जेल के पीछे पहुंचे नवजात बच्ची के गुनहगार

Central Jail Bsp Image.jpg (1)बिलासपुर—किसान परसदा तालाब किनारे लावारिश हालत में मिली बच्ची के गुनहगारों को आज न्यायालय में पेश किया गया। जानकारी के अनुसार बच्ची की हालत चिंताजनक है। पुलिस ने बच्ची को मौंत के मुंह में झोंकने वाले नानी समेत मामा और अन्य 6 लोगों को न्यायालय में पेश करने के बाद जेल भेज दिया है।

                                किसान परसदा में तालाब किनारे मिली बच्ची की हालत अभी चिंताजनक है। लोग उसे बचाने के लिए भगवान से लगातार प्रार्थना कर रहे  हैं। गोद लेने के लिए लोगों की लंबी कतार कलेक्टर कार्यालय और सिम्स के सामने खड़ी है।

                                            मस्तूरी पुलिस ने अपने सूचना तंत्र और बच्ची के शरीर से मिले तौलिया के सहारे सभी आरोपियों को हिरासत में लिया है। आरोपियों में नवजात की नानी,मामा और  6 अन्य लोग शामिल हैं। जानकारी के अनुसार पिता ने  बच्ची को अपनाने से इंकार कर दिया था। नाराज नानी टेटकी बाई ने जांजगीर चांपा जिला स्थित कुसमुंदा गांव जाते समय किसान परसदा के तालाब के मेड़ पर नवजात बच्ची को छोड़ दिया।जिसे बाद में गंभीर हालत में पुलिस ने सिम्स में भर्ती कराया था।

                       मस्तुरी पुलिस ने नवजात बच्ची की नानी टेटकी बाई, मामा राजेन्द्र यादव, राजेन्द्र के श्वसुर छोटे लाल, सास चैतीबाई , देव कुमारी का मौसा लेखराम यादव को हिरासत में लेने के बाद पूछताछ की। एसडीओपी नवीन चौबे ने बताया कि हिरासत में लिए गए सभी लोग नवजात बच्ची के गुनहगार हैं। चौबे के अनुसार नवजात बच्ची का पिता बलराम यादव को कार्रवाई से दूर रखा गया है। फिलहाल उसके खिलाफ प्रकरण में हमारे पास कोई पुख्ता सबूत नहीं है। आगे की जांच में यदि बलराम या उसका परिवार दोषी पाया जाता है तो उसे भी गिफ्तार किया जाएगा।

                       नवीन शंकर चौबे ने बताया कि गिरफ्तार किये गए सभी आरोपियों के खिलाफ सभी आरोरियो के धारा 317 का मामला दर्ज किया गया है। सभी को आज कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...