एक दर्जन से अधिक कांग्रेसी गिरफ्तार

IMG-20160618-WA0062बिलांसपुर…. गृहमंत्री के कार्यक्रम का विरोध कर रहे कांग्रेस नेताओं को आज पुलिस ने गिरफ्तार कर कोनी थाना भेज दिया। साढ़े चार बजे सभी कांग्रेसी खुद के मुचलके पर रिहा भी हो गए। कार्यक्रम का विरोध कर रहे कांग्रेस नेताओं ने बतयाा कि प्रशासनिक हठधर्मिता ने आम लोगों के जीवन को नरक बना दिया है। आडिटोरियम में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन नहीं कराने की मांग के बाद भी प्रशासन ने कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया। कार्यक्रम स्थल तक पहुंचने के पहले ही पुलिस ने एक दर्जन से अधिक कांग्रेसी नेताओं को हिरासत में लेकर कोनी थाना भेज दिया।

                                                सिम्स सभागृह में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन का विरोध करने वाले एक दर्जन से अधिक कांग्रेसियों को पुलिस हिरासत में लेकर कोनी थाना भेज दिया। सम्मेलन के बाद करीब साढ़े चार बजे सभी कांग्रेसी खुद के मुचलके पर रिहा भी हो गए। कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा के स्थानीय नेतागण और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने हठधर्मीयता का परिचय दिया है। विरोध के बाद भी कार्यक्रम सम्मेलन का स्थान परिवर्तन नहीं किया। कांग्रेस ने एक दिन पहले कलेक्टर को पत्र लिखकर स्थान परिवर्तन करने की मांग की थी।

                             कांग्रेसियों ने बताया कि राजनीतिक कार्यक्रम से मरीज,अस्पताल प्रबंधन को परेशानी और यातायात की समस्या को देखते हुए कांग्रेस ने सिम्स में राजनीतिक सभा को अनुमति नहीं देने की मांग की थी। बावजूद इसके जिला प्रशासन ने निर्णय में परिवर्तन नहीं किया। भाजपा के नेताओं के दबाव में आकर सिम्स में कार्यकर्ता सम्मेलन किया गया

                             कार्यक्रम का विरोध करने दोपहर 2.30 बजे कांग्रेस भवन से शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर, प्रदेश सचिव महेश दुबे, संभागीय प्रवक्ता अभय नारायण की अगुवाई में कांग्रेस कार्यकर्ता सभागृह के लिए रवाना हुए। इसी बीच पुलिस ने कांग्रेस कार्यालय के सामने ही सभी कांग्रेसियों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के दौरान नगर पुलिस अधीक्षक लखन पटले से कांग्रेसियों की झ़ड़़प हुई। लेकिन पुलिस के आगे कांग्रेसियों की एक नहीं चली। पुलिस की टीम ने  पार्षद शैलेन्द्र जायसवाल, एस.डी. कार्टर, दीपांशु श्रीवास्तव, एनएसयूआई के सोहेल खलिक, राजीव बीग्रेड सुदीप आइस्टिन, शहर सचिव संजय चैहान, विक्की आहूजा, करम गोरख, मोहन गोल, प्रेमदास मानिकपुर समेत करीब एक दर्जन से अधिक कांग्रेसियों को गिरफ्तार कोनी थाना भेज दिया। 4.30 बजे के आसपास स्वयं के मुचलके पर सभी कांग्रेसियों को पुलिस रिहा भी कर दिया।

                                           प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, जिला अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला ने मेडिकल कालेज के सभा गृह में अनुमति प्रदान करने की निंदा करते हुए गिरफ्तारी को नाजायज बताया है। अटल और राजेन्द्र ने बताया कि शैक्षणिक संस्थान और अस्पताल को राजनीतिकरण और भगवाकरण से दूर रखना चाहिए। दोनो नेताओं ने कहा कि कार्यकर्ता सम्मेलन के लिए कई विकल्प थे। विकल्प को लेकर कांग्रेस को किसी प्रकार की परेशानी भी नहीं थी। पंडित दीक्षित भवन, त्रिवेणी सभागार जैसे स्थानों पर सभा की जा सकती थी। लेकिन जिला प्रशासन ने स्थानीय भाजपा नेताओं के दबाव में उच्च न्यायालय के आदेशों की अवहेलना की है। जिला प्रशासन उच्च न्यायालय का नाम लेकर अस्पताल की सड़क को अतिक्रमण मुक्त करने की बात करता है। आज 2 घण्टे तक लगातार प्रशासनिक अधिकारियों, भाजपा के कार्यकर्ता और नेताओं ने अस्पताल को हाइजैक कर लिया। इससे सैकड़ों मरीजों को परेशानी हुई है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...