसी तरह स्थानीय लोगों को समझाया। साथ ही लाय़ी गए शव को अंतिम संस्कार किए  जाने को लेकर लोगों को मनाया। केशरवानी ने मौके पर मौजूद एडिशनल एसपी उमेश कश्यप, डीएसपी निमिषा पांडे,नायब तहसीलदार नारायण गभेल समेत जिला प्रशासन और पुलिस अधिकारियों से चर्चा की। इस दौरान पार्षद संध्या तिवारी भी मौजूद थी।
 
             विजय केशरवानी ने अधिकारियों से चर्चा करने के बाद मोबाइल पर कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर को भी वस्तुस्थिति से अवगत कराया। जिला कांग्रेस अध्यक्ष ने इस दौरान कलेक्टर से निवेदन किया कि बिलासपुर में भी जोन वार कोरोना संक्रमित शव का अंतिम संस्कार का निर्णय लिया जाए। बातचीत के बाद विजय केशरवानी ने बताया कि कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर ने सुझाव को गंभीरता से लिया है। आश्वासन दिया है कि सुझाव पर प्रशासन गंभीरता से विचार करेगा।
 
गायब रहते हैं निगम अधिकारी
 
          नाराज स्थानीय लोगों ने बताया कि संक्रमित शवों के अंतिम संस्कार के समय नगर निगम का कोई भी अधिकारी कर्मचारी मौजूद नहीं रहता है। इसके पहले भी कोरोना संक्रमित शवों के दाह संस्कार के दौरान निगम कर्मचारी-अधिकारी  श्मशान घाट में नजर नहीं आए।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...