रद्द हो सकती है विश्वविद्यालय की परीक्षा

IMG-20160308-WA0009बिलासपुर — बिलासपुर विश्वविद्यालय की परीक्षा रद्द हो सकती है। विभिन्न कक्षाओं के पेपर लीक होने और समेस्टर में बाहर से पूछे गए सवालो के कारण प्रबंधन ने परीक्षा रद्द करने का मन बना लिया है। छात्र सगंठन भी विश्वविद्यालय पर लगातार दबाव बना रहे हैं। छात्र संगठन ने ही पेपर लीक होने की सूचना प्रबंधन को दी थी। जिसके के बाद विश्वविद्यालय ने पेपर रद्द कर दिया। प्रबंधन ने मामले की शिकायत और जांच की मांग आईजी से की थी। गुरूवार को विश्वविद्यालाय प्रबंधन ने बैठक का आयोजन किया है। इसमें प्रश्न पत्र लीक होने के बारे में चर्चा होगी। संभावना जलाई जा रही है कि विश्वविद्यालय की परीक्षाएं रद्द भी हो सकती है।

                     बिलासपुर विश्वविद्यालय मे आयोजित परीक्षा में लगातार गड़बड़ी की शिकायते मिल रही हैं। छात्र संगठन एबीवीपी और एनएसयूआई ने कुलपति के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। 10 मार्च को विज्ञान संकाय के द्वितीय वर्ष का प्रश्नपत्र लीक होने के बाद छात्र संगठनों ने कॉलेज पहुंचकर जमकर हंगामा किया था। एबीव्हीपी ने परीक्षा निरस्त करने की मांग की थी। हाथ से लिखे प्रश्न पत्र को प्राथमिकता नहीं देते हुए प्रबंधन ने पेपर रद्द नही किया।

                        15 मार्च को आयोजित विज्ञान संकाय के प्रथम वर्ष का अंग्रेजी पेपर भी लीक हो गया। जिसके बाद छात्रों ने नाराजगी जाहिर की। पेपर लीक होने के बाद प्रश्नपत्र मीडिया के हाथ लग गया। सुबह जब परीक्षा दे रहे विद्यार्थियो के प्रश्नपत्र से जब वाट्सएप में मिले प्रश्नपत्र का मिलान किया गया तो सबकी आंखे फटी की फटी रह गयी। अंग्रेजी प्रश्न पत्र के सारे प्रश्न वाट्स पर कुछ घंटे पहले ही आ गए थे।

                           इसके बाद छात्र संगठनो ने विश्वविद्यालय पहुंचकर कुलसचिव का घेराव किया। पेपर को रद्द करने की मांग की। इस दौरान छात्रो ने  कुलपति और कुलसचिव के कार्यालय में तोड़-फोड़ भी की। कुलसचिव ने बीएससी अंग्रेजी की परीक्षा रद्द करना स्वीकार किया। मामले की शिकायत आईजी पवन देव से भी की गयी। विश्वविद्यालय ने कोतवली थाने में भी शिकायत की।

                            इस पूरे मामले में कुल सचिव अरूण सिंह ने बताया कि पेपर लीक कहा से हो रहा है इसकी जांच कराई जाएगी। विश्वविद्यालय के पास संसाधन नही है। पुलिस की मदद ली जा रही है। कुलसचिव ने कहा कि एक दिन पहले पेपर लीक होने की घटना को लेकर विश्वविद्यालय प्रबंधन की गुरूवार को बैठक बुलाई गयी है। इस दौरान परीक्षा को लेकर कुछ ठोस निर्णय लिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हो सकता है सभी संकाय की परीक्षा रद्द कर दिया जाए। दुबारा प्रश्न तैयार कर परीक्षा लेने का निर्णय हो सकता है।

                     उन्होने बताया कि पेपर लीक होने की घटना को प्रबंधन ने गंभीरता से लिया है। कुछ आडियो क्लिप भी मिले है जिसमें कौन सा पेपर चाहिए जैसी बातें सामने आयी हैं। आडियों की जांच पुलिस करेगी। हमने आई जी पवनदेव से निवेदन किया है। कोतवाली थाने में लिखित शिकायत भी की है। कुलसचिव अरूण सिंह ने कहा कि बैठक के बाद आगे की रूप रेखा तय की जाएगी। परीक्षा नियंत्रक पर कार्रवाई के सवाल पर कुलसचिव ने कहा की जांच के बाद जो भी दोषी होगा उस कार्रवाई होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *