शिक्षको का सम्मान हमारी परंपरा है-महापौर

teachers_samaanबिलासपुर।शनिवार को नगरीय प्रशासन, उद्योग एवं वाणिज्यिककर मंत्री अमर अग्रवाल ने मुख्यमंत्री शिक्षा गौरव अलंकरण समारोह में उत्कृष्ट शिक्षकों सम्मान कार्यक्रम मे शामिल हुए।उत्कृष्ट शिक्षकों को सम्मान प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री शिक्षा गौरव अलंकरण योजना छत्तीसगढ़ शासन की अभिनव योजना है । जिसके तहत् हर वर्ष प्रत्येक विकासखण्ड में प्राथमिक, पूर्व माध्यमिक और उच्च व उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के सर्वश्रेष्ठ 3 शिक्षकों को पुरस्कृत किया जायेगा। उक्त कार्यक्रम में उच्च व उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के सर्वश्रेष्ठ शिक्षक को शिक्षाश्री सम्मान के तहत् 10 हजार रूपये, पूर्व माध्यमिक स्तर के सर्वश्रेष्ठ शिक्षक को ज्ञानदीप सम्मान के तहत् 7 हजार रूपये और प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों को शिक्षादूत सम्मान के तहत् 5 हजार रूपये का पुरस्कार प्रदान किया गया। इस कार्यक्रम में संभाग के 27 शिक्षकों को अग्रवाल के हाथों पुरस्कार और सम्मान प्राप्त हुआ।

                                                      निकाय मंत्री ने कहा कि शिक्षक का सम्मान राष्ट्र का सम्मान है। शिक्षक के प्रति जितना आदर भाव रहेगा। देश उतना ही आगे बढ़ेगा।साथ ही उन्होने यह भी कहा कि कहा कि समाज शिक्षा के बिना अधूरा है। हमारे समाज में धारणा है कि खेती-किसानी में लड़कों को और लड़कियों को घरों के काम में लगाया जाना चाहिए। लेकिन इस सोच को बदलने के लिए सरकार ने बहुत प्रयास किये हैं। शिक्षा के अधिकार कानून बनाकर शिक्षा देने और पाने का अधिकार दिया गया। शिक्षक उस क्षेत्र में सेवाएं दें रहे हैं जो भविष्य का निर्माण करते हैं। शिक्षक समाज का प्रतिष्ठित व्यक्ति माना जाता है। कठोर और अनुशासन रखने वाले शिक्षकों के प्रति अभिभावकों को श्रद्धा रखनी चाहिए, क्योंकि इससे उनके बच्चों का जीवन बनता है। प्रदेश सरकार ने शिक्षकों को सम्मानित करने के लिए संकल्प लिया और इस योजना की शुरूआत की। शिक्षक के प्रति जिम्मेदारी को ध्यान में रखना सरकार व समाज की जवाबदारी है।

                                                    कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए विधानसभा उपाध्यक्ष बद्रीधर दीवान ने कहा कि जिन शिक्षकों का सम्मान किया जा रहा है। वे इस सम्मान को आगे भी बनाएं रखें और शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी कार्य करें।

                                                   वहीं कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि नगर निगम के महापौर किशोर राय ने कहा कि शिक्षकों का सम्मान हमारी परंपरा है। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा शिक्षकों का सम्मान करने की परंपरा कायम की गई है। यह आगे आने वाली पीढ़ी को भी प्रेरणा देगी।

                                                    स्वागत उद्बोधन करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी हेमंत उपाध्याय ने उक्त कार्यक्रम के संबंध में प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि संभाग के 327 शिक्षकों को इस कार्यक्रम में सम्मानित किया जा रहा है। जिन्होंने बोर्ड परीक्षाआंे में शत्प्रतिशत रिजल्ट लाने के लिए अपना योगदान दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *