दो दिनों तक होगा मानव तस्करी पर चिंतन

high court cg

बिलासपुर— उच्च न्यायालय छत्तीसगढ़,राज्य विधिक सहायता,यूनिसेफ के संयक्त तत्वावधान में मानव तस्करी विषय पर दो दिवसीय अंतर्राज्यीय कार्यशाला का आयोजन बिलासपुर हाइकोर्ट में किया जा रहा है। शनिवार को कार्यशाला का शुभारम्भ छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस नवीन सिन्हा और वन मंत्री महेश गागड़ा समेत गणमान्य लोगों की उपस्थित में किया जाएगा। दो दिवसीय अंतर्राज्यीय कार्यशाला में बिहार,उडीसा,झारखण्ड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश भी उपस्थित रहेंगे।

             मानव तस्करी पर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय में 13 जून से दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। कार्यक्रम के पहला सत्र सुबह 9 बजे से शुरू होगा। पहले सत्र में अतिथियों का स्वागत, दीप प्रज्जवलन के बाद जस्टिस थोइस जस्टिस टी.पी.शर्मा वन मंत्री महेश गागड़ा और छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस नवीन सिन्हा क्रमशः कार्यशाला को संबोधित करेंगे। दूसरा सत्र दोपहर डेढ़ बजे से चार बजे तक होगा। तीसरा चार बजकर पन्द्रह मिनट से शुरू होकर शाम पांच समाप्त होगा। इसके बाद साढ़े सात बजे से साढ़े आठ बजे के बीच सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया जाएगा।

                 कार्यशाला में मुख्य न्यायाधीश जस्टिस नवीन सिन्हा,मुख्य संरक्षक छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, महेश गागड़ा ,वन एवं विधायी मंत्री राज्य सरकार ,न्यायमूर्ति टी.पी.शर्मा कार्यपालक अध्यक्ष छत्तीसगढ़ राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण,न्यायमूर्ति प्रशांत मिश्रा चेयरमेन उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति डॉ.जोसिम थेईस मुख्य बाल सुरक्षा अधिकारी यूनिसेफ विशेष रूप से शामिल होंगे। कार्यशाला में उडीसा,झारखण्ड बिहार के न्यायाधीश भी उपस्थित रहेंगे।

कार्यशाला में शताब्दि सुबोध पाण्डे भी करेंगी शिरकत

             हाईकोर्ट में आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला में छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष शताब्दी सुबोध पाण्डे भी शिरकत करेंगी। पहले दिन के कार्यक्रम में शिरकत के बाद आयोग की अध्यक्ष शताब्दी सुबोध पाण्डेय रात्रि छत्तीसगढ़ भवन में विश्राम करेंगी। 14 जून को अंतर्राज्यी कार्यशाला में शिरकत करने के बाद दोपहर 2 बजे रायपुर रवाना होंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *