कर्मचारियों को मिला रेल सुरक्षा के टिप्स…लाखों का जुर्माना

railwaal_picasa- Copyबिलासपुर—–वाणिज्य प्रबंधक रश्मि गौतम और के.सी.स्वाइन की अगुवाई में रेलवे की फ्लाइंग टीम ने रायगढ स्टेशन में किलाबंदी टिकट चेकिंग अभियान चलाया गया।  अभियान में सीसीआई, सीटीआई, टीटीई समेत आरपीएफ स्टाफ भी शामिल हुआ। टीम ने 24 गाडियों में टिकट चेकिंग अभियान चलाया। टिकट चेकिग अभियान के दौरान कुल 500 मामलों में करीब सवाल लाख रूपयों का जुर्माना लगाया गया। बिना टिकट के 99,अनियमित टिकट के 116,बिना बुक लगेज के 280, टिकट श्रेणी परिवर्तन के एक और गंदगी फैलाने के 4 मामले दर्ज किये गए।

फाटक मरम्मत
दक्षिण पूर्व मध्य रेल प्रशासन ने जयरामनगर यार्ड स्थित मानव सहित समपार फाटक को 25 फरवरी 7.30 बजे से शाम 7.30 बजे तक बंद करने का निर्णय किया है। इस दौरान आवश्यक मरम्मत कार्य किया जाएगा। यात्रियों की परेशानियों को देखते हुए सडक यातायात की वैकल्पिक व्यवस्था परसदा फाटक और पाराघाट फाटक से किया गया है।

                                       इसी तरह वेंकटनगर यार्ड स्थित खैर खोडरी फाटक को 26 फरवरी रविवार को सुबह 8 बजे से शाम 6.00 बजे तक बंद रखा जाएगा। यातायात की वैकल्पिक व्यवस्था हर्री-वेंकटनगर स्टेशनों के बीच भस्कुरा फाटक से किया गया है।

बाराद्वार में संरक्षा संगोष्ठी

बिलासपुर रेल मण्डल के बाराद्वार स्टेशन में संरक्षा संगोष्ठी का आयोजन किया गया। पी.एन.खत्री वरि. मंडल संरक्षा अधिकारी, अनिल कुमार उप मुख्य संरक्षा अधिकारी, पंकज शर्मा सहा.संकेत एवं दूरसंचार अभियंता चांपा, एस.के.माथूर सहायक मंडल अभियंता कार्यक्रम में विशेेष रूप से उपस्थित थे। संगोष्ठी में संरक्षा सलाहकार, स्टेशन मास्टर, चालक, परिचालक, गार्ड, फिटर, एसएसई, जेई, डीटीआई, पाइंटमैन ,गेटमैन समेत 100-150 रेल कर्मचारियों ने भाग लिया।

              संरक्षा संगोष्ठी में कुहांसा के दौरान आवश्यक सावधानियों के बारे में बताया गया। स्टेशन मास्टर के कर्तव्यो, सिग्नल और पाइंट्स खराब होने पर स्टेशन मास्टर की जिम्मेदारियों के बार में जानकारी दी गयी। स्टेशन में गाडियों को रोकते समय सुरक्षा नियमों के बारे में बताया गया। मशीन ब्लाॅक के समय टावर वेगन में कार्य के दौरान होने वाली सावधानियां, पेट्रोलिंग के समय जिम्मेदारियों, गेटमेन के कर्तव्य, हाॅट एक्सल फ्लेट टावर और डोर की सुरक्षा के बारे में वरिष्ठ अधिकारियों ने आवश्यक बिन्दुओं पर चर्चा की।

                              इंजीनियरिंग ब्लाॅक के दौरान मशीनों की वर्किंग, रेल फ्रेक्चर की स्थिति में ट्रेक की सुरक्षा, सिग्नल की खराबी, रखरखाव के समय बरतने वाली सावधानियों, लोडिंग अनलोडिंग पाइंट्स पर वैगन के दरवाजों का सही ढंग से बंद होना सुनिश्चित करने को कहा गया। ब्लाॅक सेक्शन में गाडी के स्टाल होने पर ड्राइवर का काम , नाॅन-सिग्नलिंग में गाडी चलाने के दौरान चालक और सहायक चालकों का कर्तव्य  जैसे अनेक मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...