राजिम में शराब बिक्री पर हो प्रतिबंध–जोगी

jogiरायपुर—छत्तीसगढ़ के पवन तीर्थ राजिम में पिछले कुछ दिनों से नगरपालिका अध्यक्ष के नेतृत्व में शराब दुकान के स्थान को लेकर जन आंदोलन चलाया गया। एक दिन पहले जिला प्रशासन ने प्रतिबंधात्मक कार्यवाही करते हुए शांतिपूर्ण आंदोलन करने वालों को गिरफ्तार किया। साथ ही आंदोलनकारियों से कहा गया कि आने वाले छह माह तक इस संदर्भ में कोई आंदोलन नहीं होगा। इससे जाहिर होता है कि अब भगवान राजिम लोचन की नगरी में शराब की खुलेआम बिक्री होगी। यह बातें प्रेस विज्ञप्ति कर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने दी है।

अजीत जोगी ने बताया कि संत पवन दिवान छत्तीसगढ़ के अस्मिता के प्रतीक थे। उन्होने लगातार प्रयास कर राजिम को पावन तीर्थ के रूप में स्थापित किया। उन्होने राजिम में शराब की बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की मांग की। हाल ही में पूज्य शंकराचार्य ने भी इसी मांग को दोहराया है। मध्यप्रदेश से अलग होने के बाद छत्तीसगढ़ का सबसे पावन तीर्थ राजिम है। अब  यहां प्रतिवर्ष करोड़ो रूपये का अनुदान देकर राज्य शासन कुम्भ का भी आयोजन कर रहा है। छत्तीसगढ़ के धर्मप्रेमी जनता भी यही चाहती है कि राजिम में पूर्ण शराबबंदी हो।

पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने  मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह से मांग की है कि प्रदेश के ढाई करोड़ लोगों की संवेदना और आस्था का सम्मान करते हुये राजिम में पूर्ण शराबबंदी की घोषणा करें। जोगी ने प्रदेश के धर्मप्रेमी लोगों से कहा है कि धर्मगुरूओं से आशीर्वाद लेकर शांतिपूर्ण एवं गांधीवादी आंदोलन प्रारंभ किया जाय।  जिसमें वे भी व्यक्तिगत रूप से शामिल होंगे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...