मुलाकात के बाद हो सकता है मंत्रिमंडल में फेरबदल

raman
                        
                     रायपुर। प्रदेश मंत्रिमंडल में फेरबदल को लेकर पिछले काफी अरसे से चल रही अटकलों पर अब विराम लगने के संकेत मिल रहे हैं। जिसके मुताबिक बीजेपी आलाकमान इस  मामले में जल्दी ही फैसला कर सकता है। मुख्यमंत्री  डा. रमन सिंह प्रदेश भाजपा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक के ताजा दिल्ली दौरे को इससे जोड़कर देखने वालों का मानना है कि इस बार प्रदेश के नेता मंत्रिमंडल में फेरबदल को लेकर दिल्ली से किसी फैसले के साथ ही लौटेंगे। जिसे यह जाहिर हो जाएगा कि स्टेट केबिनेट में कौन तीन नए चेहरे शामिल हो रहे हैं। चूंकि मौजूदा मंत्रियों में से सभी का ओहदा बरकरार रखने  के फैसले पर करीब-करीब मुहर लगाई जा चुकी है। अलबत्ता नए मंत्रियों की शपथ के साथ ही मौजूदा मंत्रियों के महकमे जरूर बदल सकते हैं।

2013 के पिछले चुनाव के बाद जब से तीसरी बार डा.रमन सिंह की सरकार ने शपथ ग्रहण किया है, करीब उस समय से ही बीच-बीच में इस बात को लेकर अटकले लगाई जाती रहीं है कि मंत्रिमंडल में फेरबदल कब होगा और इसमें कौन से नए चेहरे शामिल होंगे। चूंकि उस समय  से ही मंत्रियों के तीन पद खाली हैं। इस बीच प्रदेश की कुछ घटनाओं और मंत्रियों के कामकाज के हिसाब- किताब की चर्चाओँ के साथ मंत्रिमंडल में पेरबदल की भी अटकलें लगाई जाती रहीं हैं।बिलासपुर के कानन पेंडारी में नसबंदी के दौरान महिलाओँ की मौत के बाद स्वास्थ मंत्री अमर अग्रवाल के हटने के कयासों को भी पंख लगते रहे। लेकिन सरकार में कुछ भी नहीं बदला। इसके बाद भी संभावनाएं तलाशी जाती रहीं और डा. रमन सिंह  भी कई बार खबरिया चैनलों पर सवालों के जवाब में जो बातें  कहते रहे उससे भी अनुमानों का दौर चलता रहा। फिर भी मामला जहाँ – का- तहां रहा।

लेकिन ताजा गतिविधियों पर नजर रखने वाले मानने लगे हैं कि मंत्रिमंडल में फेरबदल का यह मामला अब किसी फैसले के मुकाम तक पहुंचने की स्थिति में है। खबर यह है कि रविवार को मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह – प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष धरम लाल कौशिक औऱ संगठन महामंत्री रामप्रताप सिंह के साथ दिल्ली पहुंच रहे हैं। जहाँ बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और राष्ट्रीय सह- महामंत्री ( संगठन) सौदान सिंह के साथ उनकी मुलाकात का कार्यक्रम है। इस मुलाकात का मुख्य एजेंडा मंत्रिमंडल में फेरबदल ही है।सियासी हल्कों में माना जा रहा है कि इस मुलाकात से पहले ही यह करीब साफ हो गया है कि फेरबदल से किसी मौजूदा मंत्री की कुर्सी पर आँच नहीं आएगी। बल्कि मंत्रिमंडल के खाली पदों के लिए कुछ नए नामों पर मुहर लग सकती है। नए मंत्री के रूप में शामिल करने के लिए सरगुजा इलाके से भैया लाल राजवाड़े और बस्तर से महेश गागड़ा का नाम क्षेत्रीय संतुलन के हिसाब से वजनदार माना जा रहा है। इसी तरह पूर्व मंत्री दयालदास बघेल सहित शिवरतन शर्मा, देवजी भाई पटेल और युद्धवीर सिंह जूदेव के नाम भी संभावनाओँ हवाई उड़ान में शामिल हैं। माना जा रहा है कि बीजेपी के  स्टेट और नेशनल  नेताओँ की इस मुलाकात के बाद तस्वीर पर से धुंध पूरी तरह से छंट ही जाएगी।

वैसे इस कवायद के साथ ही प्रदेश के कुछ मंत्रियों का विभाग बदला जाना भी तय माना जा रहा है। इस तरह की चर्चाएं पहले भी रहीं है कि सरकार के वरिष्ठ मंत्री अमर अग्रवाल अपना स्वास्थ विभाग छोड़ने की पेशकस कर चुके हैं। उन्हे इसकी जगह उद्योग या कोई अन्य विभाग दिया जा सकता है। ऐसे ही कुछ और मंत्रियों को अब नए महकमें में काम करने का मौका मिल सकता है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *