स्टार्ट अप और स्टैंड अप से युवा शुरू करेंगे खुद के उद्योग

3057रायपुर।मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने रविवार को रायपुर में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक समुदायों के उद्यमियों की संस्था ‘डॉ. बी.आर. आम्बेडकर इंडस्ट्रियलिस्ट, ट्रेडर्स एण्ड एण्टरप्रेन्योर्स (ब्राईट) एसोसिएशन छत्तीसगढ़ द्वारा आयोजित व्यापार सम्मेलन और कार्यशाला मे शामिल हुए।सीएम ने ने सम्मेलन और कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए इन वर्गों के युवाओं को उद्योग व्यापार के क्षेत्र में सफलता के लिए अपनी शुभकामनाएं दी और कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए आयोजकों को बधाई दी।

                                                           मुख्यमंत्री डॉ.सिंह ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्टार्ट अप और स्टैंड अप योजनाओं से देश के युवा स्वयं का उद्योग अथवा व्यापार शुरू कर आत्मनिर्भर बनेंगे। डॉ. सिंह ने कहा कि स्टैंड अप योजना में छत्तीसगढ़ के अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक समुदायों के युवाओं को भी उद्योग स्थापना के लिए हर संभव मदद मिलेगी।

                                                                   मुख्य अतिथि की आसंदी से शुभारंभ सत्र को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने अनुसूचित जाति, जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के युवा उद्यमियों को व्यापार, व्यवसाय एवं उद्योग लगाने के लिये मार्गदर्शन दिया।डॉ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्टैंडअप इंडिया एवं स्टार्टअप योजना शुरू की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई स्टैंडअप इंडिया योजना में अनुसूचित जाति एवं जनजाति के उद्यमियों के लिये खास प्रावधान किया गया है।

                                                               डॉ. सिंह ने कहा कि स्टैंडअप इंडिया योजना के अंतर्गत  बैंकों की सभी शाखाओं को अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के एक उद्योगपति तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई है। बैंक की सभी शाखाओं के लिये स्टैंडअप योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के एक उद्यमी को 10 लाख रूपये से एक करोड़ रूपये तक उद्योग लगाने वित्तीय संसाधन मुहैया कराना अनिवार्य कर दिया गया है।

                                                             मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत रत्न डॉ. भीमराव अम्बेडकर के जीवनमूल्य एवं सिद्धांतों को साथ लेकर ब्राईट संस्था द्वारा अनुसूचित जाति, जनजाति एवं पिछड़ा वर्ग के लोगों को उद्योग एवं व्यापार से जोड़ने का कार्य सफलतापूर्वक किया जा रहा है। उन्होने कहा कि डॉ. बीआर अम्बेडकर की अपनी धर्म, संस्कृति एवं मिट्टी के साथ आर्थिक विकास से जुड़ने की कल्पना अद्भुत है।

                                                           बाबा साहेब अम्बेडकर ने संविधान निर्माण के साथ आजादी के बाद भारत में उद्योग, व्यापार एवं नये टेक्नालॉजी के बल पर आधुनिक भारत के निर्माण में योगदान दिया। देश के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम पॉवर ग्रिड कार्पाेरेशन, नेविगेशन कार्पोरेशन एवं अंतर्राज्यीय जल परियोजनाओं दामोदर वैली, हीराकुंड डैम एवं सोननदी प्रोजेक्ट को साकार करने में उनका महत्वपूर्ण योगदान है।

                                                     सीएम ने ब्राईट संस्था द्वारा राज्य सरकार की औद्योगिक नीति, स्टार्टअप इंडिया एवं स्टैंडअप इंडिया योजना की जानकारी समाज के कमजोर वर्ग के लोगों तक पहुंचाने जिला एवं विकासखंड स्तर पर कार्यशाला के आयोजन पर प्रसन्नता जताई। उन्होने कहा कि इससे उद्योग एवं व्यापार करने के इच्छुक युवाओं को केंन्द्र एवं राज्य शासन की योजनाओं एवं सुविधाओं की जानकारी मिलेगी।छत्तीसगढ़ की औद्योगिक नीति, देश की सबसे अच्छी औद्योगिक नीति है। हमने उद्योग स्थापना के लिये प्रक्रियाओं को सरलीकृत कर एकल खिड़की प्रणाली को अपनाया है। छत्तीसगढ़ के विकसित औद्योगिक क्षेत्रों में अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के उद्यमियों के लिये 25 प्रतिशत एवं अविकसित औद्योगिक क्षेत्रों में इन वर्गाें के लिये 50 प्रतिशत प्लॉट आरक्षित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *