दिग्विजय सिंह छत्तीसगढ़ विरोधी…अमित

T1रायपुर—मरवाही विधायक अमित जोगी ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बयान की निंदा की है। बयान में दिग्विजय सिंह ने कहा है कि आंध्र पुनर्गठन अधिनियम एक्ट 2014 के तहत केंद्र सरकार पोलावरम बांध निर्माण के लिए बाध्य है। निर्माण की जिम्मेदारी भी उसे ही लेनी चाहिए। जल्द से जल्द बाँध का निर्माण पूरा किया जाना चाहिए। छत्तीसगढ़.ओडिशा की सीमा मलकानगिरी में एक दिन पहले छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस जोगी और बीजू जनता दल के संयुक्त विरोध प्रदर्शन के बाद हैदराबाद में दिग्विजय सिंह ने पोलावरम के समर्थन में बयान दिया है। अमित जोगी ने कहा कि बस्तर के 45 हज़ार लोगों पर डूबने का खतरा मंडरा रहा है। दिग्विजय सिंह संवेदनहीन बयानबाजी कर रहे हैं।

                                      अमित जोगी ने कहा कि दिग्विजय सिंह की मानसिकता छत्तीसगढ़ विरोधी रही है। कन्हेर बांध का निर्माण का शिलान्यास भले ही 1976 में हुआ। लेकिन इसके लिए एक सहमति अविभाजित मध्यप्रदेश सरकार ने 17 मार्च 1999 को दी। उस समय दिग्विजय सिंह ही मुख्यमंत्री थे। 1999 के  पत्र का उल्लेख मई 2015 में छत्तीसगढ़ शासन ने उत्तर प्रदेश शासन को भेजे गए पत्र में किया है। कांग्रेस की दिग्विजय सिंह सरकार ने यह जानते बूझते हुए की।  बांध से  छत्तीसगढ़ के बलरामपुर.रामानुजगंज जिले का 30 फीसदी हिस्सा डूबान में आएगा। बावजूद इसके परियोजना को सहमति दे दी गयी। यही गलती 2010 में रमन सरकार ने सहमति देकर की। यह इस बात का प्रमाण है कि कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टी छत्तीसगढ़ की उपेक्षा करते हैं।

                        अमित जोगी ने दिग्विजय सिंह से ट्वीट कर कहा कि वो अपने असंवेदनशील ब्यान के लिए बस्तर के लोगों से माफ़ी मांगें। छजकां के पोलावरम आन्दोलन के बाद आपका पोलावरम के समर्थन में बयान देना दरअसल छजकां के जनांदोलनों को मिल रहे भारी जनसमर्थन के प्रति बौखलाहट है।

 

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...