ट्रेनो की स्पीड बढ्ने से बचेगा समय

railwaal_picasa- Copyबिलासपुर।दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे द्वारा किये जा रहे ढांचागत विकास कार्य के तेजी से पूरे किये जाने के प्रयास किये जा रहे है। सिलयारी एवं उरकुरा के मध्य 18.10 किलोमीटर तीसरी लाईन का निर्माण पूरा कर परिचालन के लिए खाला गया। प्रकार चांपा, झाारसुगुडा के बीच भी तीसरी लाईन का निर्माण किया जा रहा है, जिसमें से सारागांव से खरसिया तक के नवनिर्मित रेल लाईन को कमीशन किया गया है, जिसके कारण से परिचालन क्षमता में वृद्रि हुई है। इन तीसरी लाइनों के निर्माण के फलस्वरुप क्षमता में बढ़ोत्तरी हुई एवं यात्री गाडियों के परिचालन समय में कमी लायी गई है। 01 अक्टूबर, 2016 से नई समय सारणी में इस कारण यात्रा समय में कमी की गई है।

                                           पिछले सालो में नागपुर से होकर झारसुुगुडा़ मेन लाइन सहित कटनी खंड व अन्य दूर-दराज के सेक्शनों में सुविधाओं में बढ़ोत्तरी की गई है। इसके अलावा अनेक पूर्व खंडांे के पातो की क्षमता भी बढाये जाने के कारण जहाॅ एक ओर ट्रेनों की गति में बढ़ोत्तरी की जा सकी है वही दूसरी और माल परिचालन के क्षेत्र में भी इसका सीधा सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। आने वाली दिनों में यदि तीसरी लाइनों का निर्माण कार्य पूर्ण हो जाएगा तो और भी नयी ट्रेनों के साथ यात्रियों को अधिकाधिक सुविधा प्रदान की जा सकेगी।

                                           01 अक्टूबर, 2016 से लागू होने वाली रेलवे समय सारणी में 23 से अधिक ट्रेनों की गति बढ़ाकर गंतव्य तक पूर्व के समय सारणी से पहले पहुचाने में सफलता पाई है। जिससे यात्री अपने कार्य को रेल का उपयोग करते हुए तेजी से संपन्न कर सकने में सफल होगे, इस प्रकार इस अंचल की तरक्की में रेल अपनी सकारात्मक भागीदारी बखूबी निभा रही है। 01 अक्टूबर, 2016 से लागू होने वाले समय सारणी में मेल, एक्सप्रेस एवं पैसेंजर, लोकल, ट्रेनों की यात्रा समय में कुल 375 मिनटों की बचत की जा रही हैं, जिससे रोज़  सवा छः घण्टो की परिचालनिक बचत होगी।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...