जोगी ने भूपेश को कहा शेखचिल्ली…

IMG_20160509_140440बिलासपुर—मरवाही विधायक अमित जोगी ने आज प्रेस वार्ता के दौरान पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल पर आक्रोशित होकर निशाना साधा है। जोगी ने कहा कि दिल्ली में दाल ही नहीं गलने से परेशान भूपेश बघेल प्रदेश में अब जाति का आंदोलन करने का एलान किया है। भूपेश महीने के 20 दिन दिल्ली में जोगी जोगी चिल्लाते  हैं। कोई सुनवाई नहीं होती तो स्वयं की संतुष्टि के लिए मुट्ठी भर लोगों के साथ एक तम्बू गाड़कर आंदोलन करते हैं। यह जताने के लिए कि वे दिल्ली में जोगी के खिलाफ मौहल बनाने में कामयाब हो रहे हैं।

                   जोगी ने कहा कि जब कांग्रेस संसदीय दल के नेताओं ने छत्तीसगढ़ में लोकतंत्र की हत्या की बात नहीं कि तो भूपेश और उनके चाटुकारों ने हाई कमान का नाम लेकर प्रदेश में अपनी डफली बजा रहे हैं। लोकतंत्र की बात करने वाले भूपेश पहले पार्टी के अंदर लोकतांत्रिक रूप से चुन कर आएं।

                            जोगी ने कहा कि साढ़े सात लाख पार्टी के प्राथमिक सदस्य बनाया किन्तु भूपेश ने फार्म जमा नही किया । चुनाव का नतीजा क्या होगा ये पता है इसलिए जोर लगा रहे हैं कि चुनाव ना हो और उनकी कुर्सी सलामत रहे।

               जोगी ने बताया कि भूपेश सरकार से कंधा से कंधा मिलाकर चल रहे हैं। जनता को मालूम है कि सेटिंग किसके बीच है। जल जंगल और जमीन का आंदोलन छोड़कर जोगी और जाति का आंदोलन की बात करना ही सरकार को वाक ओवर देना है।

झूठा प्रचार करने वाले भूपेश को बताना होगा कि लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री रहते हुए बिना निविदा के छः गुना ज्यादा कीमत पर जी.आई. पाईप किसने खरीदा। सरकार कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है। 12 बीपीएल परिवारों की जमीन दबाकर किसने दो मंजिला बनवाया। जानते हुए भी सरकार कार्रवाई नहीं कर रही है।

जोगी ने पत्रकारों से बताया कि  नेता प्रतिपक्ष के पिता ने सरगुजा में 53 एकड़ तालाब को सरकार के साथ सेटिंग कर समतल जमीन बना दिया है। 3 करोड़ रुपये प्रति एकड़ के भाव से कौन बेच रहा है। यह रिश्ता क्या कहलाता है।

                                अमित ने कहा कि प्रदेश की जनता बदतर स्थिति में है। युवा बेरोजगार घूम रहे हैं। मजदूर पलायन कर रहे हैं। लोगों को जोगी की जाति से नहीं बल्कि रोजगार और रोटी की जरूरत है।जोगी ने पत्रवार्ता के दौरान भूपेश को शेखचिल्ली भी कहा। जोगी ने बताया कि भूपेश ख्याली पुलाव पकाने में माहिर हैं।

                      जोगी ने कहा कि बाबा गुरुघासीदास जी की भ्रामक फोटो और अपमानित शब्दों वाली आपत्तिजनक पुस्तक का विरोध भूपेश ने क्यों नहीं किया। बाबा साहेब आंबेडकर की प्रतिमा को क्यों अपमानित किया। इसका जवाब उन्हें देना होगा।

               जोगी ने पत्रकारों को बताया कि भूपेश को पत्रवार्ता से फुरसत नहीं है। अभी तक 75 प्रेस कांफ्रेंस हो चुकी है। आशा है शतक मारेंगे।

                       अमित जोगी ने प्रेस वार्ता में यह नहीं बताया कि जिस गांव को वे गोद लिए हैं उसकी क्या हालत है। वहां के लोग उनका बेसब्री से तलाश कर रहे हैं। उन्होने सवाल को टालते हुए बाद में जवाब देने को कहा। जानकारी के अनुसार जिस गांव को जोगी ने गोद लिया है वहांं के लोग एक लीटर पानी के लिए दस किलोमीटर का सफर करते हैं।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...