कांग्रेस ने किया हंगामा..जोगी ने छिड़का गंगाजल

jogi_febरायपुर–  विधानसभा में आबकारी नीति संशोधित अध्यादेश रखे जाने का अमित जोगी ने छत्तीसगढ़ के लिए काला दिन कहा है। जोगी ने कहा कि विपक्षी दल ने अध्यादेश पटल पर रखे जाने के समय बारदाने का मुद्दा उठाकर भाजपा का समर्थन कर जनता के साथ धोखा किया है। जबकि यह मुद्दा कभी भी उठाया जा सकता था।

           सदन में आज बारदाने के मुद्दे पर कांग्रेसी विधायकों ने शोर शराबा और नारेबाजी की। जोगी ने कहा कि यह सुनियोजित प्लान था। आबकारी नीति संशोधन विधेयक पास होने पर कांग्रेस और भाजपा में मिलीभगत का खेल बताया । जोगी ने कहा कि अध्यादेश पर संशोधन प्रस्ताव लेकर आयेंगे।

                               सदन में सरकार के आबकारी अध्यादेश का विरोध करते हुए विधायक अमित जोगी सियाराम कौशिक और आर के राय ने अंदर और विधानसभा के बाहर समेत मुख्यमंत्री के चैम्बर में गंगाजल छिड़का। अमित जोगी ने कहा कि लोकतंत्र के मंदिर के अंदर बैठे सभी विधायक पुजारी की तरह होते हैं। जनता की सेवा के लिए आराधना करते हैं। लेकिन पवित्र स्थान में खड़े होकर सरकार शराब बेचने का जनविरोधी निर्णय लिया गया। इसलिए शुद्धोदक स्नानम समर्पयामि की तर्ज पर पवित्र गंगाजल छिड़ककर मंदिर को पवित्र करने का हमने प्रयास किया है।

                        अमित जोगी ने कहा है कि अगर प्रमुख विपक्षी दल शराबबंदी के मुद्दे को लेकर गंभीर है तो दो सवालों का जवाब दे। धान खरीदी के दौरान बारदाने की कमी के मुद्दे पर आज ही स्थगन क्यों लाया गया। आबकारी निति अध्यादेश को पटल पर रखे जाने के समय ही क्यों लाया गया। जबकि अभी सत्र का पूरा पूरा समय बाकी है। नियमानुसार सरकार के विरुद्ध स्थगन ध्यानाकर्षण और अविलंबनीय लोकमहत्व के विषयों पर चर्चा कराना या ना कराना स्पीकर का विशेषधिकार होता है। अविश्वास प्रस्ताव ऐसा सशक्त हथियार है…10 प्रतिशत विधायकों की सहमति मिल जाए तो स्पीकर को मजबूरन सदन मुद्दे पर चर्चा करानी पड़ती।शराबबंदी समेत किसानों के और अन्य सभी जनहित मुद्दों पर सरकार का पर्दाफाश करने अविश्वास प्रस्ताव क्यों नहीं लाया जा रहा है। जबकि सरकार के मंत्री और कुछ विधायक पूर्ण शराबबंदी का समर्थन कर चुके हैं।

                     जोगी ने कहा कि जिस तरह अंग्रेजों के मार्च महीने में रोलेट एक्ट का विरोध राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने किया था।  उसी तरह बापू के आदर्शों पर चलकर हम सरकार के छत्तीसगढ़ आबकारी निति अध्यादेश संशोधित 2017 का विरोध करेंगे

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...