कुपोषण के खिलाफ सरकार की जंग..

aaganbari gurvata abiyan 2016 ka shubarab (14)बिलासपुर– जिले में आज से आंगनबाड़ी गुणवत्ता उन्नयन अभियान का आगाज हुआ है। अभियान 13 जनवरी 2016 तक चलेगा। इस अवसर पर आयोजित वृह्द कार्यक्रम में नगर निगम महापौर किशोर राय ने कहा कि कुपोषण मुक्त शहर एवं जिला बनाने के लिए जनभागीदारी आवश्यक है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों के सहयोग से जिले में कुपोषण दूर करने की बात कही। संभागायुक्त सोनमणि बोरा ने कुपोषण के खिलाफ लड़ाई के लिए इस अभियान को जनआंदोलन बनाने की अपील की।

                                   पं.देवकीनंदन दीक्षित सभागृह में आयोजित अभियान के शुभारंभ कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महापौर ने कहा कि किसी भी देश के विकास का पैमाना वहां शिक्षा और स्वास्थ्य के स्तर से जाना जाता है। भारत में आजादी के 67 वर्षों के बाद भी संसाधन की कमी, अशिक्षा, सामाजिक कुरीतियों के फलस्वरूप कुपोषण की समस्या है। आंगनबाड़ी केन्द्र कुपोषण को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकते हैं। छत्तीसगढ़ में लगभग 50 हजार आंगनबाड़ी केन्द्र है। इन केन्द्रों में शासन से मिलने वाली सुविधाओं से कुपोषण में कमी लायी जाएगी।

                                संभागायुक्त सोनमणि बोरा ने कहा कि आजादी के बाद भारत में पोषण और स्वास्थ्य के क्षेत्र में जटिल समस्याएं उत्पन्न हुई। इसे दूर करने में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने महत्वपूर्ण भूमिका है। आज आंगनबाड़ी केन्द्र सामाजिक समरसता का प्रतीक बन गया है। इन केन्द्रों में बच्चों को अनौपचारिक शिक्षा, स्वास्थ्य की देखभाल के साथ-साथ स्वच्छता के प्रति जागरूक करने और कुपोषण दूर करने के कार्यकिया जा रहा है। यह नौकरी नहीं बल्कि सेवा का कार्य है।  बोरा ने कहा कि बिलासपुर संभाग में 8 हजार 391 आंगनबाड़ी केन्द्र है। इन केन्द्रों के माध्यम से कुपोषण के खिलाफ लड़ाई के लिए समुदाय को भी जोड़ना होगा।

                                कलेक्टर अन्बलगन पी. ने बताया कि जिले में लगभग 2 लाख बच्चे कुपोषित हैं। यह जिले की जनसंख्या का लगभग 23 प्रतिशत है। अभियान के माध्यम से कुपोषण के खिलाफ लड़ाई में तेजी लाई जायेगी।  उन्होने कहा कि जिले में लगभग 7 हजार कुपोषित बच्चों को बाल मित्र गोद लेंगे।  योजना के जरिए कुपोषित बच्चों को सुपोषित करने का प्रयास किया जाएगा।

                         कार्यक्रम में नवाजतन योजना के तहत् कुपोषण के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाले सुपोषण मित्रों को शाल एवं श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में नगर निगम के पार्षद, एमआईसी सदस्य , जिले के आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...