अनुमति के बाद अध्यक्ष के खिळाफ करेंगे केस..अजीत जोगी

IMG-20160103-WA0012रायपुर—पीसीसी अध्यक्ष ने पार्टी संविधान के बाहर जाकर मुझ पर और मेरे पुत्र पर आरोप लगाया है। मैने संविधान की मर्यादा का ध्यान रखते हुए पार्टी आलाकमान को पत्र लिखकर पीसीसी अध्यक्ष पर केस दर्ज करने की अनुमति मांगी है।
जिस व्यक्ति की बातों में आकर पीसीसी अध्यक्ष ने मुझ पर और अमित जोगी पर आरोप लगाया है वह आजीवन कारवास का सजायाफ्ता व्यक्ति है।  उसकी बातों पर विश्वास करते हुए हम पर आरोप लगाया गया है। जबकि बीके हरिप्रसाद और देवेन्द्र यादव बयान दे चुके हैं कि वो व्यक्ति केवल ब्लेकमेलर है, ऐसे में उसकी बातों पर यकीन कैसे किया जा सकता है। लेकिन  पर पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल ने उसकी बातों पर यकीन करते हुए हम पर इतना गंभीर आरोप लगा दिया है। यह बातें अंतागढ़ उपचुनाव में चुनाव लड़ रहे मंतुराम पवार टेप प्रकरण के संबंध में अपने आवास में बुलाई प्रेसवार्ता में छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कही।

पत्रकारों से रूबरू होते हुए जोगी ने कहा कि एक ऐसे ब्लास्ट न्यूज पोर्टल के संचालक के तथाकथित खुलासा कूट रचित असत्य एवं तथ्यहीन मामला है जिसमें अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मुख्य प्रवक्ता सुरजेवाला ने संपूर्ण प्रकरण की जांच सुप्रीम कोर्ट के सिटिंग जज से कराने की मांग की है। जोगी ने कहा कि हमने कोर्ट में मामला दर्ज कराया है। मामले की जांच होते तक छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह को इस्तीफा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि मंतुराम पवार उनके व्यक्तिगत तौर पर अच्छे मित्र हैं। उन्होंने मंतूराम को चुनाव लडऩे से मना किया था पर वो नहीं माने तो वो जाने। मैने रोकने की कोशिश नहीं की क्योंकि मुझसे पूछकर वो चुनाव नहीं लड़ रहे थे।

वापस नाम क्यों किया मंतूराम से ही पूछा जाना चाहिए। ब्लास्ट न्यूज पोर्टल द्वारा अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को राजद्रोही करार दिया गया है यह किस आधार पर दिया गया है इसकी भी कड़ी जांच होनी चाहिए। जोगी ने कहा कि इंडियन एक्सप्रेस ने अपने पूरे समाचार में कहीं भी टेप की बातों को सच नहीं माना है। 27 जगह उसने तथाकथित शब्द का प्रयोग किया है। बीबी कौन है यह हम नहीं जानते जांच का विषय है। इस व्यक्ति ने अमित जोगी को 23 बार मैसेज करके किताब की मांग की थी। किताब का मामला क्या है यह जांच के दौरान स्पष्ट हो जाएगा।

जोगी ने कहा कि अमित ने मैसेज मिलने के बारे में मुझे जानकारी देते हुए इस मामले की गंभीरता को प्रकट किया इसके उपरांत एडीजी इंटेलिजेंस अशोक जुनेजा को अमित जोगी ने लिखित में शिकायत की। मामला पूर्णत: फर्जी है यह टेप कांड मेरी और मेरे परिवार की छवि को आमजनों के बीच क्षति पहुंचाने की गंभीर घटना है।  उन्हें देश की न्यायपालिका पर पूर्ण भरोसा है आने वाले समय में न्यायिक जांच से यह स्पष्ट हो जाएगा कि बीबी कौन है और किताब का क्या मामला है।

जोगी ने पत्रकारवार्ता में बताया कि ऐसे व्यक्ति की बात पर भरोसा नहीं किया जा सकता जिसे हत्या के मामले मे आजीवन कारावास की सजा हुई है। पार्टी संविधान के अनुसार वे कार्य कर रहे हैं और कांग्रेस के निष्ठावान सिपाही हैं।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...