सामान्य सभाः जनप्रतिनिधियों ने मांगा बीमा और धनिया का हिसाब

IMG20170227135018बिलासपुर—जिला पंचायत सामान्य सभा की बैठक में दस महत्वपूर्ण विन्दुओ पर गरमा गरम चर्चा हुई। जनप्रतिनिधियो ने अधिकारियों पर दबाव बनाया। काम में लेट लतीफी के अलावा भ्रष्टाचार का आरोप भी लगाया। सामाजिक वानिकी के संचालक मिश्रा को दो टूक कहा कि बिना तैयारी के सामान्य सभा में ना आएं। इस दौरान सीईओ पर भी अधिकारियों को बचाने का आरोप जनप्रतिनिधियों ने लगाया। सवाल जवाब के पहले सीईओ जय प्रकाश मौर्य ने लोक सुराज अभियान की विस्तृत जानकारी दी।

                                              जिला पंचायत सामान्य सभा हमेशा की तरह शोर शराबा वाला रहा। सामाजिक वानिकी विभाग के संचालक को रमेश कौशिक और जितेन्द्र पाण्डेय ने जानकारी पूरी नहीं देने पर जमकर फटकारा। सवाल जवाब के दौरान संचालक मिश्रा ने एक सवाल के दो जानकारी देकर जनप्रतिनिधियों को भ्रम में डाल दिया। पहले तो मिश्रा ने बताया कि जिले के सभी विकासखण्डों में धनिया बीज का वितरण कर दिया गया है। जब क्षेत्र और मात्रा की जानकारी देने को कहा गया तो सामाजिक  वानिकी अधिकारी ने पहले सवाल के उलट बताया कि धनिया का वितरण अभी नहीं किया गया है।

                      रमेश कौशिक और जितेन्द्र पाण्डेय ने संचालक से कहा कि जिले के किसी एक गांव और मात्रा की जानकारी दें जहां धनिया का वितरण किया गया है। लेकिन संचालक मिश्रा ने संतोषप्रद जवाब नहीं दिया। उन्होने कहा कि आने वाले समय में इसका ध्यान रखा जाएगा। इतने सुनते ही जनप्रतिनिधि भड़क गए। विभाग पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि किसानों की धनिया अधिकारियों ने पचा लिया। धनिया का ना तो वितरण किया गया और विश्वास है कि किया भी नहीं जाएगा।

                             फसल बीमा को लेकर जनप्रतिनियों ने कृषि विभाग अधिकारी को जमकर फटकारा। रमेश कौशिक ने कहा कि अभी तक किसानों को नुकसान का हर्जाना क्यों नहीं दिया गया। कृषि अधिकारी ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार एनजीओ कंपनी को सर्वे की जिम्मेदारी दी गयी है। रिपोर्ट के अनुसार फसल बीमा का वितरण किया जाएगा। इस साल फसल ठीक हुई है। इसलिए बीमा वितरण का सवाल ही नहीं उठता है।

                           जितेन्द्र पाण्डेय ने सरकार और एनजीओ पर मिली भगत का आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले साल तक ब्लाक को यूनिट बनाकर फसल नुकसान पर बीमा देने की बात कही गयी थी। इस बार पंचायत को यूनिट बनाया गया है। यदि पंचायत में टारगेट के अनुसार फसल उत्पादन होता है तो बीमा नहीं दिया जाएगा। चाहे छोटे किसानों की फसल बरबाद ही क्यों नहीं हो गयी हो। इससे जाहिर होता है कि सरकार को किसानों की नहीं केवल बीमा वालों की चिंता है। छोटे किसानों की फसल बरबाद हो गयी है तो उनकी बला से।

                                   सामान्य सभा के दौरान धान खरीदी और भुगतान को लेकर भी चर्चा हुई। जिला सहकारी बैंक के कर्मचारी ने बताया कि सरकार से रूपए मिलने के बाद किसानों का भुगतान किया जाएगा। वन विभाग अधिकारी एच बी खान ने भी प्रतिनिधियों के सवालों का जवाब दिया। सीएचएमओ डॉ बोर्डे ने बताया कि उन कर्मचारियों पर कार्रवाई की जाएगी जिनकी लापरवाही से प्रसव के दौरान महिला की मौत हो गयी। पता लगाया जाएगा कि आखिर संस्थागत प्रसव के लिए उसे क्यों नहीं लाया गया।

                                               लोकनिर्माण विभाग के एक्जक्यूटिव इंजीनियर मधेश्वर प्रसाद ने सड़कों की जानकारी दी। सामान्य सभा में आरएमकेके का भी मुद्दा उठा। मधेश्वर प्रसाद ने बताया कि सड़कों को जल्द ही ठीक कर लिया जाएगा। टेन्डर निकाला गया है। कुछ सड़कों का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...